Home » Archives by category » Article (Page 131)

मैथिल सर्जक परिचयः बेचन महतो

मैथिल सर्जक परिचयः बेचन महतो

विशिष्ट व्यक्तित्व परिचयः मैथिली कवि बेचन महतो – बिन्देश्वर ठाकुर, दोहा, कतार। धनुषा जिल्लाक हथमुण्डा गामक साधारण परिवारमे जनम लेनिहार एकटा सर्व साधारण व्यक्ति कोनाक सर्जक व कवि भऽ गेलाह आ कर्मस्थल गल्फ देशक मरुभूमियोमे कोन तरहे अपन भाषा-संस्कृतिक विकास दिस अग्रसर छथि ? आबू पढी कवि बेचन महतो जीक दिलचस्प रिपोर्ट मैथिली जिन्दाबाद पर […]

२६ जनबरी – भारतीय गणतंत्र दिवसः ऐतिहासिक गाथा

२६ जनबरी – भारतीय गणतंत्र दिवसः ऐतिहासिक गाथा

भारतीय गणतंत्र दिवस: ऐतिहासिक गाथा इतिहास केर अध्ययन महत्त्वपूर्ण अछि, कारण जे बीतल बात केर गाथा सँ नीक आ बेजायक समुचित ज्ञान अर्जन कैल जाएछ। स्वाध्याय मे यदा-कदा आ विशेष अवसरपर इतिहासक अध्ययन केर महत्त्व केँ माहात्म्य रहि आयल छैक। आउ, आइ २६ जनबरी – २०१६ – भारतक गणतंत्र दिवस केर शुभ उपलक्ष्य मे अध्ययन […]

मिथिला गाबय गीतः शिव कुमार झा टिल्लू

मिथिला गाबय गीतः शिव कुमार झा टिल्लू

विशिष्ट व्यक्तित्व परिचयः मैथिली कवि एवं गीतकार शिव कुमार झा ‘टिल्लू’ विधा : मैथिली आ हिन्दीक साहित्यकार आ समालोचक जन्म : अपन मातृक बिहार प्रांतक बेगूसराय जिलाक मालीपुर गाँव मे ११ दिसंबर १९७३ केँ भेल. पिता :स्वर्गीय काली कान्त झा बूच ( मैथिली साहित्यक चर्चित गीतकार ) माता : स्वगीया चन्द्रकला झा पैतृक गाँव : […]

गीताः सृष्टिक आदि सँ परंपरा सँ आबि रहल अछि ई गूढतम् ज्ञान

गीताः सृष्टिक आदि सँ परंपरा सँ आबि रहल अछि ई गूढतम् ज्ञान

गीताक तेसर बेरुक स्वाध्याय (निरंतरता मे…. कर्मयोग केर समस्त सिद्धान्त बतबैत भगवान् द्वारा मनुष्यक मूल शत्रु काम आर क्रोध कहल गेल, निश्चयपूर्वक एहि दुइ केँ मारबाक संपूर्ण प्रक्रिया बतबैत मारबाक लेल कहल गेल…. आर आगू चारिम अध्याय मे संन्यास योग पर विवेचना आरम्भ…) भगवान् कहलनि, इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानहमव्ययम्। विवस्वान्मनवे प्राह मनुरिक्ष्वाकवेऽब्रवीत्॥४-१॥ एवं परम्पराप्राप्तमिमं राजर्षयो […]

डा. चन्द्रमणिक टटका रचना “मिथिला राज”

डा. चन्द्रमणिक टटका रचना “मिथिला राज”

मिथिला राज ********** – डा. चन्द्रमणि झा हिम गंगा गंडकी बंग के मध्यक अछि जे भाग रहय देब ने बन्हकी चाही हमरा मिथिला राज। अपन राज्य उद्योग लगायब भेटत सबके काज होयत मैथिली राजक भाषा अपन जोगायब पाग। सात दशक बीतल आज़ादी के नहि टूटल निन्न कहाँ गेल प्रस्ताव केंद्र केँ मिथिला राज्य हो भिन्न। […]

युवा कवि – गीतकार रौशन मिश्राक दुइ लेटेस्ट रचना

युवा कवि – गीतकार रौशन मिश्राक दुइ लेटेस्ट रचना

विशिष्ट युवाः परिचय युवा कवि, गीतकार, लेखक तथा अभियानी रोशन मिश्रा, दहेज मुक्त मिथिला – महाराष्ट्र सचिव – प्रकाश कमती, मुम्बई। जनबरी २४, २०१६. मैथिली जिन्दाबाद!! (१) किछ नव त किछ पुराण होइ छै किछ नीच त किछ महान होइ छै सब किछ बुझितो में लोक आइ एहन किया अज्ञान होइ छै जिनगी के खेल […]

बेचन महतोक मैथिली कविता – सीधे कतार सँ लिखि पठौला

बेचन महतोक मैथिली कविता – सीधे कतार सँ लिखि पठौला

नै स्वागत नै बिदाई (कविता) परम्परा केर अकास मे नियति के सुशासनक चक्की मे पिसबैत आँटा ब्यस्त समय के बेलना स’ बेला रहल ई मनक रोटी मानव धर्म के ताबा मे सेका रहल ई तन बोली के नमक पसिना के तेल पित्तक मिरचाई नियतिक शिलापर रगड़ा रहल बिचारक चटनी केर स्वाद अनुपम लाइग रहल अछि एहि मरुभूमि मे! ओमहर […]

बघवा गाम – सहरसा टा नहि सौंसे मिथिलाक एक विलक्षण गाम

बघवा गाम – सहरसा टा नहि सौंसे मिथिलाक एक विलक्षण गाम

परिचयः विशिष्ट गाम ‘बघवा’ केर – भारत भूषण राय बघवा हमर सबहक जान, एकरा बिना हमरा सबहक कोनो अस्तित्व नहि अछि। बिहार राज्य केर मिथिला क्षेत्र मे कोसी नदीक बेसिन मे बसल बघवा गाम सहरसा जिला मुख्यालय सँ २२ किलोमीटर केर दूरी पर अवस्थित अछि। ई गाम अपन शिक्षा संस्कार आ विद्वान सबहक कारण सँ पुरे […]

मिथिलाक माटि सँ बालीवुड सिने सह हास्य अभिनेता ‘गोविन्द पाठक’

मिथिलाक माटि सँ बालीवुड सिने सह हास्य अभिनेता ‘गोविन्द पाठक’

साक्षात्कारः कलासंपन्न बालीवुड कलाकार तथा लाफ्टर शो हिरो ‘गोविन्द पाठक’ सँ हालहि मुम्बई मे संपन्न अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलनक ऐतिहासिक मंच पर प्रस्तुत कलासंपन्न मैथिल कलाकार – अभिनेता गोविन्द पाठक केर हास्य सँ उपस्थित दसों हजार मैथिल जनमानस सँ आनन्दविभोर भऽ गेल छलाह। श्री पाठक केर कलाकारी केर चर्चा चौतर्फा चलि रहल अछि। एहि बीच हिनका […]

गीताः आत्मारूप आत्मामे अवस्थित मूल शत्रु काम केँ मारू

गीताः आत्मारूप आत्मामे अवस्थित मूल शत्रु काम केँ मारू

गीताक तेसर बेरुक स्वाध्याय (निरंतरता मे… भगवान् ओहि बलक वर्णन कएलनि जे मनुष्यक मुख्य शत्रु थीक आर यैह सब पर हावी रहैत अछि, कोनो तरहें मानयवला नहि होइछ…. काम आर क्रोध केँ ओ बल कहि ज्ञानीजन पर्यन्त केँ एकर चाप मे होयबाक बात कहलैन, मूढक तऽ बाते छोड़ू। संगहि इन्द्रिय, मन आर बुद्धि एहि शत्रुक […]