विद्यानन्द बेदर्दीः संभवतः सबसँ कम उम्र के मैथिली गजलकार

Pin It

गजल : विद्यानन्द वेदर्दी, ललितपुर,काठमाण्डु,२०७४/०४/०६

मिथिला हमर महान देखु ई छातीमे,
जीवैए बनि भगवान देखु ई छातीमे॥

 यदि आँहा गीत, गजल, कविता के पढबाक इच्छुक छी तs ई लिंक पs जा पढू :https://www.facebook.com/vidyanand.bedardi

विद्यानन्द वेदर्दी

शोणीत संग बहैत कलकल-छलछल,
कोशी-कमला-बलान देखु ई छातीमे॥

बाजी त नितहुँ निकलए ठोरसँ मधु,
मैथिली अमृत समान देखु ई छातीमे॥

श्रद्धा-स्नेह केर छीयैक परम पूजारी,
उच्च कते स्वाभिमान देखु ई छातीमे॥

के हिन्नु के मुसलमान हम नै जानी,
मैथिल हमर पहिचान देखु ई छातीमे॥

एकहकटा साँस समर्पण कऽ करैत,
माटिपानि-अभियान देखु ई छातीमे॥
_________________
©    यदि आँहा गीत, गजल, कविता के पढबाक इच्छुक छी तs ई लिंक पs जा पढू:-  https://www.facebook.com/vidyanand.bedardi

पूर्वक लेख
बादक लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 + 1 =