Home » Archives by category » Article » Culture

सरस्वती पूजा विशेष संस्मरण

सरस्वती पूजा विशेष संस्मरण

१६ फरवरी २०२१ – मैथिली जिन्दाबाद!! सरस्वती पूजाक दिन विशेष संस्मरण   आइ बसंत पंचमी, बाल्यकाल सँ विशेष महत्वक दिन – अर्थात् सरस्वती पूजाक दिन। विद्याक देवी माँ शारदे – हिनकहि कृपा सँ हमरा सब केँ बुद्धि-ज्ञान प्राप्त होइत अछि। जेकर जेहेन बुद्धि तेकर तेहेन दिनमान! विद्याधनं सर्वधनं प्रधानम्!   हम सब विद्यालय मे प्रार्थना […]

“आब नय रहलै वो गाम”

“आब नय रहलै वो गाम”

आब नै रहलै वो गाम,,,,, ना आब नै रहलै वो गाम…. आब नै रहल घैल घैलसार,, आब नै वो पाबैन तिहार…. आब ने कुम्हर फरय लेल चार,, आब नै रंग बिरही अचार.. सबदिश पसरल पक्का मकान.. ना आब नै रहलै वॉ गाम. ने नवकनियाँ ताने घोघ,,, नै काकी के खिस्सा पिहानी… बुदरुक सब के नै […]

लेखनी के धार प्रतियोगिता: पुरस्कृत लेख

लेखनी के धार प्रतियोगिता: पुरस्कृत लेख

समयानुसार परिवर्तन के साथ जे व्यक्ति चलैत अछि वो सुखी रहैत अछि । रीती -रिवाज कि धर्म के परिभाषा तक हर युग के अलग-अलग छय । जाहि समय में इ भैसुर भावों वला रिवाज बनलई तखन के आवश्यकता रहय कियाक—–स्त्री के स्थिति दयनीय रहय ।यदि पुरुष कोनो अभद्र, व्यवहार कैलथिन तॢईयो सजा स्त्री के भुगत […]

लेखनी के धार प्रतियोगिता: पुरस्कृत लेख

लेखनी के धार प्रतियोगिता: पुरस्कृत लेख

मिथिला में बहुत रास रीति-रिवाज होइ त अईछ जेना मुङन उपनयन और विवाह। मिथिलांचल में वैवाहिक रीति-रिवाज कनि अलग होइत अईछ। मैथिल दम्पति में जे प्रेम भाव होइत अईछ एक दोसर के प्रति जे सम्मान के भावना होइत अईछ से गौर करै बला बात अईछ। विवाह पूर्व घटकैति औपचारिकता भेलाक बाद सिद्धांत नाम सॅ एकटा […]

अपराजिता फूल केर विशेषता

अपराजिता फूल केर विशेषता

साभार रमण दत्त झा केर फेसबुक पोस्ट अपराजिता अपराजिता लता वाला पोधा अछि . एकर विशेष उपयोगिता दुर्गा देवी तथा माँ काली क पूजा मे उपयोग कायल जाइत अछि | नवरात्री क विशिष्ट अवसर पर अपराजिता क टहनि क पूजा सेहो होयत अछि | अपराजिता क ऊपर बहुत सुंदर फूल खिलल रहयत छै , गर्मी […]

मैथिल ब्राह्मण आ विवाह

मैथिल ब्राह्मण आ विवाह

आलेख – कुमुद मोहन झा हिन्दू धर्ममे सोलह संस्कार अन्तर्गत विवाह एकटा एहेन संस्कार थीक जे वंश परम्परा के चलबैत छैक । एक पीढी सं दोसर पीढी धरि अपन आनुवंशिक गुण के संचारित करैत छै । तदर्थ अपन कौलिक तेज आ संस्कार के अक्षुण्ण रखवाक हेतु विवाह के परा पूर्व काल सँ एकटा संस्था के […]

चौरचन पाबनिक संछिप्त पूजन विधान (वैकल्पिक)

चौरचन पाबनिक संछिप्त पूजन विधान (वैकल्पिक)

संकलनः साभार डी एन झा जी केर फेसबुक पोस्ट सँ चौठचन्द्र पूजनोत्सव के सभगोटे के मंगलमय हार्दिक शुभकामना… । पूजा के संक्षिप्त विधि ।। चतुर्थी चन्द्र पुजनः-।। स्नानोपरान्त आशन पर वैसक स्वस्ति वाचनोपरान्त गंगाजल जल मे राखि जल लकः- ॐ अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोपि वा । यः स्मरेत पुण्डरीकाक्षं स बाह्याभ्यन्तरः शुचिः ।। पुण्डरीकाक्षः […]

चौरचन पाबनिक वैदिक पूजा विधान

चौरचन पाबनिक वैदिक पूजा विधान

मिथिला कर्मकांड – लोकपाबनि चौरचनक वैदिक पूजा विधान – डा. सुधानन्द झा (ज्योतिषीजी), ग्रामः राढ़ी, जिलाः दरभंगा केर हस्तलेख पर आधारित (संकलन – श्री शंकर सिंह ठाकुर, सचिव, अप्पन ब्राह्मण समाज, विराटनगर, नेपाल) पुनर्लेखनः प्रवीण नारायण चौधरी  चौरचन लोकपाबनि थिकैक। एहि मे मंत्रक प्रधानता सँ बेसी भावक प्रधानता छैक। मिथिलाक विशिष्ट पाबनि थिकैक चौरचन, जतय […]

मिथिला, मैथिली आ मैथिल केर पौराणिक परिचय

मिथिला, मैथिली आ मैथिल केर पौराणिक परिचय

लेख – आध्यात्मिक अध्ययनक आधार पर मिथिलाक सम्पूर्ण परिचय – प्रवीण नारायण चौधरी अहो मित्र,   कि अहाँ ओहि मिथिला सँ छी जतय स्वयं जगदम्बा जानकी अवतार लेलनि?   पराम्बा जानकी मिथिला धरा सँ अवतार लेलनि, हमरो जन्म एहि धराधाम मे भेल, तैँ ‘जानकी’, ‘किशोरी’, ‘जनकलली’ हमर बहिन छथि!   मिथिलाक रीत-रेबाज आ लोकरीति-संस्कृति सब […]

बेटीक जन्मे दान करय लेल होइत छैकः पिताम्वरी देवीक सुन्दर कथा

बेटीक जन्मे दान करय लेल होइत छैकः पिताम्वरी देवीक सुन्दर कथा

लेख – पिताम्वरी देवी कन्यादान “दीदी मां! दीदी मां! अहाँ केँ बड खिस्सा अबैत ये, हमरा एकटा खिस्सा कहु ने।” रेणू केर सात वर्षक भतीजी आँचर पकड़िकय कहय लगलनि । ओ भतीजी केँ कोरा में बैसबैत कहलनि, “आ! तोरा एकटा खिस्सा कहै छियौ ।” ओ भतीजी केँ दुलार करैत कहलनि, “जखनि तोँ पैघ भऽ जेवहिन […]

Page 1 of 14123Next ›Last »