Home » Archives by category » Article » Culture (Page 3)

विराटनगर मे मैथिल संचारकर्मी संघ केर गठन सँ मैथिलीभाषी मे प्रसन्नताक संचार

विराटनगर मे मैथिल संचारकर्मी संघ केर गठन सँ मैथिलीभाषी मे प्रसन्नताक संचार

विराटनगर, २१ मार्च २०२१ । मैथिली जिन्दाबाद!! मिथिलाक इतिहास मे अनेकन प्रसिद्धि लेल जानल जायवला मोरंगक्षेत्र आ वर्तमान समय नेपालक अत्याधुनिक औद्योगिक महानगर विराटनगर मे पैछला शनि (१३ मार्च २०२१) दिन नेपाल पत्रकार महासंघक पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सह मैथिली-नेपाली भाषा-साहित्यक चर्चित विद्वान् व्यक्तित्व धर्मेन्द्र झाक अभिनन्दन समारोह आयोजन भेल छल जाहि मे श्री झाक सम्मान-अभिनन्दनक […]

“होली विशेष”

“होली विशेष”

रचनाकार-प्रियंका संतोष झा                            होली के संदेश। सिलबट्टा पर रगरि रगरि क पिसलऊँ भांगक गोली भांग पिबी मदमस्त मगन भय सब मिलि खेली होली। बाल्टी भरि भरि रंग उझलि क एक दोसर के केलऊँ लोट पोट खीर पूरी मालपुआ खाय,फूला फूला क पेट। […]

भाषाभटकाव मिथिला सभ्यताक अन्तक संकेत त नहि?

भाषाभटकाव मिथिला सभ्यताक अन्तक संकेत त नहि?

भाषाभटकल लोक   १९८७ ई. मे बाढि सँ बेहाली आयल। जहाँ-तहाँ नदीक तटबन्ध सब टूटि जेबाक कारण बेहिसाब पानि सँ खेत-पथार, एतेक तक कि खरिहान, घर-अंगना सबटा डूबि गेल छल। लोक खाना कोना पकायत ताहू लेल समस्या रहैक। ऊँच-ऊँच बान्ह आ घरक छत पर आश्रय लय येन-केन-प्रकारेण संघर्ष कय केँ प्राण-रक्षा मे लागल छल। शायद […]

सप्तरीक राजगढ बेल्हीचपेना मे विष्णु महायज्ञ चैत २ गते सँ

सप्तरीक राजगढ बेल्हीचपेना मे विष्णु महायज्ञ चैत २ गते सँ

साभार – शुभचन्द्र झा, राजविराज १४ मार्च २०२१ – मैथिली जिन्दाबाद!! सप्तरी जिलाक राजगढ ४ बेल्हीचपेनामे इएह २०७७ साल चैत महिना २ गतेसं हाेएबला विष्णु महायज्ञक तैयारी अन्तिम चरणमे पहुँचि गेल अछि। एहि यज्ञ लेल कलश यात्रा, शाेभा यात्रा बिभिन्न बाजा गाजा सहित साेमदिन शुभारम्भ हुअ जा रहल अछि । जनकपुरक पगला बाबाक प्रत्यक्ष निगरानीमे […]

नारी

नारी

नारी सक्ती के प्रणाम नारी गृह लक्ष्मी होई छै। नारी के बिना घर सुना लागत अछी। नारी बहुत श्रम करे छेत्। हुनका भले माथ दुखाई लेकिन वो परिवार लेल खाना बना बई छै।अपन परवाह नई क उ परिवार के चिन्ता करें छैय। काम करे बला त सन्डे के लेट उठे या। मुदा नारी के सन्डे […]

नारी

नारी

#नारी भारतीय संस्कृति में नारी के सम्मान के बहुत महत्व देल गेल छइ। संस्कृत में एकटा स्लोक अछि- यत्र नार्यस्तु पूज्यनते रमन्ते तत्र देवता। अर्थात जत नारी के पूजा होइत छइ ओत देवता वास करैत छैथ। नारी जन्म स मृत्यु तक अपन सब कर्तव्य निभबैत छैथ। ओ एक मां,पत्नी,बेटी,बहीन सब रिश्ता के दायित्व निष्ठा स […]

एकर सच्चाई स्वयं निरीक्षण कय सकैत छी

एकर सच्चाई स्वयं निरीक्षण कय सकैत छी

ओ व्यक्ति सम्मान योग्य नहि   जे स्वयं अपन भाषाक सम्मान नहि करय ओ व्यक्ति सम्मान योग्य नहि भऽ सकैत अछि। हालांकि एहि भ्रम मे बहुतो लोक फँसल अछि, ओकरा अपना होइत छैक जे अपन भाषाक बदला हिन्दी या अंग्रेजी बाजब त लोक बेसी पैघ आ पढ़ल-लिखल विद्वान् बुझत, लेकिन ओकर स्वयं केर आत्मा पर्यन्त […]

“मातृशक्ति”

“मातृशक्ति”

ममता झा। आई महिलाक जीवन के याद करैत छी जे, अपने हर क्षेत्र में अप्पन प्रसिद्धि सऽ अप्पन कुलक नाम रौशन करैत ऑगा बढल छैथ ओहन महिला पर नाज अई। सचमुच ! हे मातृ शक्ति अहाँक नमन।भारत माता की जय,जिनकर धरा पर अनगिनत विदूषी, बीरांगना, सहनशील,मृदुमाषी,भारतीय नारी जन्म लेलैन।अई धरा के समस्त रचना सृष्टी के […]

“यज्ञसेनी :- एक आदर्श नारी

“यज्ञसेनी :- एक आदर्श नारी

आभा झा।                                हमर आदर्श नारी छैथ द्रौपदी। जखन जखन भारतीय संस्कृति के इतिहास में नारी के अपमान,प्रतिशोध,तिरस्कार,शोषण के संगे-संग हुनकर सम्मान के दु विरोधी भावक चर्चा हैत,तखन तखन द्रौपदी खे उल्लेख अवश्य हेतेन। द्रौपदी के चरित्र एक ऐहेन दुर्भाग्य शालिनी […]

“नारी दिवस विशेष”

“नारी दिवस विशेष”

अंजू झा।                          अहि छवि में हम अपन माॅ के संग छी, हमरा जीवन में हिनकर जे स्थान अई ओ दोसर के नै भ सकैया,ई हमर मां, गुरु,आ आदर्श सब छैथ। मां तऽ सबके आदर्श होई छथिन, लेकिन हमर मां के हमरा नजर में […]