किछु महत्वपूर्ण मंत्र – जीवनोपयोगी साधना मंत्र जाप सँ सिद्धि लेल सर्वोपयोगी

विभिन्न शास्त्र आ धर्म (यथा हिन्दू, जैन, बौद्ध आदि) मे उपयोग मे रहल व्यवहारिक मंत्रक संकलन

१. गणपति स्तुति

सरागिलोकदुर्लभं विरागिलोकपूजितं सुरासुरैर्नमस्कृतं जरापमृत्युनाशकम् ।
गिरा गुरुं श्रिया हरिं जयन्ति यत्पदार्चकाः नमामि तं गणाधिपं कृपापयः पयोनिधिम् ॥ १॥
गिरीन्द्रजामुखाम्बुज प्रमोददान भास्करं करीन्द्रवक्त्रमानताघसङ्घवारणोद्यतम् ।
सरीसृपेश बद्धकुक्षिमाश्रयामि सन्ततं शरीरकान्ति निर्जिताब्जबन्धुबालसन्ततिम् ॥ २॥
शुकादिमौनिवन्दितं गकारवाच्यमक्षरं प्रकाममिष्टदायिनं सकामनम्रपङ्क्तये ।
चकासतं चतुर्भुजैः विकासिपद्मपूजितं प्रकाशितात्मतत्वकं नमाम्यहं गणाधिपम् ॥ ३॥
नराधिपत्वदायकं स्वरादिलोकनायकं ज्वरादिरोगवारकं निराकृतासुरव्रजम् ।
कराम्बुजोल्लसत्सृणिं विकारशून्यमानसैः हृदासदाविभावितं मुदा नमामि विघ्नपम् ॥ ४॥
श्रमापनोदनक्षमं समाहितान्तरात्मनां सुमादिभिः सदार्चितं क्षमानिधिं गणाधिपम् ।
रमाधवादिपूजितं यमान्तकात्मसम्भवं शमादिषड्गुणप्रदं नमामि तं विभूतये ॥ ५॥
गणाधिपस्य पञ्चकं नृणामभीष्टदायकं प्रणामपूर्वकं जनाः पठन्ति ये मुदायुताः ।
भवन्ति ते विदां पुरः प्रगीतवैभवाजवात् चिरायुषोऽधिकः श्रियस्सुसूनवो न संशयः ॥ ६॥

२. शनि स्तोत्र (दशरथ कृत)

नमः कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठनिभाय च। नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नमः ।।

नमो निर्मास देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च। नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते।।

नमः पुष्कलगात्राय स्थूलरोम्णेऽथ वै नमः। नमो दीर्घायशुष्काय कालदष्ट्र नमोऽस्तुते।।

नमस्ते कोटराक्षाय दुर्निरीक्ष्याय वै नमः। नमो घोराय रौद्राय भीषणाय कपालिने।।

नमस्ते सर्वभक्षाय वलीमुखायनमोऽस्तुते। सूर्यपुत्र नमस्तेऽस्तु भास्करे भयदाय च।।

अधोदृष्टे: नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तुते। नमो मन्दगते तुभ्यं निरिस्त्रणाय नमोऽस्तुते ।।

तपसा दग्धदेहाय नित्यं योगरताय च। नमो नित्यं क्षुधार्ताय अतृप्ताय च वै नमः।।

ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपात्मज सूनवे। तुष्टो ददासि वै राज्यं रुष्टो हरसि तत्क्षणात् ।।

देवासुरमनुष्याश्च सिद्घविद्याधरोरगाः। त्वया विलोकिता: सर्वे नाशंयान्ति समूलतः।।

प्रसाद कुरु मे देव वाराहोऽहमुपागत। एवं स्तुतस्तद सौरिग्रहराजो महाबलः।।

३. शिव स्तुति

सदा-शंकरं, शंप्रदं, सज्जनानंददं, शैल – कन्या – वरं, परमरम्यं ।
काम – मद – मोचनं, तामरस – लोचनं, वामदेवं भजे भावगम्यं ॥१॥
कंबु – कुंदेंदु – कर्पूर – गौरं शिवं, सुंदरं, सच्चिदानंदकंदं ।
सिद्ध – सनकादि – योगींद्र – वृंदारका, विष्णु – विधि – वन्द्य चरणारविंदं ॥२॥
ब्रह्म – कुल – वल्लभं, सुलभ मति दुर्लभं, विकट – वेषं, विभुं, वेदपारं ।
नौमि करुणाकरं, गरल – गंगाधरं, निर्मलं, निर्गुणं, निर्विकारं ॥३॥
लोकनाथं, शोक – शूल – निर्मूलिनं, शूलिनं मोह – तम – भूरि – भानुं ।
कालकालं, कलातीतमजरं, हरं, कठिन – कलिकाल – कानन – कृशानुं ॥४॥
तज्ञमज्ञान – पाथोधि – घटसंभवं, सर्वगं, सर्वसौभाग्यमूलं ।
प्रचुर – भव – भंजनं, प्रणत – जन – रंजनं, दास तुलसी शरण सानुकूलं ॥५॥

४. सरस्वती मंत्र

ॐ अर्हम् – मुख कमलवासिनी पापात्क्षयंकारी वद-वद-वाग्वादिनी सरस्वती ऐं ह्रीं नमः स्वाहा!

५. वैरिनाशनं कालीकवचम्

◆ अथ वैरिनाशनं कालीकवचं ।

कैलास शिखरारूढं शङ्करं वरदं शिवम् ।
देवी पप्रच्छ सर्वज्ञं सर्वदेव महेश्वरम् ॥ १॥

श्रीदेव्युवाच
भगवन् देवदेवेश देवानां भोगद प्रभो ।
प्रब्रूहि मे महादेव गोप्यमद्यापि यत् प्रभो ॥ २॥

शत्रूणां येन नाशः स्यादात्मनो रक्षणं भवेत् ।
परमैश्वर्यमतुलं लभेद्येन हि तद् वद ॥ ३॥

वक्ष्यामि ते महादेवि सर्वधर्मविदाम्वरे ।
अद्भुतं कवचं देव्याः सर्वकामप्रसाधकम् ॥ ४॥

विशेषतः शत्रुनाशं सर्वरक्षाकरं नृणाम् ।
सर्वारिष्टप्रशमनंअभिचारविनाशनम् ॥ ५॥

सुखदं भोगदं चैव वशीकरणमुत्तमम् ।
शत्रुसङ्घाः क्षयं यान्ति भवन्ति व्याधिपीडिताः ।
दुःखिनो ज्वरिणश्चैव स्वानिष्टपतितास्तथा ॥ ६॥

विनियोगः
ॐ अस्य श्रीकालिकाकवचस्य भैरवऋषये नमः, शिरसि ।
गायत्री छन्दसे नमः, मुखे । श्रीकालिकादेवतायै नमः, हृदि ।
ह्रीं बीजाय नमः, गुह्ये । ह्रूँ शक्तये नमः, पादयोः ।
क्लीं कीलकाय नमः, सर्वाङ्गे ।
शत्रुसङ्घनाशनार्थे पाठे विनियोगः ।
इति विन्यस्य क्रां क्रीं क्रूं क्रैं क्रौं क्रः ।
इति करषडङ्गन्यासादिकं कुर्यात् ।

ध्यानम्
ध्यायेत् कालीं महामायां त्रिनेत्रां बहुरूपिणीम् ।
चतुर्भुजां ललज्जिह्वां पूर्णचन्द्रनिभाननाम् ॥ ७॥

नीलोत्पलदलश्यामां शत्रुसङ्घविदारिणीम् ।
नरमुण्डं तथा खड्गं कमलं वरदं तथा ॥ ८॥

विभ्राणां रक्तवदनां दंष्ट्रालीं घोररूपिणीम् ।
अट्टाट्टहासनिरतां सर्वदा च दिगम्बराम् ॥ ९॥

शवासनस्थितां देवीं मुण्डमालाविभूषणाम् ।
इति ध्यात्वा महादेवीं ततस्तु कवचं पठेत् ॥ १०॥

कालिका घोररूपाद्या सर्वकामफलप्रदा ।
सर्वदेवस्तुता देवी शत्रुनाशं करोतु मे ॥११॥

ॐ ह्रीं स्वरूपिणीं चैव ह्राँ ह्रीं ह्रूँ रूपिणी तथा ।
ह्राँ ह्रीं ह्रैं ह्रौं स्वरूपा च सदा शत्रून् प्रणश्यतु ॥ १२॥

श्रीं ह्रीं ऐं रूपिणी देवी भवबन्धविमोचिनी ।
ह्रीं सकलां ह्रीं रिपुश्च सा हन्तु सर्वदा मम ॥ १३॥

यथा शुम्भो हतो दैत्यो निशुम्भश्च महासुरः ।
वैरिनाशाय वन्दे तां कालिकां शङ्करप्रियाम् ॥ १४॥

ब्राह्मी शैवी वैष्णवी च वाराही नारसिंहिका ।
कौमार्यैन्द्री च चामुण्डा खादन्तु मम विद्विषः ॥ १५॥

सुरेश्वरी घोररूपा चण्डमुण्डविनाशिनी ।
मुण्डमाला धृताङ्गी च सर्वतः पातु मा सदा ॥ १६॥

अथ मन्त्रः – ह्रां ह्रीं कालिके घोरदंष्ट्रे च रुधिरप्रिये ।
रूधिरापूर्णवक्त्रे च रूधिरेणावृतस्तनि ॥ १७॥

मम सर्वशत्रून् खादय खादय हिंस हिंस मारय मारय भिन्धि भिन्धि
छिन्धि छिन्धि उच्चाटय उच्चाटय विद्रावय विद्रावय शोषय शोषय
स्वाहा ।
ह्रां ह्रीं कालिकायै मदीयशत्रून् समर्पय स्वाहा ।
ॐ जय जय किरि किरि किट किट मर्द मर्द मोहय मोहय हर हर मम
रिपून् ध्वंसय ध्वंसय भक्षय भक्षय त्रोटय त्रोटय यातुधानान्
चामुण्डे सर्वजनान् राजपुरुषान् स्त्रियो मम वश्याः कुरु कुरु अश्वान् गजान्
दिव्यकामिनीः पुत्रान् राजश्रियं देहि देहि तनु तनु धान्यं धनं यक्षं
क्षां क्षूं क्षैं क्षौं क्षं क्षः स्वाहा । इति मन्त्रः ।

फलश्रुतिः
इत्येतत् कवचं पुण्यं कथितं शम्भुना पुरा ।
ये पठन्ति सदा तेषां ध्रुवं नश्यन्ति वैरिणः ॥ १८॥

वैरिणः प्रलयं यान्ति व्याधिताश्च भवन्ति हि ।
बलहीनाः पुत्रहीनाः शत्रुवस्तस्य सर्वदा ॥ १९॥

सहस्रपठनात् सिद्धिः कवचस्य भवेत्तथा ।
ततः कार्याणि सिध्यन्ति यथाशङ्करभाषितम् ॥ २०॥

श्मशानाङ्गारमादाय चूर्णं कृत्वा प्रयत्नतः ।
पादोदकेन पिष्टा च लिखेल्लोहशलाकया ॥ २१॥

भूमौ शत्रून् हीनरूपानुत्तराशिरसस्तथा ।
हस्तं दत्त्वा तु हृदये कवचं तु स्वयं पठेत् ॥ २२॥

प्राणप्रतिष्ठां कृत्वा वै तथा मन्त्रेण मन्त्रवित् ।
हन्यादस्त्रप्रहारेण शत्रो गच्छ यमक्षयम् ॥ २३॥

ज्वलदङ्गारलेपेन भवन्ति ज्वरिता भृशम् ।
प्रोङ्क्षयेद्वामपादेन दरिद्रो भवति ध्रुवम् ॥ २४॥

वैरिनाशकरं प्रोक्तं कवचं वश्यकारकम् ।
परमैश्वर्यदं चैव पुत्र पौत्रादि वृद्धिदम् ॥ २५॥

प्रभातसमये चैव पूजाकाले प्रयत्नतः ।
सायङ्काले तथा पाठात् सर्वसिद्धिर्भवेद् ध्रुवम् ॥ २६॥

शत्रुरुच्चाटनं याति देशाद् वा विच्युतो भवेत् ।
पश्चात् किङ्करतामेति सत्यं सत्यं न संशयः ॥ २७॥

शत्रुनाशकरं देवि सर्वसम्पत्करं शुभम् ।
सर्वदेवस्तुते देवि कालिके त्वां नमाम्यहम् ॥ २८॥

इति वैरिनाशनं कालीकवचं सम्पूर्णम् ।

६. गंगा पुष्पांजलि मन्त्र

★ ‘ॐ नमो भगवति हिलि हिलि मिलि मिलि गंगे माँ पावय पावय स्वाहा★

ई गंगाजी केर सबसँ पवित्र पावन मंत्र अछि। एकर अर्थ छैक जे “हे भगवती गंगे! हमरा बेर बेर भेट-दर्शन (मिलन) दिअ, पवित्र करू, पवित्र करू।” एहि मंत्र सँ गंगाजी केर लेल पंचोपचार और पुष्पांजलि समर्पण करू।

७. मातंगी मंत्र

मातंगी देवी प्रकृति केर देवी छथि। कला संगीत केर देवी छथि। तंत्र केर देवी छथि। वचन केर देवी छथि। ई एकमात्र एहेन देवी छथि जिनका लेल व्रत नहि राखल जाइत अछि। ई केवल मन और वचन सँ मात्र तृप्त भऽ जाइत छथि। भगवान शंकर और पार्वती केर भोज्य केर शक्ति केर रूप मे मातंगी देवी केर ध्यान कयल जाइत अछि। मातंगी देवी केँ केहनो तरहक इंद्रजाल और जादू केँ कटबाक शक्ति प्रदत्त छन्हि। देवी मातंगी केर स्वरूप मंगलकारी अछि। ओ विद्या और वाणी केर अधिष्ठात्री थिकीह। पशु, पक्षी, जंगल, आदि प्राकृतिक तत्व सब मे हुनकर वास होइत छन्हि। ओ दस महाविद्या मे नवम् स्थान पर छथि। मातंगी देवी श्री लक्ष्मी जी केर स्वरूप छथि।

मन्त्र ★ॐ लं वं रं यं क्षं हं सं मातंगिनी स्वाहा ★

८. नज़र दोष रक्षा मन्त्र ★ ॐ चन्द्रमीलि सुर्यमीलि कुरु कुरु स्वाहा ★

९. महाभैरवाष्टक स्तोत्र

यं यं यं यक्षरूपं दशदिशि विदितं भूमि कंपायमानं ।
सं सं सं संहारमूर्ति शिरमुकुटजटाशेखरं चंद्रबिंब ॥१॥

दं दं दं दीर्घकारयं विकृतनखमुखं चौध्ध्वरोमं करालं ।

पं पं पं पापनाशं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालं ॥२॥

रं रं रं रक्तवर्ण कटिकटि ततनु तीक्ष्णदंष्ट्रा करालं ।

घं घं घं घोरघोषं घघ घघ घटितं घर्घरा घोरनादं ॥३॥

कं कं कं कालपाशं धग धग धगितं ज्वालितं कामदाहं ।

दं दं दं दिव्य देहं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालं ॥४॥

लं लं लं लंबदन्तं लल लल लुलितं दीर्घ जिह्वा करालं ।
धूं धूं धूं धूम्रवर्णं स्फुटविकृतमुखं भासुरं भीमरूपं ॥५॥

रूं रूं रूं रूण्डमालं रुधिरमय मुखं ताम्रनेत्रं विशालं ।

नं नं नं नग्नभूषं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालं ॥६॥

वं वं वं वायुवेगं प्रलयपरिमितं ब्रह्मरूपं स्वरूपं ।
खं खं खं खड्गहस्तं त्रिभुवननिलयं भास्करं भीमरूपं ॥७॥
चं चं चं चालयन्तं चल चल चलितं चालितं भूतचक्रं ।
मं मं मं मायकायं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालं ॥८॥

१०. नरसिंह मन्त्र ★ उग्रम वीरम महाविष्णुम, ज्वलनतम सर्वतो मुख्यम। नृसिंहम भीषनम भद्रम, मृत्यु मृत्यु नमाम्यहम॥

११. एकश्लोकी सुन्दरकाण्डम्

यस्य श्रीहनुमाननुग्रह
बलात्तीर्णाम्बुधिर्लीलया
लङ्कां प्राप्य निशाम्य रामदयिताम्
भङ्क्त्वा वनं राक्षसान् ।

अक्षादीन् विनिहत्य
वीक्ष्य दशकम् दग्ध्वा पुरीं तां पुनः
तीर्णाब्धिः कपिभिर्युतो यमनमत् तम्
रामचन्द्रम्भजे ।।

१२. अन्नपूर्णा मन्त्र

★ अन्नपूर्णे सदा पूर्णे शंकरप्राणवल्लभे । ज्ञानवैराग्यसिद्ध्य भिक्षां देहि च पार्वति ★

१३. नित्य प्रार्थना श्लोक ~

‘त्वमेव माता च पिता त्वमेव,
त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव।
त्वमेव विद्या च द्रविणम त्वमेव,
त्वमेव सर्व मम देव देवः।।’

१४. पृथ्वी क्षमा प्रार्थना

◆ समुद्र वसने देवी पर्वत स्तन मंडिते। पत्नी नमस्तु यं पाद विष्णु स्पर्शं क्षमश्वमेव।। ◆

१५. गायत्री मंत्रः

ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरैण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो योनः प्रचोदयात॥

१६. श्री नर्मदाष्टकम स्तोत्र

त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।
नमामि देवी नर्मदे, नमामि देवी नर्मदे।

1- सबिंदु सिन्धु सुस्खल तरंग भंग रंजितम।
द्विषत्सु पाप जात जात कारि वारि संयुतम।।
कृतान्त दूत काल भुत भीति हारि वर्मदे।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।।

2- त्वदम्बु लीन दीन मीन दिव्य सम्प्रदायकम।
कलौ मलौघ भारहारि सर्वतीर्थ नायकं।।
सुमस्त्य कच्छ नक्र चक्र चक्रवाक् शर्मदे।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।।

3- महागभीर नीर पुर पापधुत भूतलं।
ध्वनत समस्त पातकारि दरितापदाचलम।।
जगल्ल्ये महाभये मृकुंडूसूनु हर्म्यदे।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।।

4- गतं तदैव में भयं त्वदम्बु वीक्षितम यदा।
मृकुंडूसूनु शौनका सुरारी सेवी सर्वदा।।
पुनर्भवाब्धि जन्मजं भवाब्धि दुःख वर्मदे।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।।

5- अलक्षलक्ष किन्न रामरासुरादी पूजितं।
सुलक्ष नीर तीर धीर पक्षीलक्ष कुजितम।।
वशिष्ठशिष्ट पिप्पलाद कर्दमादि शर्मदे।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।।

6- सनत्कुमार नाचिकेत कश्यपात्रि षटपदै।
धृतम स्वकीय मानषेशु नारदादि षटपदै:।।
रविन्दु रन्ति देवदेव राजकर्म शर्मदे।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।।

7- अलक्षलक्ष लक्षपाप लक्ष सार सायुधं।
ततस्तु जीवजंतु तंतु भुक्तिमुक्ति दायकं।।
विरन्ची विष्णु शंकरं स्वकीयधाम वर्मदे।।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।।

8- अहोमृतम श्रुवन श्रुतम महेषकेश जातटे।
किरात सूत वाड़वेषु पण्डिते शठे नटे।।
दुरंत पाप ताप हारि सर्वजंतु शर्मदे।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।।

9- इदन्तु नर्मदाष्टकम त्रिकलामेव ये सदा।
पठन्ति ते निरंतरम न यान्ति दुर्गतिम कदा।।
सुलभ्य देव दुर्लभं महेशधाम गौरवम।
पुनर्भवा नरा न वै त्रिलोकयंती रौरवम।।

त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।
नमामि देवी नर्मदे, नमामि देवी नर्मदे।
त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे।

नमामि देवी नर्मदे, नमामि देवी नर्मदे।

त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे। ◆

१७. अन्नपूर्णा स्तोत्रम्

नित्यानन्दकरी वराभयकरी सौंदर्यरत्नाकरी।
निर्धूताखिल-घोरपावनकरी प्रत्यक्षमाहेश्वरी॥
प्रालेयाचल-वंशपावनकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपुर्णेश्वरी॥

नानारत्न-विचित्र-भूषणकरी हेमाम्बराडम्बरी।
मुक्ताहार-विलम्बमान विलसद्वक्षोज-कुम्भान्तरी॥
काश्मीराऽगुरुवासिता रुचिकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

योगानन्दकरी रिपुक्षयकरी धर्माऽर्थनिष्ठाकरी।
चन्द्रार्कानल-भासमानलहरी त्रैलोक्यरक्षाकरी॥
सर्वैश्वर्य-समस्त वांछितकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

कैलासाचल-कन्दरालयकरी गौरी उमा शंकरी।
कौमारी निगमार्थगोचरकरी ओंकारबीजाक्षरी॥
मोक्षद्वार-कपाट-पाटनकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

दृश्याऽदृश्य-प्रभूतवाहनकरी ब्रह्माण्डभाण्डोदरी।
लीलानाटकसूत्रभेदनकरी विज्ञानदीपांकुरी॥
श्री विश्वेशमन प्रसादनकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

उर्वी सर्वजनेश्वरी भगवती माताऽन्नपूर्णेश्वरी।
वेणीनील-समान-कुन्तलहरी नित्यान्नदानेश्वरी॥
सर्वानन्दकरी दृशां शुभकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

आदिक्षान्त-समस्तवर्णनकरी शम्भोस्त्रिभावाकरी।
काश्मीरा त्रिजलेश्वरी त्रिलहरी नित्यांकुरा शर्वरी॥
कामाकांक्षकरी जनोदयकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

देवी सर्वविचित्ररत्नरचिता दाक्षायणी सुंदरी।
वामस्वादु पयोधर-प्रियकरी सौभाग्यमाहेश्वरी॥
भक्ताऽभीष्टकरी दशाशुभकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

चर्न्द्रार्कानल कोटिकोटिसदृशा चन्द्रांशुबिम्बाधरी।
चन्द्रार्काग्नि समान-कुन्तलहरी चन्द्रार्कवर्णेश्वरी॥
माला पुस्तक-पाश-सांगकुशधरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

क्षत्रत्राणकरी महाऽभयकरी माता कृपासागरी।
साक्षान्मोक्षरी सदा शिवंकरी विश्वेश्वरी श्रीधरी॥
दक्षाक्रन्दकरी निरामयकरी काशीपुराधीश्वरी।
भिक्षां देहि कृपावलंबनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥

अन्नपूर्णे सदा पूर्णे शंकरप्राणवल्लभे !
ज्ञान वैराग्य-सिद्ध्‌यर्थं भिक्षां देहिं च पार्वति॥

माता च पार्वती देवी पिता देवो महेश्वरः।
बान्धवाः शिवभक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्रयम्‌ ॥

१८. श्रीसूक्तम

संसार मे शायदे एहेन कोनो व्यक्ति हो जे लक्ष्मी केर कृपा सँ सुख, समृद्धि और सफलता केर कामना नहि करैत हो । राजा, रंक, छोट, पैघ सब चाहैत अछि जे लक्ष्मी सदा ओकर घर मे निवास करथि, और व्यक्ति धन केर प्राप्तिक लेल प्रयत्न सेहो करैत अछि । ऋग्वेद मे माता लक्ष्मी केँ प्रसन्न करबाक  लेल ‘श्री-सूक्त’ केर पाठ और मन्त्र केर जप तथा मन्त्र सँ हवन कयला पर मनचाहा मनोकामना पूरा होयबाक बात कहल गेल अछि । अगर कियो दिवाली के दिन अमावस्याक राति मे एहि समय श्री सूक्त केर पाठ और मंत्र सँ जप करैत अछि त ओकर इच्छा सब पूरा भय कय रहैत अछि ।

श्री-सूक्त मे पन्द्रह ऋचा छैक, माहात्म्य सहित सोलह ऋचा मानल गेल छैक कियैक कि कोनो स्तोत्रक बिना माहात्म्यक पाठ कयने फल प्राप्ति नहि होइछ । नीचाँ देल श्री सूक्त केर मंत्र सँ ऋग्वेद के अनुसार दिवाली केर राति मे 11 बजे सँ लय कय 1 बजे के बीच- 108 कमल केर पुष्प या 108 कमल गट्टाक दाना केँ गाय केर घी मे डूबाकय बेलपत्र, पलाश एवं आम केर समिधा सँ प्रज्वलित यज्ञ मे आहुति देबाक आ श्रद्धापूर्वक लक्ष्मी जी केर षोडषोपचार पूजन कयला सँ व्यक्ति वर्तमान सँ लय कय आबय वला सात जन्म धरि निर्धन नहि भऽ सकैत अछि ।

★पद्मानने पद्मविपद्मपत्रे पद्मप्रिये पद्मदलायताक्षि ।
विश्वप्रिये विष्णुमनोऽनुकूले त्वत्पादपद्मं मयि सं नि धत्स्व ॥★

अर्थात्- कमल केर समान मुंहवाली! कमलदल पर अपन चरणकमल राखयवाली! कमल मे प्रीति राखयवाली! कमलदल केर समान विशाल नेत्रवाली! सारा संसार केर लेल प्रिय! भगवान विष्णु केर मनक अनुकूल आचरण करयवाली! अहाँ अपन चरणकमल केँ हमर हृदय मे स्थापित करू ।

★॥ अथ श्री-सूक्त मंत्र पाठ ॥

1- ॐ हिरण्यवर्णां हरिणीं, सुवर्णरजतस्त्रजाम् ।
चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं, जातवेदो म आ वह ॥

2- तां म आ वह जातवेदो, लक्ष्मीमनपगामिनीम् ।
यस्यां हिरण्यं विन्देयं, गामश्वं पुरूषानहम् ॥

3- अश्वपूर्वां रथमध्यां, हस्तिनादप्रमोदिन
श्रियं देवीमुप ह्वये, श्रीर्मा देवी जुषताम् ॥

4- कां सोस्मितां हिरण्यप्राकारामार्द्रां ज्वलन्तीं तृप्तां तर्पयन्तीम् ।
पद्मेस्थितां पद्मवर्णां तामिहोप ह्वये श्रियम् ॥

5- चन्द्रां प्रभासां यशसा ज्वलन्तीं श्रियं लोके देवजुष्टामुदाराम् ।
तां पद्मिनीमीं शरणं प्र पद्ये अलक्ष्मीर्मे नश्यतां त्वां वृणे ॥

6- आदित्यवर्णे तपसोऽधि जातो वनस्पतिस्तव वृक्षोऽक्ष बिल्वः ।
तस्य फलानि तपसा नुदन्तु या अन्तरा याश्च बाह्या अलक्ष्मीः ॥

7- उपैतु मां दैवसखः, कीर्तिश्च मणिना सह ।
प्रादुर्भूतोऽस्मि राष्ट्रेऽस्मिन्, कीर्तिमृद्धिं ददातु मे ॥

8- क्षुत्पिपासामलां ज्येष्ठामलक्ष्मीं नाशयाम्यहम् ।
अभूतिमसमृद्धिं च, सर्वां निर्णुद मे गृहात् ॥

9- गन्धद्वारां दुराधर्षां, नित्यपुष्टां करीषिणीम् ।
ईश्वरीं सर्वभूतानां, तामिहोप ह्वये श्रियम् ॥

10- मनसः काममाकूतिं, वाचः सत्यमशीमहि ।
पशूनां रूपमन्नस्य, मयि श्रीः श्रयतां यशः ॥

11- कर्दमेन प्रजा भूता मयि सम्भव कर्दम ।
श्रियं वासय मे कुले मातरं पद्ममालिनीम् ॥

12- आपः सृजन्तु स्निग्धानि चिक्लीत वस मे गृहे ।
नि च देवीं मातरं श्रियं वासय मे कुले ॥

13- आर्द्रां पुष्करिणीं पुष्टिं पिंगलां पद्ममालिनीम् ।
चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं, जातवेदो म आ वह ॥

14- आर्द्रां य करिणीं यष्टिं सुवर्णां हेममालिनीम् ।
सूर्यां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आ वह ॥

15- तां म आ वह जातवेदो लक्ष्मीमनपगामिनीम् ।
यस्यां हिरण्यं प्रभूतं गावो दास्योऽश्वान् विन्देयं पुरुषानहम् ॥

16- य: शुचि: प्रयतो भूत्वा जुहुयादाज्यमन्वहम् ।
सूक्तं पंचदशर्चं च श्रीकाम: सततं जपेत् ॥

॥ इति समाप्ति ॥

१९. अनिष्ट निवारण मन्त्र

◆ वाद विवाद सँ बचय लेल मुक्ति मंत्र ◆

अगर बीतल साल यदि अहाँ कोनो तरहक मुकदमा या वाद-विवाद मे फँसि गेलहुँ, त एहि साल श्री भैरव जी केर उपासना करू। तथा हर रविवार केँ हिनकर मंदिर जा कय हिनका नारियल या कोनो सफेद मिष्ठान केर भोग लगाउ। एकर अतिरिक्त रोज सायंकाल केँ नीचाँ देल गेल मंत्र केर उच्चारण करू। एहि सँ अहाँ जल्दिये अपन मुकद्दर केँ चमका पायब यानि अहाँ केँ हर तरह केर वाद विवाद सँ छुटकारा भेटि जायत तथा अगर कोनो जातक कोनो तरहक मुकदमा अटकल होयब त ओ ताहि सँ सेहो बाहर निकलि जायब।

मंत्र छैक ◆ “ॐ भं भैरवाय अनिष्टनिवारणाय स्वाहा.” ◆

२०. ध्यान मंत्र

“ॐ मणि पद्मे हुं”

मूल रूप सँ तिब्बती बौद्ध सब द्वारा उपयोग कयल जायवला एक पारंपरिक ध्यान मंत्र छी। ई तनाव और चिंता केँ कम करबाक लेल दयालु ऊर्जा केर चैनल जेकाँ काज करैत अछि। मंत्रक लिखित रूप केँ पढ़ला सँ सेहो यैह प्रभाव पड़ैत अछि। तेँ, एहि ध्यान मंत्र केँ अपन जेबी मे और अपन दिमाग मे राखी।

२१. पंचकल्याणक मंगल पाठ

◆ 1. आरम्भिक पाठ 2. गर्भ कल्याणक 3. जन्म कल्याणक 4. तप कल्याणक 5. ज्ञान कल्याणक 6. निर्वाण कल्याणक

२२. गणेश ऋणमुक्ति स्तोत्र

◆ ध्यान मन्त्र
ओम सिन्दूर-वर्णं द्वि-भुजं गणेशं लम्बोदरं पद्म-दले निविष्टम्।
ब्रह्मादि-देवैः परि-सेव्यमानं सिद्धैर्युतं तं प्रणामि देवम्॥◆

मूल-पाठ

सृष्ट्यादौ ब्रह्मणा सम्यक् पूजित: फल-सिद्धए।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे॥

त्रिपुरस्य वधात् पूर्वं शम्भुना सम्यगर्चित:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे॥

हिरण्य-कश्यप्वादीनां वधार्थे विष्णुनार्चित:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे॥

महिषस्य वधे देव्या गण-नाथ: प्रपुजित:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे॥◆

२३. रावण द्वारा रचित चमत्कारी शिव तांडव स्तोत्र

जटाटवीगलज्जल प्रवाहपावितस्थले
गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजंगतुंगमालिकाम्‌।
डमड्डमड्डमड्डमनिनादवड्डमर्वयं
चकार चंडतांडवं तनोतु नः शिवः शिवम ॥1॥

जटा कटा हसंभ्रम भ्रमन्निलिंपनिर्झरी ।
विलोलवी चिवल्लरी विराजमानमूर्धनि ।
धगद्धगद्ध गज्ज्वलल्ललाट पट्टपावके
किशोरचंद्रशेखरे रतिः प्रतिक्षणं ममं ॥2॥

धरा धरेंद्र नंदिनी विलास बंधुवंधुर-
स्फुरदृगंत संतति प्रमोद मानमानसे ।
कृपाकटा क्षधारणी निरुद्धदुर्धरापदि
कवचिद्विगम्बरे मनो विनोदमेतु वस्तुनि ॥3॥

जटा भुजं गपिंगल स्फुरत्फणामणिप्रभा-
कदंबकुंकुम द्रवप्रलिप्त दिग्वधूमुखे ।
मदांध सिंधु रस्फुरत्वगुत्तरीयमेदुरे
मनो विनोदद्भुतं बिंभर्तु भूतभर्तरि ॥4॥

सहस्र लोचन प्रभृत्य शेषलेखशेखर-
प्रसून धूलिधोरणी विधूसरांघ्रिपीठभूः ।
भुजंगराज मालया निबद्धजाटजूटकः
श्रिये चिराय जायतां चकोर बंधुशेखरः ॥5॥

ललाट चत्वरज्वलद्धनंजयस्फुरिगभा-
निपीतपंचसायकं निमन्निलिंपनायम्‌ ।
सुधा मयुख लेखया विराजमानशेखरं
महा कपालि संपदे शिरोजयालमस्तू नः ॥6॥

कराल भाल पट्टिकाधगद्धगद्धगज्ज्वल-
द्धनंजया धरीकृतप्रचंडपंचसायके ।
धराधरेंद्र नंदिनी कुचाग्रचित्रपत्रक-
प्रकल्पनैकशिल्पिनि त्रिलोचने मतिर्मम ॥7॥

नवीन मेघ मंडली निरुद्धदुर्धरस्फुर-
त्कुहु निशीथिनीतमः प्रबंधबंधुकंधरः ।
निलिम्पनिर्झरि धरस्तनोतु कृत्ति सिंधुरः
कलानिधानबंधुरः श्रियं जगंद्धुरंधरः ॥8॥

प्रफुल्ल नील पंकज प्रपंचकालिमच्छटा-
विडंबि कंठकंध रारुचि प्रबंधकंधरम्‌
स्मरच्छिदं पुरच्छिंद भवच्छिदं मखच्छिदं
गजच्छिदांधकच्छिदं तमंतकच्छिदं भजे ॥9॥

अगर्वसर्वमंगला कलाकदम्बमंजरी-
रसप्रवाह माधुरी विजृंभणा मधुव्रतम्‌ ।
स्मरांतकं पुरातकं भावंतकं मखांतकं
गजांतकांधकांतकं तमंतकांतकं भजे ॥10॥

जयत्वदभ्रविभ्रम भ्रमद्भुजंगमस्फुर-
द्धगद्धगद्वि निर्गमत्कराल भाल हव्यवाट्-
धिमिद्धिमिद्धिमि नन्मृदंगतुंगमंगल-
ध्वनिक्रमप्रवर्तित प्रचण्ड ताण्डवः शिवः ॥11॥

दृषद्विचित्रतल्पयोर्भुजंग मौक्तिकमस्रजो-
र्गरिष्ठरत्नलोष्टयोः सुहृद्विपक्षपक्षयोः ।
तृणारविंदचक्षुषोः प्रजामहीमहेन्द्रयोः
समं प्रवर्तयन्मनः कदा सदाशिवं भजे ॥12॥

कदा निलिंपनिर्झरी निकुजकोटरे वसन्‌
विमुक्तदुर्मतिः सदा शिरःस्थमंजलिं वहन्‌।
विमुक्तलोललोचनो ललामभाललग्नकः
शिवेति मंत्रमुच्चरन्‌कदा सुखी भवाम्यहम्‌॥13॥

निलिम्प नाथनागरी कदम्ब मौलमल्लिका-
निगुम्फनिर्भक्षरन्म धूष्णिकामनोहरः ।
तनोतु नो मनोमुदं विनोदिनींमहनिशं
परिश्रय परं पदं तदंगजत्विषां चयः ॥14॥

प्रचण्ड वाडवानल प्रभाशुभप्रचारणी
महाष्टसिद्धिकामिनी जनावहूत जल्पना ।
विमुक्त वाम लोचनो विवाहकालिकध्वनिः
शिवेति मन्त्रभूषगो जगज्जयाय जायताम्‌ ॥15॥

इमं हि नित्यमेव मुक्तमुक्तमोत्तम स्तवं
पठन्स्मरन्‌ ब्रुवन्नरो विशुद्धमेति संततम्‌।
हरे गुरौ सुभक्तिमाशु याति नांयथा गतिं
विमोहनं हि देहना तु शंकरस्य चिंतनम ॥16॥

पूजाऽवसानसमये दशवक्रत्रगीतं
यः शम्भूपूजनमिदं पठति प्रदोषे ।
तस्य स्थिरां रथगजेंद्रतुरंगयुक्तां
लक्ष्मी सदैव सुमुखीं प्रददाति शम्भुः ॥17॥

● ॥ इति शिव तांडव स्तोत्रं संपूर्णम्‌॥ ●

२४. गौरी मन्त्र

★‘हे गौरि ! शंकरार्धांगि ! यथा त्वं शंकरप्रिया ।
तथा मां कुरु कल्याणि कान्तकान्तां सुदुर्लभाम्।★

अर्थात हे गौरी, शंकर केर अर्धांगिनी ! जाहि प्रकारे अहाँ शंकर केर प्रिया छी,
ताहि प्रकारे हे कल्याणी ! हम कन्या केँ दुर्लभ वर प्रदान करू।

■ई देवी पार्वती केर मंत्र छी जाहि मे भगवती पार्वती सँ ई प्रार्थना कयल जाइत छैक जे जेना ओ भगवान् शंकर केँ प्रिय छथि तहिना सुदुर्लभ मनोवांछित वर ओ हमरो प्रदान करथि आ आशीर्वाद प्रदान करथि। जे कन्या एहि पार्वती मंत्र केर एकाग्रचित्त सँ 108 बेर पाठ करैत छथि, हुनका शीघ्रहि भगवती देवी मनोवांछित वर प्रदान करैत छथिन आर हुनक विवाह मे आबयवला सारा अड़चन ओ बाधा दूर भऽ जाइत छैक।

एहि गौरी मंत्र केँ मनोवांछित वर प्राप्ति लेल कोना जप करब – How To Chant Gauri Mantra For A Desired Husband

एहि मंत्र साधना केँ कोनो शुभ दिन या मंगल दिन सँ शुरू कयल जा सकैत अछि।

स्नानादि सँ निवृत भऽ कय प्रातः लाल रंग केर वस्त्र पहिरि कय लाल आसन पर सुखासन मे बैसू।

माँ गौरी केँ लाल रंग के पुष्प सँ पूजा करू।

प्राण संस्कारित कात्यायिनी यंत्र पर धूप और दीप जराउ।

मनोवांछित पति केर कामना लेल संकल्प करू और लाल मूंगा के माला सँ प्रतिदिन एहि मंत्र केर 108 बेर जप करू।

ई जाप अहाँ 21 दिन तक करू और अंतिम दिन 7 कन्या लोकनि केँ उपहार (भेंट) प्रदान करू।

अहाँ ई साधना केँ 3 या 4 बेर कय सकैत छी जाबत धरि सफलता प्राप्त नहि हो।

२५. ॐ (ओम्)

ई ध्वनि पांचो परमेष्ठी नाम केर पहिल अक्षर मिलेला सँ बनैत अछि। यथा अरहन्त केर पहिल अक्षर ‘अ’, अशरीरी (सिद्ध) केर ‘अ’, आचार्य केर ‘आ’, उपाध्याय केर ‘उ’, तथा मुनि (साधु) केर ‘म्’, एहि प्रकारे –

अ+अ+आ+उ+म् = ॐ

(ई ‘ओउम्’ सेहो लिखल देखल जाइत अछि जे कि अशुद्ध अछि।)

‘ॐ’ केर निरंतर जाप कयला सँ आंतरिक और बाह्य विकार सभक सेहो निदान होइत छैक। दिमाग शांत होइत छैक और बहुतो-सारा शारीरिक तकलीफ सब सेहो दूर होइत छैक। एकर नियमित जाप सँ व्यक्ति केर प्रभामंडल मे वृद्धि होइत छैक।

आउ जानल जाय जे केना करब ‘ॐ’ केर जाप…

* कोनो शांत जगह केर चुनाव करू।

* यदि भोरे जल्दी उठिकय जाप कय पायब त बहुत नीक। यदि एना संभव नहि हो, त रातिक समय सुतय सँ पहिने एकर जाप करू।

* ॐ केर जाप करबाक लेल कोनो भगवान् केर मूर्ति, चित्र, धूप, अगरबत्ती या दीया आदिक जरूरत नहि होइत छैक।

* यदि खुला जगह जेना कोनो मैदान, छत या बगीचा नहि हो त कोठरिये मे सेहो एकर जाप करू।

* साफ जगह पर जमीन पर आसन बिछाकय जाप करू। पलंग या सोफा पर बैसिकय जाप नहि करू।

* ‘ॐ’ केर उच्चारण तेज आवाज मे करू।

* उच्चारण खत्म कयलाक बाद 2 मिनट लेल ध्यान लगाउ और फेर उठि जाउ।

* एहि मंत्र केर नियमित जाप सँ तनाव सँ पूर्णतया मुक्ति भेटैत छैक।

* जाप केर दौरान टीवी, म्यूजिक सिस्टम आदि बंद कय दी। कोशिश करी कि जाप केर दौरान शोर नहि हो।

* साफ आसन पर पद्मासन मे बैसी और आंखि बंद कय पेट सँ आवाज निकालैत जोर सँ ॐ केर उच्चारण करी। ॐ केँ जतेक लंबा खींचि सकी, खींची। सांस भरि गेला पर रुकी आर फेर यैह प्रक्रिया दोहराबी।

क्रमशः…..

हरिः हरः!!

संकलन स्रोतः रजत जैन केर एफएम लिंक

पूर्वक लेख
बादक लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 + 4 =