बिहार विधानसभा चुनाव २०२० सन्दर्भित मैथिल मतदाता लेल विचारनीय विषय-वस्तु

विचार

– राज किशोर झा

#बिहार_विधानसभा_चुनाव_2020

बिहारमे प्रस्तावित चुनाव अगिला पांच वर्षक भविष्य तय करत। राज्य एखनो बेसिक जरूरतकेँ पूरा करबामे जुझैत देखा रहला। जाहि राज्यमे एतेक मेधावी, कर्तव्यनिष्ठ आ मेहनती युवा वर्गक संख्या होइक ओहि राज्य के तेजीसँ विकास करबाक संभावना बेसी हेबाक चाही छल। हम सब वैश्विक विकासक एक अहम धूरी बनि चुकलौंहा मुदा अपन राज्य ओकर सदुपयोगिता बुझितो असमंजस मे परल अछि। राज्यक ग्रोथ एखनो क़ृषि आ सर्विस सेक्टर पर निर्भर अछि। क़ृषि पर कहीं ने कहीं बाढ़ि-सुखारक कुदृष्टि बनल रहैया। औद्योगिक विकासक क्षेत्रमे प्रयास निश्चित भेल हएत मुदा सफलता विज़िबल नै बुझना जा रहला।
करोड़ो लोक एखनो संभावनाक अभावमे घर छोड़बाक लेल मजबूर छथि। बेहतर संभावना लेल कत्तौ गेनाईमे हम खराबी नहि देखैत छियैक मुदा अभावे गेनाई सुखद अनुभूति नै दैत अछि। लाखों लोक बिहारसँ बाहर सफलताक चोटी पर पहुँचलाह परन्तु हुनको राज्यक विकासमे समुचित योगदान नै देनाई शायद पिछड़ापन के एक कारण अछि। Successful people can talk and raise concern but do very little to change the situation. We have got more #Feelers than #Doers. स्थिति बदलबाक लेल सीरियसली #DOERS के जरूरत छैक। चाहे ओ राजनैतिक क्षेत्रमे होइथ, ब्यूरोक्रेसीमे होइथ, औद्योगिक क्षेत्रमे होइथ, उद्यमी होइथ, शिक्षाविद होइथ वा अन्य क्षेत्रक प्रोफेशनल्स होइथ।
चुनावक प्रचार प्रसार धीरे धीरे शुरू भ रहला। सोशल मीडिया आ जनसम्पर्कक मध्यमसँ लोक जमीनी स्तर पर बिगुल फूंकी रहल छथि। किछु विशेष बात जे राज्यक हितमे ध्यान दी आ संबलता प्रदान करी:
– योग्य #प्रत्याशी के चयन प्रमुखता बनय।
– विजनरी आ शिक्षित होइथ। वोटर जाति-पातिसँ ऊपर यदि अगिला पांच वर्ष लेल उठि सकी त प्रयास करू।
– प्रत्याशीसँ क्षेत्रीय विकासक कमिटमेंट करबाऊ आ विजयोपरांत समय समय पर वीडियो भेजि याद करबाबैत रही
– सामाजिक सौहार्द लेल ओ कतेक प्रतिबद्ध छथि।
– क्षेत्रमे कतेक ‘निर्मल गामक’ परिकल्पना छन्हि। निर्मल गामक परिभाषा की छन्हि
– औद्योगिक विकास हेतु हुनक प्रतिबद्धता की छन्हि
– क्षेत्रीय भाषाक विकासोन्मुख शिक्षाक प्रति हुनक की सोच छन्हि।
– बिहारमे पर्यटन के असीम संभावना थीक। ओकरा प्रति हुनक की वैचारिक क्लैरिटी छन्हि
बेसी सँ बेसी प्रश्नक माध्यमे हुनको विकासक भूख जगेबाक प्रयास कएल जाय। हुनको लोकक अस्पिरेशन बुझबाक मौका भेटतन्हि संगहि नीक सलाहकार रखबाक प्रेरणा मिलतन्हि। जाधरि विकासक भूख जनमानस सँ ल’ क’ राजनेता आ प्रशाशनिक अधिकारीकें नै हेतन्हि ताधरि स्थिति मे आमूलचूक परिवर्तन मुश्किल हएत।
ई राजनैतिक पोस्ट नहि थीक। विशुद्ध अराजनैतिक विचारक प्रस्तुति अछि।
पूर्वक लेख
बादक लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 + 5 =