Home » Archives by category » Article » Philosophy

सीता जी संग हनुमान जी मैथिली मे संवाद कयलनिः सन्दर्भ वाल्मीकिरामायण एवं रामायणमर्मज्ञ संत मोरारी बापूजी

सीता जी संग हनुमान जी मैथिली मे संवाद कयलनिः सन्दर्भ वाल्मीकिरामायण एवं रामायणमर्मज्ञ संत मोरारी बापूजी

लेख – प्रवीण नारायण चौधरी (२०१४ फेसबुक नोट्स मार्फत प्रकाशित) मैथिलीमे मिथिलाक धिया सिया संग मिथिलाक भगिनमान हनुमान केर वार्ता: अशोक वाटिका, लंकामे! एखन भाइ संजय कुमार मिश्र चर्चा केलैन जे ओ श्री मोरारी बापु केर रामकथा सुनैत घडी ई प्रसंग सुनलैन जे हनुमानजी सियाजी संग मैथिली भाषामे वार्ता केलैन, जाहिसँ सियाजीकेँ विश्वास बढलैन जे […]

अत्यन्त पठनीय-मननीय आलेखः ‘दान-धर्म’ (महर्षि दयानन्द सरस्वतीकृत्)

अत्यन्त पठनीय-मननीय आलेखः ‘दान-धर्म’ (महर्षि दयानन्द सरस्वतीकृत्)

स्वाध्याय लेख अनुवादः प्रवीण नारायण चौधरी दान-धर्म (ब्रह्मलीन स्वामी श्रीदयानन्दजी सरस्वती, भारतधर्म महामण्डल)   धर्मक तीन प्रधान अंग छैक – यज्ञ, तप आ दान। श्रीगीतोपनिषद् मे कहल गेल अछि – ‘यज्ञो दानं तपश्चैव पावनानि मनीषिणाम्’। एहि तीन प्रकार प्रधान धर्मांग सब मे दान-धर्म सब प्रकारक अधिकारी लेल प्रथम व कलियुग मे परम सहायक अछि। भगवान् […]

रामायणक अद्भुत रहस्य – पढिकय कियो भावुक भऽ जायत

रामायणक अद्भुत रहस्य – पढिकय कियो भावुक भऽ जायत

स्वाध्याय आलेख – अखिलेश कुमार मिश्र रामायण के सार – अद्भुत रहस्य एक राति के बात अछि। माता कौशल्याक नींद अचानक खुजि गेल। हुनका अप्पन छत पर केकरो चलs के पदचाप सुनाई देलक। पता केलैथि तs पता चलल जे ओ शत्रुघ्नजीक अर्धांगिनी श्रुतिकीर्ति जी छैथि। हुनका माँ कौशल्या नीचा बजेलैथि। श्रुतिकीर्ति जी, सभ सँ छोटकी पुतौहु […]

आइ हम हिन्दू धर्मावलम्बी अपन कतेक नियम निष्ठा निर्वाह करैत छी

आइ हम हिन्दू धर्मावलम्बी अपन कतेक नियम निष्ठा निर्वाह करैत छी

हम सब कतय छी   समस्त सृष्टि – समस्त प्रकृति – समस्त स्थिति आदिक एकमात्र आधार भगवती आदिशक्ति जगदम्बा केर स्तुति मे ‘दुर्गा सप्तशती’ केर पाठ सब कियो बुझिते छी। भगवतीक विभिन्न अवतार आ दानव-दैत्यक संहार केर चरित्र वर्णन अछि। मधु-कैटभ केर बद्ध प्रथम चरित्र, महिषासुर आ ओकर सेनाक बद्ध मध्यम चरित्र आ फेर शुम्भ-निशुम्भ […]

संतोष पर संस्कृत केर प्रेरणादायी श्लोक मैथिली भावार्थ सहित

संतोष पर संस्कृत केर प्रेरणादायी श्लोक मैथिली भावार्थ सहित

स्वाध्याय आलेख – प्रवीण नारायण चौधरी हमरा सभक समय मे प्राथमिक कक्षा मे संस्कृत केर पढाई उपलब्ध छल। संस्कृतक श्लोक सभक अर्थ सदिखन नीक आ प्रेरणादायी शिक्षा देल करय। नीतिश्लोकाः, सुभाषितानि, अन्य धार्मिक शास्त्र-पुराण आदिक चर्चा सब सँ जे श्लोक सभ प्राप्त हुए ताहि सब मे अपन जीवन मे अनुकरण योग्य सीख भेटि जाइत छल। […]

भगवती तुलसीक कथा (शिवपुराण मे वर्णित कथाक सार)

भगवती तुलसीक कथा (शिवपुराण मे वर्णित कथाक सार)

स्वाध्याय आलेख – तुलसीक कथा – अनुवादकः प्रवीण नारायण चौधरी हम मिथिलावासी हिन्दू समुदाय अपन आंगन मे तुलसी चौरा निश्चित रखैत छी। तुलसी भगवती छथि। तुलसीक बहुल्य उपयोग कर्मकाण्ड मे सेहो वर्णित अछि, यथा – भगवानक पूजा मे तुलसीपत्र केर हविष्य, प्रसाद आदि मे तुलसीपत्र देबाक महत्व, लोकक अन्तिम यात्राक समय मुख मे तुलसी आ […]

एक अति महत्वपूर्ण लेख जे पढिते बदलि जायत अहाँक जीवन – सार्थक मार्गदर्शन

एक अति महत्वपूर्ण लेख जे पढिते बदलि जायत अहाँक जीवन – सार्थक मार्गदर्शन

स्वाध्याय सँ प्राप्त सुन्दरतम् लेख – मैथिली अनुवाद – प्रवीण नारायण चौधरी ई बदैल सकैत अछि अहाँक जीवन!! (It can change your life!) (स्कन्दपुराण सँ लेल गेल एक कथा) श्रीनारदजी ऐतरेय मुनि आ हुनक माताक बीच भेल संवादक उल्लेख कएने छथि, जाहि मे कहल गेल अछि जे ऐतरेय मुनि अपन माय केँ वैराग्यक उपदेश देलनि […]

बजरंगबाण आ हनुमानाष्टक केर मैथिली रूप

बजरंगबाण आ हनुमानाष्टक केर मैथिली रूप

आदरणीय ‘लेखक रमेश’ सर केर प्रेरणा पर तुलसीकृत बजरंगबाण आ हनुमानाष्टक केर मैथिली रूप – दोष लेल क्षमायाचनाक संगः   बजरंगवाण निश्चय प्रेम प्रतीति जे, विनय करय सम्मान। ताहि के कार्य सकल शुभ, सिद्ध करथि हनुमान॥ जय हनुमंत संत हितकारी। सुनियौ प्रभु मोर अर्जि गोहारी॥ जनके काज विलंब नै करबै। आतुर दौड़ि महा सुख देबै॥ […]

किछु महत्वपूर्ण मंत्र – जीवनोपयोगी साधना मंत्र जाप सँ सिद्धि लेल सर्वोपयोगी

किछु महत्वपूर्ण मंत्र – जीवनोपयोगी साधना मंत्र जाप सँ सिद्धि लेल सर्वोपयोगी

विभिन्न शास्त्र आ धर्म (यथा हिन्दू, जैन, बौद्ध आदि) मे उपयोग मे रहल व्यवहारिक मंत्रक संकलन १. गणपति स्तुति सरागिलोकदुर्लभं विरागिलोकपूजितं सुरासुरैर्नमस्कृतं जरापमृत्युनाशकम् । गिरा गुरुं श्रिया हरिं जयन्ति यत्पदार्चकाः नमामि तं गणाधिपं कृपापयः पयोनिधिम् ॥ १॥ गिरीन्द्रजामुखाम्बुज प्रमोददान भास्करं करीन्द्रवक्त्रमानताघसङ्घवारणोद्यतम् । सरीसृपेश बद्धकुक्षिमाश्रयामि सन्ततं शरीरकान्ति निर्जिताब्जबन्धुबालसन्ततिम् ॥ २॥ शुकादिमौनिवन्दितं गकारवाच्यमक्षरं प्रकाममिष्टदायिनं सकामनम्रपङ्क्तये । चकासतं […]

सुन्दरकाण्ड मैथिली मे – तुलसीकृत रामचरितमानस केर मैथिली स्वरूप

सुन्दरकाण्ड मैथिली मे – तुलसीकृत रामचरितमानस केर मैथिली स्वरूप

सुंदरकाण्ड सुंदरकाण्ड मे हनुमानजी लंका लेल प्रस्थान, लंका दहन सँ लंका सँ वापसी तक केर घटनाक्रम अबैत अछि। नीचाँ सुंदरकाण्ड सँ जुड़ल घटनाक्रम केर विषय सूची देल गेल अछि। अहाँ जाहि घटनाक्रमक सम्बन्ध मे पढ़य चाहैत छी ओकर लिंक पर क्लिक करू। मंगलाचरण हनुमान्‌जी केर लंका केँ प्रस्थान, सुरसा सँ भेंट, छाया पकड़यवाली राक्षसी केर […]

Page 1 of 27123Next ›Last »