आइ छी गैर-आवासीय नेपाली संघ केर ३३म् ‘प्रवासी प्रवाह’ मैथिली भाषा-साहित्य पर – जुड़बाक अपील

हार्दिक अपील
 
प्रत्येक मैथिली भाषी आ विशेष रूप सँ साहित्यप्रेमी लोकनि सँ विशेष आग्रह –
 
गैर-आवासीय नेपाली संघ – एनआरएनए केर “भाषा, साहित्य, संस्कृति तथा सम्पदा प्रवर्द्धन समिति” द्वारा निरन्तर उद्देश्य सन्दर्भित कार्यक्रमक आयोजना कयल जाइत रहल अछि। पहिल बेर एहि संस्था द्वारा नेपालक अन्य राष्ट्रिय भाषाक रूप मे सर्वप्रथम मैथिली केँ स्थान दैत आइ रवि दिन १७ जनवरी नेपालक समय ८ बजे (भारतक समय ७ः४५ बजे) सन्ध्याकाल मिथिलाक वरदपुत्र डा. उपेन्द्र महतो (एनआरएनए केर संस्थापक अध्यक्ष) आ प्राज्ञ धीरेन्द्र प्रेमर्षि (नेपाल संगीत तथा नाट्य प्रज्ञा प्रतिष्ठान) केर सान्निध्य आ संलग्नता मे मैथिलीक चर्चित कवि लोकनि मे विन्देश्वर ठाकुर, अमित प्रताप साह, सुभाष कुमार बैठा, राम अधिन यादव ‘सम्भव’, सन्तोष सिंह संग हमरो सहभागिताक अवसर देल गेल अछि। एहि कार्यक्रम मे सहजकर्ताक भूमिका सुश्री भगवती बस्नेत ‘बुनू’ तथा हरि पौड़ेल रहथिन।
 
विदित हो जे एनआरएनए केर उच्च पदाधिकारी एवं भाषा-साहित्य प्रेमी श्री हिकमत बहादुर थापा एहि तरहक मन्तव्य काफी समय सँ दैत रहला जे एनआरएनए द्वारा नेपालक सब मातृभाषा प्रति सम्मान आ सेवाक भाव राखिकय काज करबाक नियार अछि, आर तेकर शुरुआत आइ सँ ‘मैथिली’ केन्द्रित ३३म आयोजन द्वारा होबय जा रहल अछि।
 
नेपाल बहुभाषा-बहुसंस्कृति केर एक अद्भुत देश थिक जतय पृथ्वीक मेरुदण्ड हिमालय समान विशाल आ पवित्रतम स्थान संग हजारों तीर्थस्थान, ऋषि-मुनि आश्रम संग मिथिला अधिष्ठात्री जानकी आ अधिष्ठाता जनकक भूमिक संग महात्मा बुद्ध केर जन्मभूमि आ साक्षात् देवाधिदेव महादेव केर एकमेव अलौकिक ‘पशुपतिनाथ’ विराजमान छथि। पिछला कतेको दशक सँ एहि ज्ञानभूमि-शान्तिभूमि मे राजनीतिक परिवर्तनक संघर्ष जारी अछि, जे चिन्ताक विषय छी। लेकिन एनआरएनए केर अर्जुनदृष्टि राष्ट्रक समावेशिक समग्र पहिचान नेपाली केँ भाषा नेपाली सँ ऊपर समस्त नेपाली राष्ट्रिय भाषाकेँ समेटिकय सम्मान देबाक कार्य आरम्भ भेल अछि जे गन्तव्य धरि अवश्य जायत। एकल उपलब्धि सँ ऊपर सब राष्ट्रिय भाषा प्रति सम्मान आ सद्भावनाक लक्ष्य नेपालक राष्ट्रियता केँ सशक्तीकरणक एक अद्भुत प्रयास थिक, जाहि लेल एनआरएनए प्रति हम समस्त मैथिलीभाषी कृतज्ञता सँ आभार व्यक्त करैत छी। आर, तेँ अहाँ सभक सहभागिता आजुक कार्यक्रम मे आवश्यक अछि।
 
हार्दिक आमंत्रण
 
‘३३म प्रवासी प्रवाह’ – मैथिली साहित्य केन्द्रित
 
समय ८ बजे सन्ध्या
 
स्थानः ‘एनआरएन साहित्य, ईनेपलीज, आदि कुल ९ गोट फेसबुक व औनलाइन मीडिया पेज द्वारा लाइव’
 
पेज लिंक पर क्लिक कय केँ लाइव देखि सकैत छीः
 
Cordial Invitation
’33rd Pravasi Pravaah’ – based on Maithili literature
 
You are cordially invited to attend the online live show of NRNA (Non-Resident Nepali Association) under the name of ‘Pravasi Pravaah’ (33rd episode) based on Maithili literature which will be presented by FB page of NRN Literature (NRN Sahitya), Enepalese, and in total 9 online pages tomorrow on 17th January 2021 from 8 PM (Nepal Standar Time) and onwards.
 
अपने सभक प्रतिक्षा रहत।
 
विनीतः
 
प्रवीण नारायण चौधरी
अध्यक्ष, मैथिली एसोसिएशन नेपाल, विराटनगर।
पूर्वक लेख
बादक लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 + 2 =