Home » Archives by category » Editorial (Page 2)

डर आ समाधान – मानव जीवनक विलक्षण दर्शन

डर आ समाधान – मानव जीवनक विलक्षण दर्शन

डर    मोन अछि? बच्चे सँ केना अपना सब केँ पहिने डर देखायल गेल आ फेर डर सँ बचबाक लेल बहादुरी सेहो सिखायल गेल? डर कय प्रकारक छल – भूत-प्रेतक डर, आँधी-बिहाड़िक डर, बिजली-पानि के डर…! लकड़सूंघा के डर, मघैया डोम के डर, गुन्डा-बदमाश के डर…! तहिना अन्जान बाट पर असगरे जेबाक डर, जंगल-झाड़ आदि […]

आब नहि त कहियो नहिः विद्यापति डीह पर राष्ट्रीय स्मारक प्रसंग काल्हि ५ दिसम्बर ग्लोबल मीट

आब नहि त कहियो नहिः विद्यापति डीह पर राष्ट्रीय स्मारक प्रसंग काल्हि ५ दिसम्बर ग्लोबल मीट

पैघ सपना पूरा होयबाक दिन थिक ५ दिसम्बर २०२० ग्लोबल मैथिल द्वारा महाकवि विद्यापतिक जन्मस्थली विस्फी मे राखल गेल कार्यक्रम जे काल्हि ५ दिसम्बर २०२० केँ आयोजित होयत से अनेकों कारण सँ नव इतिहास बनाओत। दशकों सँ लागि रहल एक स्वाभाविक कलंक जे महाकवि विद्यापतिक नाम पर सौंसे अनघोल होइत अछि, मैथिल केर समग्र पहिचान […]

मानवीय एकजुटता केर मुख्य आधार आ मिथिला

मानवीय एकजुटता केर मुख्य आधार आ मिथिला

हम सब एक छी हम सब मुमुक्षु मानव जाति केर लोक केवल मानव छी, मानवता हमरा सभक एकमात्र धर्म अछि। सब एक्के स्कूल केर छात्र, एक्के पढ़ाई, एक्के शिक्षक, सभक लक्ष्य सेहो एक जे मानव रूप सफल जीवन जियैत अपन कर्तव्य पालन करैत चली। गुरु साक्षात परब्रह्म परमात्मा होइत छथि। चाहे ओ मौलवी साहब होइथ […]

असल एजुकेटेड पॉलिटिशियन आ जनक समाजवाद: मनन योग्य विमर्श

असल एजुकेटेड पॉलिटिशियन आ जनक समाजवाद: मनन योग्य विमर्श

असल पढ़ल लिखल राजनेता के (विमर्श लेल समर्पित एक लेख) अहाँक विचार आमंत्रित काल्हि एक महत्वपूर्ण वेबिनार में बिहार केर राजनीतिक स्थिति पर परिचर्चा के दरमियान भारतीय सर्वोच्च न्यायालय केर पूर्व न्यायाधीश आ अपन ठांय पर ठांय बात विचार लेल जानल गेनिहार मार्कण्डेय काटजू एजुकेटेड लोक केर परिभाषित करबाक एक बेहतरीन तर्क रखलाह। हुनकर बात […]

दुर्गा पूजा मनेबाक असल वजह आ लाभ

दुर्गा पूजा मनेबाक असल वजह आ लाभ

नवरात्र 2020 विशेष भवानी केर भवन में लागल भक्तक भीड़ किछु मनन योग्य बात के थिकीह दुर्गा, कि थिकैक दुर्गति (आध्यात्मिक स्वाध्याय)😊 मैया अर्थात सभक जननी, कहलो जाइत छन्हि जगज्जननी, हुनकर आराधना ओना त साल में कुल चारि बेर विशेष नवरात्र व्रत सँ कयल जाइछ लेकिन दुइ नवरात्र बेसी प्रसिद्ध अछि, वासन्तीय व शारदीय नवरात्रि। […]

विश्वसनीयता निर्माण मे बहुत समय लगैछ – टूटब त क्षण भरिक काज छी

विश्वसनीयता निर्माण मे बहुत समय लगैछ – टूटब त क्षण भरिक काज छी

आउ किछु चर्चा करी विश्वसनीयता निर्माण आ नोक्सान ऊपर   हाई स्कूल केर कक्षा १०वीं मे गामक आरो कतेको छात्रक संग एक राजकुमार बाबू सेहो छलाह। सुखी‍-सम्पन्न परिवारक बच्चा, हुनका स्कूल अयबा-जयबा लेल एकटा साइकिल कीनि देल गेल छलन्हि। आर बच्चा सभक परिवार ततेक सुखितगर-सुभितगर नहि छल – आर केकरो पास साइकिल नहि छलैक। राजकुमार […]

समाज मे गदहा नहि उड़यवला घोड़ा बनेबाक होड़ हो

समाज मे गदहा नहि उड़यवला घोड़ा बनेबाक होड़ हो

झूठक प्रशंसा सँ गदहा टा बनैत अछि   ई अनुभव हम सब कियो जरूर करैत होयब जे प्रशंसा असली आ नकली दू प्रकार केर होइछ, असली प्रशंसा मे नीक भविष्यक निर्माण होइत अछि ओत्तहि नकली प्रशंसा मे क्षणिक आनन्द प्राप्त होइतो ओ दीर्घकालीन प्रभाव नहि छोड़ि पबैत अछि। मैथिली केर पठन-पाठन या सृजन-पोषण केर कार्य […]

कोना बनेबय दहेज मुक्त मिथिला

कोना बनेबय दहेज मुक्त मिथिला

कोना बनत दहेज मुक्त मिथिला   दहेज प्रथा खराब छैक। दहेजक लेन-देन अबैध छैक। लेकिन समाजक अगुआ वर्ग एकरा जानि-बुझि अपनेने अछि। अपना केँ जे चलाक आ चतुर बुझैत अछि ओकरा वास्ते दहेज प्रथा बहुत उपयोगी छैक। ओ अहाँ केँ एहेन-एहेन तर्क सब देत जे अहाँ केँ उल्टा बेवकूफ सिद्ध करत आ फेर हँसी उड़बैत […]

मातृभाषा मैथिली प्रति समर्पण आ सेवा केर १०० वर्ष पूर्ण

मातृभाषा मैथिली प्रति समर्पण आ सेवा केर १०० वर्ष पूर्ण

मातृभाषा लेल समर्पण केर १०० वर्ष मैथिली भाषा-साहित्यक इतिहास मे मातृभाषाक रूप मे मैथिलीक संरक्षण, संवर्धन आ प्रवर्धनक अभियान लगभग १९२० ई. मे शुरुआत भेल छल। विद्यापति केर ‘देसिल वयना सब जन मिट्ठा’ केर उद्घोष संग अपन भाषाक प्रति जनजागरण केर अभियान सेहो एहि आसपास १९२०-३० केर बीच मे मानल जाइत अछि। एहि तरहें मातृभाषा […]

ओ नीक छलाह या अहाँ नीक छी – मंथन योग्य विषय

ओ नीक छलाह या अहाँ नीक छी – मंथन योग्य विषय

परम्पराक अगबे दोख देनाय कतेक उचित?   कखनहुँ-कखनहुँ हमरा दिमाग मे ईहो बात अबैत अछि जे अपन पुरुखाजनक परम्परा केँ हम सब सीधे गलत कहि बैेसैत छी से हमरे सभक गलती छी। युग (देश, काल आ परिस्थिति) अनुसारे कोनो सामाजिक नियम केँ बनब या जियब शास्त्रीय पद्धति कहल गेल अछि। पुरुखाजनक समय मे जाहि तरहक […]