Home » Archives by category » Article » Philosophy (Page 3)

मैथिली सुन्दरकाण्डः दूत शुक द्वारा रावण केँ समझेनाय तथा लक्ष्मणजीक सन्देश देनाय

मैथिली सुन्दरकाण्डः दूत शुक द्वारा रावण केँ समझेनाय तथा लक्ष्मणजीक सन्देश देनाय

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद दूत शुक द्वारा रावण केँ समझेनाय तथा लक्ष्मणजीक सन्देश देनाय दोहा : कि भेल भेंट कि फिरि गेला श्रवण सुयश सुनि मोर। कहे न रिपु दल तेज बल बहुत चकित चित तोर ॥५३॥ भावार्थ:- हुनका सँ तोहर भेंटो भेलौक या ओ सब हमर सुयश सुनिकय […]

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्रीरामजी द्वारा समुद्र सँ रास्ता देबाक लेल प्रार्थना – लक्ष्मणजी द्वारा रावण लेल शुक मार्फत सन्देश

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्रीरामजी द्वारा समुद्र सँ रास्ता देबाक लेल प्रार्थना – लक्ष्मणजी द्वारा रावण लेल शुक मार्फत सन्देश

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद समुद्र पार करबाक लेल विचार, रावणदूत शुक केर एनाय और लक्ष्मणजी केर पत्र केँ लैत वापस जेनाय सुनु कपीश लंकापति वीर। कुन विधि तरब जलधि गंभीर॥ संकुल मगर साँप मत्स जाति। अति अगाध दुस्तर सब भाँति॥३॥ भावार्थ:- हे वीर वानरराज सुग्रीव और लंकापति विभीषण! सुनू, […]

मैथिली सुन्दरकाण्डः विभीषण द्वारा श्रीराम केर शरणागतिक प्राप्ति

मैथिली सुन्दरकाण्डः विभीषण द्वारा श्रीराम केर शरणागतिक प्राप्ति

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद विभीषण केर भगवान्‌ श्री रामजी केर शरण वास्ते प्रस्थान और शरण प्राप्ति दोहा: राम सत्यसंकल्प प्रभु सभा कालवश तोर। हम रघुवीर शरण चली देब दोष नहि मोर॥४१॥ भावार्थ:- श्री रामजी सत्य संकल्प एवं (सर्वसमर्थ) प्रभु छथि आर (हे रावण) तोहर सभा काल केर वश अछि। […]

मैथिली मे श्रीहनुमान चालीसा

मैथिली मे श्रीहनुमान चालीसा

हनुमान चालीसा (मैथिली अनुवाद) प्रेरणाः लेखक रमेश, दरभंगा – अनुवादः प्रवीण नारायण चौधरी नोटः त्रुटि लेल अग्रिमे क्षमा-प्रार्थना!! दोहाः श्रीगुरुचरणक धूल सँ कय मन दर्पण साफ। गाउ रामके गीत-गुण पाउ चारुफल आप॥ बिनु बुद्धी आ बिनु बले सुमिरी पवनकुमार। बल बुद्धि विद्या दिअ प्रभु हरू कलेस विकार॥ चौपाईः जय हनुमान ज्ञान गुण सागर जय कपीस […]

सुंदरकांड केर अद्भुत महत्व – मानव लेल बेहतरीन साधना

सुंदरकांड केर अद्भुत महत्व – मानव लेल बेहतरीन साधना

स्वाध्याय – प्रवीण नारायण चौधरी सुंदरकांड केर धार्मिक महत्त्व साभारः मंत्र-साधना पेज (स्वाध्याय केर अंश, पाठक लेल अनुवाद राखि रहल छी)   सुंदर कांड वास्तव मे हनुमान जी केर कांड थिक। हनुमान जी केर एक नाम सुंदर सेहो छन्हि। सुंदर कांड लेल कहल गेल अछि –   सुंदरे सुंदरे राम: सुंदरे सुंदरीकथा। सुंदरे सुंदरे सीता […]

दीपावली शुभकामना – पठनीय मननीय सन्देश

दीपावली शुभकामना – पठनीय मननीय सन्देश

दीपावली शुभकामना वर्ष 2020 केर दियाबाती यानी दीपावली आबि गेल। समय अपन गति केँ निर्बाध रूप सँ चलबैत रहैत अछि, किछु भ जाय ई ठमकैत तक नहि अछि। तेँ एहि वर्ष मानव सभ्यता पर कोरोना महामारी केर खतरा रहितो येन केन प्रकारेण गाड़ी बढ़िते जा रहल अछि, भले हम बीमार भ क्वरंटीने में छी आ […]

शास्त्र-पुराण संग हम मानवक अन्योन्याश्रय सम्बन्ध – दर्शन आ विचार

शास्त्र-पुराण संग हम मानवक अन्योन्याश्रय सम्बन्ध – दर्शन आ विचार

दर्शन-विचार – प्रवीण नारायण चौधरी कि कहैत अछि अपन शास्त्र-पुराण   उमेर केर आजुक पौदान धरि अबैत ई बात कतेको बेर मस्तिष्क मे आयल अछि जे शास्त्र-पुराण केर वचन आखिर हमरा सब वास्ते एतेक महत्वपूर्ण कियैक मानल जाइछ। आब ई प्रश्न गुरुजन सँ पूछब त ओहो लोकनि कहता जे ओ सिद्ध कयल सत्य (प्रमेय, अकाट्य […]

कि थिक मलमास आ एहि मासक कि सब होइछ विशेषता – आचार्य धर्मेन्द्रनाथ मिश्र संग मन्थन

कि थिक मलमास आ एहि मासक कि सब होइछ विशेषता – आचार्य धर्मेन्द्रनाथ मिश्र संग मन्थन

आध्यात्मिक चर्चा – आचार्य धर्मेन्द्र नाथ मिश्र कियैक होयत अछि पुरूषोत्तम मास मलमास के पुरूषोत्तममास, अधिमास आ अधिकमास केर नाम सँ जानल जायत अछि। समान्यतया अधिकमास ३२ महीना १६ दिन ४ घड़ी केर अन्तर सँ आबैत अछि। धर्मग्रंथ में प्रत्येक २८ मासक पश्चात आ ३७ मास सँ पहिने अधिकमास होबाक बात कहल गेल अछि। अधिकमास […]

हनुमान चालीसा सँ मानव स्वास्थ्य केँ अचूक लाभः तनाव दूर करबाक अचूक साधना

हनुमान चालीसा सँ मानव स्वास्थ्य केँ अचूक लाभः तनाव दूर करबाक अचूक साधना

आध्यात्मिक चिन्तन-स्वाध्याय मूल लेखः पूजा सिन्हा, हर-जिन्दगी डट कम पर एडिटोरियल (अनुवादः प्रवीण नारायण चौधरी) Hanuman Jayanti 2020: हनुमान चालीसा केर पाठ करब तँ तनाव रहत अहाँ सँ कोसो दूर अगर अहाँ सेहो अपन सपना केँ टूटैत और असफल होयबाक कारण तनाव सँ घेरायल रहैत छी तऽ परेशान नहि होउ कियैक तँ एहेन मे हनुमान […]

महादेव केर पूजन लिंङ्गरूप मे कियैक – विस्तृत माहात्म्य

महादेव केर पूजन लिंङ्गरूप मे कियैक – विस्तृत माहात्म्य

स्वाध्याय आलेख – प्रवीण नारायण चौधरी भगवान् शिव केर लिङ्ग एवं साकार विग्रह केर पूजाक रहस्य तथा महत्वक वर्णन स्रोतः शिवपुराण, विद्येश्वरसंहिता, अध्याय ३ सँ ८ केर संछिप्त सारांश आधारित (लेख निरन्तरता मे अछि) महादेव मात्र केर लिंग पूजन कियैक स्वाध्याय केर केन्द्रविन्दु एखन शिवपुराण में एहि गूढ़ रहस्य केँ ताकि रहल अछि। विद्येश्वरसंहिता में […]