महिषी मे संपन्न भेल बाल रंग शिविर

अमित आनन्द, महिषी। जुन ८, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!!

IMG_20150608_131340महिषीक एडीपीजे उच्च विद्यालयक प्रांगण मे भारत सरकार अन्तर्गत कार्यरत पूर्वी क्षेत्रीय सांस्कृतिक केन्द्र, कोलकाता तथा महिसी डट ओआरजी केर संयुक्त तत्त्वावधान मे आयोजित ७-दिवसीय ‘ग्रीष्मकालीन बाल रंग शिविर’ कार्यक्रमक समापन सँ लोकमानस मे सांस्कृतिक समृद्धि हेतु वांछित जागृतिक प्रसार संभव भेल। २ जुन सँ प्रारंभ एहि शिविर केर समापन समारोह मे सहभागी बच्चा सब द्वारा तरह-तरह केर प्रस्तुति जाहि मे मिथिलाक्षेत्र पारंपरिक लोकगीत एवं लोकनृत्यक संग एकांकी नाटक केर सेहो प्रस्तुति सब छल। झरनी, डिहवार केर प्रस्तुतिक सराहना सहभागी दर्शकक संग कार्यक्रमक मुख्य अतिथि शिक्षाविद् अभिमन्यु खाँ, विशिष्ट अतिथि डा. सूर्य मोहन ठाकुर आ सभाध्यक्ष सदाशिव चौधरी सब कियो जी खोलि कय केलनि। एहि कार्यक्रम मे आधुनिक कथा लेखन तथा चित्रकारिताक सेहो प्रदर्शनी समाहित छल। एकांकी नाटक केर माध्यम सँ समसामयिक सामाजिक कूरीति आदि पर प्रेरणादायक संवाद केर संचरण सेहो खास रूप सँ चर्चा पेलक।

Kishor Jee Flax.cdr For Print-1 (1)पूर्वी क्षेत्रीय सांस्कृतिक केन्द्रक किशोर केशव जे स्वयं एक लब्धप्रतिष्ठित रंगकर्मी सेहो छथि हुनका द्वारा कुल ६२ बच्चा केँ प्रशिक्षित करबाक शिविर संचालन कैल गेल छल। ओ कहलनि जे बच्चा सब मे अपार संभावना छिपल रहैत अछि, खासकय छात्रावर्ग मे। ई सब राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सेहो बेहतरीन प्रदर्शन कय सकैत अछि। एकरा सबकेँ बस प्रोत्साहनक आवश्यकता छैक।

अतिथि एवं सहभागी जनमानसकेँ स्वागत करैत महिषी डट ओआरजी केर वेब-प्रशासक (एडमिन) अमित कुमार चौधरी अपन संबोधन मे अति प्राचीनकाल सँ विकास कैल संस्कृति, परंपरा व इतिहास केर संरक्षण पर जोर दैत ओकर महत्त्वकेँ वर्तमान पीढी तक पहुँचेबाक जरुरति रहबाक बात कहलैन। महिषी केँ नव ऊँचाई तक पहुँचेबाक लेल एहि तरहक आरो कार्यक्रम सब केर आयोजन बेर-बेर करबाक लेल महिषी डट ओआरजी प्रतिबद्ध रहबाक वचन सेहो चौधरी द्वारा देल गेल।

IMG_20150608_130011डा. सूर्य मोहन ठाकुर – भाषाविद् अपन विशिष्ट संबोधन मे सहभागी बच्चा सबमे केवल ७ दिनक प्रशिक्षण सँ आयल परिवर्तन पर अपन विशेष अनुभूतिक बात कहलैन। “जीवन स्वयं एकटा नाटक थिकैक” आर अनुभव सँ कला-प्रदर्शन मे निखार अबैत छैक – महिषी डट ओआरजी केँ एहि तरहक मंच उभरैत बालक-बालिका लेल उपलब्ध करेबा लेल विशेष धन्यवाद दैत डा. ठाकुर अपन संबोधन केँ विराम देलनि।

कार्यक्रमक प्रमुख अतिथि, शिक्षाविद् एवं नेतरहाट आवासीय विद्यालयक पूर्व प्रधानाध्यापक अभिमन्यु खाँ नाटक एवं रंगकर्म केँ अनुशासन संग-संग जीवन जियबाक कलाक रूप मे मानव जीवन हेतु अभिन्न हिस्साक रूप मे रहबाक बात बतौलनि। बाल्यकालहि सँ एहि तरहक प्रशिक्षण सँ गामक भविष्य उज्ज्वल होयब सुनिश्चित अछि सेहो मुख्य अतिथि द्वारा कहल गेल।

IMG_20150608_111026सभाध्यक्ष सदाशिव चौधरी स्वयं महिषीक एक लब्धप्रतिष्ठित रंगकर्मीक रूप मे विगत केर समृद्ध रंगकार्यक संस्कृति कोन तरहें महिषीकेँ एकटा अलगे प्रतिष्ठा ओहि क्षेत्र मे प्रदान केलक ताहि संस्मरणक संग एकर भविष्य मे संरक्षण करबाक दिशा मे सबहक ध्यानाकर्षण कएलनि। कलाकर्मक प्रभाव दैनिक जीवन पर कोन तरहें पड़ैत छैक आ लोक कोना अपन जिम्मेवारीकेँ बुझि पबैत अछि तेकर बहुते रास प्रेरणास्पद उदाहरण सब सेहो रखलैन।

कार्यक्रम संयोजक आ महिषी डट ओआरजी केर सेहो संयोजक अमित आनन्द द्वारा अन्त मे आयोजन पक्ष, सहभागी बच्चा सब आ समापन समारोह मे उपस्थित समस्त दर्शक एवं माननीय अतिथि लोकनिकेँ धन्यवाद ज्ञापन कैल गेल। अपन संबोधन मे ओ कहला जे ई तऽ बस शुरुआत छी, महिषी डट ओआरजी एहि तरहक आरो बहुते मंच महिषीक समग्र विकास लेल उपलब्ध करबैत रहत। कार्यक्रमक अन्त मे सहभागी छात्र-छात्रा केँ प्रमाणपत्रक वितरण कैल गेल। संगहि सहभागी अतिथि लोकनिकेँ स्मृति प्रतीक सेहो भेंट कैल गेल। एहि अवसर पर आरो गणनीय उपस्थिति राजेश कुमार, दिलीप कुमार चौधरी, सुधीर कुमार, कुन्दन मिश्र आयोजन पक्षक सहयोगी आदिक रहल छल।

पूर्वक लेख
बादक लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 + 2 =