१७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन – सम्पूर्ण समाचार

१७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन

(रिपोर्ट)

१७म् अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन विराटनगर मे अपार जनसहभागिताक संग सम्पन्न भेल

मैथिली भाषा आ साहित्य अति प्राचीन अछि। ज्योतिरिश्वर ठाकुर, विद्यापति, कविश्वर चन्दा लगायत कतेको रास साहित्यकार, कवि, विद्वान् लेखक आ विचारक द्वारा मैथिली पोषित रहल। नेपाल आ भारत मे बाजल जायवला भाषा मैथिलीक इतिहास अत्यन्त समृद्ध अछि। मैथिलीक प्राचीन पान्डुलिपि नेपाल मे सुरक्षित भेटल। विद्यापति आ ज्योतिरिश्वरक कार्यक्षेत्र नेपाल रहल। ताहि नेपालक प्रदेश १ केर राजधानी विराटनगर मे १७म् अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन अभूतपूर्व जनसहभागिता संग सम्पन्न भेल।

पुस ६ आ ७ गते विराटनगरक हाटखोला मैदान तथा जानकी सदनक रजत सभागार मे एक संग ई आयोजन भिन्न-भिन्न सत्र मे पूरा भेल अछि। करीब ३०० प्रतिनिधिक सहभागिता नेपाल, भारत आ अन्य देश सँ देखल गेल। भाषा, साहित्य, संस्कृति, समाज केर समृद्धिक उत्सवक रूप मे आयोजित एहि सम्मेलन मे सौ सँ अधिक विशिष्ट लोक केँ सम्मानित कयल गेलनि। विद्वत् विमर्श, कवि सम्मेलन, सांस्कृतिक कार्यक्रम आ झाँकी प्रस्तुति सँ भरल एहि दुइ दिवसीय आयोजन मे अलग-अलग कार्यक्रमक प्रस्तुति भेल छल।

हाटखोला मैदान मे २० गोट स्टाल लगायल गेल जाहि मे मिथिला चित्रकला, हस्तकला, कृषि वैज्ञानिक उपकरण, खानपान, तयारी चाउचाउ, बिस्कुट, प्रदेश १ सरकारक पर्यटन सूचना, पुस्तक आदिक प्रदर्शनी बिक्री कयल गेल। एहि सम्मेलन मे प्रदेश १ केर सामाजिक विकास मंत्री जीवन घिमिरे सम्मेलनक पहिल सत्र शोभा-यात्रा मे भाग लैत त्रिमूर्ति चौकपर महाकवि स्मृति सभाक उद्घाटन कयलनि। तहिना हाटखोला मैदान मे उद्घाटन सत्रक मुख्य अतिथि तत्कालीन उपप्रधान, कानून तथा न्याय मंत्री उपेन्द्र यादव छलाह।

कार्यक्रमक दोसर दिनक मुख्य अतिथि प्रदेश १ केर पर्यटन, उद्योग, वन तथा वातावरण मंत्री जगदीश कुसियैत केर सान्निध्य मे विशिष्ट व्यक्तित्व केँ सम्मानित कयल गेल। जानकी सदन मे आयोजित सत्रवार विद्वत विमर्श मे प्राज्ञ रमेश रंजन झा, डा. राम अवतार यादव, डा. योगेन्द्र प्रसाद यादव एवं भाषा आयोगक अध्यक्ष डा. लबदेव अवस्थी केर विशिष्ट उपस्थिति छल। एकर अतिरिक्त भारत सँ पूर्व शिक्षा मंत्री डा. राम लषण राम ‘रमण’, अमैस अध्यक्ष डा. महेन्द्र नारायण राम, डा. बैद्यनाथ चौधरी ‘बैजू’, अमैस नेपाल संयोजक डॉ रामभरोस कापड़ि भ्रमर, अखिल भारतीय मिथिला संघ (दिल्ली) केर अध्यक्ष विजयचन्द्र झा, प्रेमकान्त चौधरी, राजकिशोर झा, सुमन खाँ समाज, राम कुमार सिंह, रामनारायण देव, परमेश्वर कापड़ि, जीवनाथ चौधरी, श्यामसुन्दर शशि, सुजीत झा, सतीश दत्त, कमलाकांत झा आदि संस्था प्रमुख लोकनिक सहभागिता सम्मेलन लेल विशेष रहल।

तहिना अमेरिका सँ सम्मानित व्यक्तित्व अजय झा केँ प्रतिनिधित्व करैत हुनक धर्मपत्नी नीरा झा आ मारिशस सँ डा. अनुभूति केर उपस्थिति सेहो विशेष भेल। अमेरिका मे कार्यरत वैज्ञानिक डा. संतोष मिश्र केर सम्मान ग्रहण करबाक लेल नई दिल्ली सँ विजय मिश्र भाग लेलनि। अन्त मे १० बुंदे घोषणा पत्र जारी करैत सम्मेलनक आगामी आयोजन भारतक वृन्दावन मे करबाक निर्णय संग ई १७म् अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन समापन कयल गेल।

कि सब मांग कयल गेल अछि १० बुंदे घोषणापत्र सँ

17म अंतर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन सम्पन्न

10 बुन्दा घोषणापत्र जारी

संघीय नेपालक प्रदेश 1 केर राजधानी विराटनगर में 2076 पुस 6 आ 7 गते तदनुसार 22 आ 23 दिसम्बर धरि चलल। 17म अंतर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन पश्चात सार्वजनिक कयल गेल घोषणापत्र –

1. नेपाल में दोसर सब सँ बेसी बाजल जायवला भाषा मैथिली भाषा केँ संघीय नेपालक नेपाली संगहि मैथिली सरकारी कामकाजक भाषा बनाओल जाय।

2. प्राथमिक विद्यालय में मातृभाषा के लागू कराबय लेल स्पष्ट नीति बनाओल जाय संगहि विषय शिक्षक के नियुक्ति कयल जाय।

3. प्राथमिक विद्यालय में पढाओल जायवला विषयवस्तु एवं शिक्षण प्रणाली के बालमैत्री एवं बाल मनोविज्ञान आधारित बनाओल जाय।

4. संघीय आ प्रादेशिक स्तर पर मैथिली अकादमी गठन कयल जाय जाहि में मैथिली भाषा, साहित्य कला, संस्कृति संगहि मिथिलाक लोकगाथा, प्रदर्शनकलाक संरक्षण, सम्वर्धन, अध्ययन, अनुसंधान सहितक प्रकाशन आदि कार्य लेल पर्याप्त बजेट विनियोजन कयल जाय।

5. कलाकार, साहित्यकार, चित्रकार, आदिक हेतु आजीविका अनुदान एवं स्वास्थ्य बीमा कयल जाय।

6. मैथिली भाषी बहुल्य प्रदेश 1 आ 2 में पर्यटन प्रवर्धन एवं सांस्कृतिक सम्वर्धन हेतु सरकारी स्तरपर “मिथिलाग्राम” योजना लाओल जाय।

7. मिथिलाक्षर पुनरुत्थानक लेल संघीय सरकार एवं प्रादेशिक सरकार मिथिलाक्षर शिक्षा आ मिथिलाक्षर में पुस्तक प्रकाशन करय।

8. मैथिली भाषी बहुल्य प्रदेश 1 आ प्रदेश 2 क त्रिभुवन विश्विद्यालय, पूर्वांचल, राजर्षि जनक, नेपाल संस्कृत विश्वविद्यालय सभक आंगिक महाविद्यालय (कैम्पस) सभमे स्नातकोत्तर धरिक शिक्षण व्यवस्था कयल जाय।

9. मिथिला चित्रकला के बाजारीकरण, विश्वव्यावसायिकरण हेतु संघीय आ प्रदेश सरकार द्वारा अनुदान आ सहजीकरण के व्यवस्था कयल जाय।

10. प्रदेश 1 आ 2 में प्रदेश स्तरीय नाट्य रंगशाला एवं मिथिला आर्ट गैलरी के स्थापना कयल जाय।

आभार: घोषणापत्र जारी कयनिहार सुपरिवेक्षक समिति श्री जीवनाथ चौधरी, श्री श्यामसुंदर शशि, श्री रामरीझन यादव व श्री सुजीत झा

अभूतपूर्व छल शोभा-यात्रा – नगर-परिक्रमा

हजारों महिला तथा पुरुष मिथिलाक पहिरन मे सजि-धजिकय संसारीमाईस्थान सँ त्रिमूर्ति चौक (बरगाछी) धरिक शोभायात्रा मे भाग लेलनि। एहि शोभायात्रा मे जनक, जानकी, विद्यापति आ सलहेशक संग मिथिलाक सांस्कृतिक पहिचानक प्रतीक पान, माछ आ मखान संग दही आदिक शुभकारी तस्वीर संग ढोल-पिपही, भार-भरिया, नारदी कीर्तन, पारम्परिक कीर्तन, झरी-झरी, साइकिल यात्री, मुशहर समुदाय, गनगाईं समुदाय, संथाल समुदाय, राजवंशी समुदाय विशेषक विभिन्न झाँकी सहित कलश यात्राक झाँकी आर समस्त सहभागी प्रतिनिधिक संग करीब ५ किलोमीटर केर यात्रा अति विशिष्ट भेल। एहि यात्रा मे सामाजिक विकास मंत्री (प्रदेश १) जीवन घिमिरे सेहो किछु दूर संगे चलिकय अपन सदाशयता व्यक्त कयलनि।

उद्घाटन कयलनि उपप्रधान, कानून तथा न्याय मंत्री उपेन्द्र यादव

देश-विदेश सँ आयल सैकड़ों प्रतिनिधि पाहुन तथा आमन्त्रित विशिष्ट अतिथिक संग एहि १७म् अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलनक उद्घाटन दीप प्रज्वलित करैत कयलनि। वितीशा ओ प्रतिभा द्वारा प्रस्तुत भैरवि वन्दनाक नृत्य उपरान्त राष्ट्रगीत आ स्वागत गीत संग अभियान गीत सेहो एहि सत्रक विशेष प्रस्तुति छल। सोच नेपाल केर लोककलाकार द्वारा झरी-झरी केर प्रस्तुति अति विशिष्ट छल। गन्गाईं समुदाय द्वारा विदापत नाच आ धनपालथान सँ दर्जनों संख्या मे आयलि लोककलाकार द्वारा झुम्मर गानक प्रस्तुति सेहो उद्घाटन सत्रक खास होयबाक तथ्य केँ सिद्ध कयलक। एहि छोट-छोट झाँकी प्रस्तुतिक संग वक्ता लोकनिक विचार सेहो अबैत रहल।

उपप्रधानमंत्री यादव मैथिली भाषा आ मिथिला संस्कृति केर प्राचीनता जगविदित होयबाक बात कहलनि। परञ्च एकल भाषा नीति केर हावी होयबाक चलते मैथिली सहित विभिन्न मातृभाषा पाछाँ पड़ि जेबाक बात कहैत एहि दिशा मे अभियान चलाकय न्याय पेबाक प्रेरणा ओ सम्मेलनक प्रतिनिधि सहित आमजन केँ देलनि। ओ कहलनि जे जा धरि कोनो भाषा केँ सरकारी कामकाजक भाषा नहि बनायल जाइछ, रोजी-रोजगारक भाषा नहि बनायल जाइछ, ता धरि ओकर अस्तित्वक रक्षा संभव नहि छैक। एहि लेल अभियान चलाकय मैथिली केँ मजबूत करबाक आवश्यकता अछि। स्वयं अपन सहयोग लेल वचनबद्धता प्रकट करैत सम्मेलनक सफलता लेल शुभकामना सेहो देलनि।

बिहारक पूर्व शिक्षा मंत्री डा. राम लषण राम ‘रमण’ सेहो अपन वक्तव्य मे सम्मेलनक सफलता लेल शुभकामना देलनि। तहिना मधेशी आयोग प्रमुख विजय दत्त सेहो अपन संछिप्त मन्तव्य मे भाषा आ साहित्यक संग समाजक सम्बन्ध पर प्रकाश दैत सम्मेलन सफलता पेबाक शुभकामना देलनि।

एहि सत्रक संचालन किसलय कृष्ण, अध्यक्षता आयोजक संस्था मैथिली एसोसिएशन नेपालक अध्यक्ष प्रवीण नारायण चौधरी तथा स्वागत संबोधन स्वागताध्यक्षत्रय तेजलाल कर्ण, पंकज वर्मा ओ जीवानन्द झा देलनि। मिथिलाक आर्थिक विकास आ संस्कृति-साहित्यक संरक्षण लेल अहमदाबाद सँ आयल पाहुन राजकिशोर झा अपन ओजपूर्ण मन्तव्य रखलनि। प्रतिकूल मौसमक कारण कार्यक्रम देरी सँ आरम्भ भेल जाहि मे कतेको लोकक प्रस्तुति आखिरकार नहि लेल जा सकल, सम्मान प्रदान करबाक कार्यक्रम सेहो आधा-अधूरा मात्र संभव भऽ सकल। तथापि समग्रता मे कार्यक्रम सफल हेबाक प्रतिक्रिया प्रतिभागी लोकनि देलनि।

सम्मेलनक दोसर दिन – कोन-कोन विषय पर विद्वत विमर्श भेल

सम्मानित व्यक्तिक व्यक्तित्व पर कुमुदानन्द झा प्रियवर, सतीश दत्त, डा. बैद्यनाथ चौधरी बैजू, राम सागर पंडित, डा. रामभरोस कापड़ि भ्रमर, नीरा झा द्वारा प्रकाश देल गेल छल। मोरंग आ प्रदेश १ मे मैथिलीक इतिहास विषय पर रामनारायण देव केर व्याख्यान आयल। तदोपरान्त भाषाक महत्व आ १००% साक्षरता विषय पर प्रा. डा. योगेन्द्र प्रसाद यादव केर व्याख्यान आयल। पुनः रमेश रंजन झाक संचालन आ भाषा आयोग प्रमुख डा. लबदेव अवस्थीक अध्यक्षता मे ‘नेपालक संविधान आ छटपटाइत मातृभाषा’ विषय पर गरमागरम बहस भेल। एहि विमर्श मे राजेश्वर नेपाली, रामरिझन यादव, प्रा. डा. विशाल पोखरेल, आदि विद्वान् लोकनि अपन विचार रखलनि। तदोपरान्त मैथिली भाषाक वर्तमान अवस्था पर संछिप्त टिप्पणी केर विषय मे विभिन्न विद्वान् लोकनि अपन मत रखलाह। किछु आरो महत्वपूर्ण विषय पर विमर्श समयक चाप आ मौसमक प्रतिकूलता सँ देरी सँ आरम्भ होयबाक चक्कर मे छुटि गेल।

कवि-सम्मेलन भेल विशेष

सम्मेलनक दोसर दिन समानान्तर रूप सँ दुइ अलग स्थान पर कार्यक्रम आयोजित छल। पहिल दिन समयक दबाव मे छुटल छल ‘बहुभाषिक कवि सम्मेलन’ से दोसर दिन हाटखोला मैदान मे दिनक ११ बजे आरम्भ भेल। एहि सत्रक संचालन प्रारम्भिक दौर मे वन्दना चौधरी कयलीह। पुनः विकास वत्सनाभ द्वारा संचालन कयल एहि भव्य कवि सम्मेलन मे सुमन समाज, भोगेन्द्र शर्मा ‘निर्मल’, मुकेश पूर्वे, पूनम झा मैथिली, ललिता झा, श्रीराम मंडल, कृष्ण मैथिल, शंभूश्री, रमण धीरू, विद्यानन्द बेदर्दी, रामकुमार मंडल, रघुनाथ मुखिया, कमलेश प्रेमेन्द्र, अर्जुन प्रसाद गुप्ता ‘दर्दीला’, प्रेमकान्त चौधरी, विभा झा, करुणा झा, प्रीति झा, रंजू झा, मंजू मंडल, शान्ति झा, प्रवीण नारायण यादव, गायत्री सिंह, गजेन्द्र गजूर, हृदय नारायण यादव, किसलय कृष्ण, शिव नारायण पंडित सिंगल व अन्य कवि लोकनि अपन सुन्दर काव्य पाठ कएने छलाह। तहिना नेपाली भाषा एक सुन्दर गजल मधू पोखरेल प्रस्तुत कयलनि।

काव्य संग-संग गायनक सेहो भेल प्रस्तुति

दोसर दिन हाटखोलाक मुक्ताकाश मे १७म् अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलनक विभिन्न प्रस्तुति एक संग आयोजित भेल। काव्य पाठक बीच वीरेन्द्र झा, रचना झा, कंचन झा, लोककलाकार आ सोच नेपालक विभिन्न कलाकार संग अन्य विभिन्न स्थानीय कलाकार लोकनि अपन सुन्दर गीत सेहो परसैत रहलाह। एहि बीच मुख्य अतिथि पर्यटन मंत्री जगदीश कुसियैत केर हाथ सँ दर्जनों सम्मानित व्यक्तित्व केँ सम्मान पत्र सेहो हस्तान्तरित कयल गेलनि। सोच नेपाल केर कलाकार द्वारा आजुक विशेष प्रस्तुति पमरिया नाच केर भरपूर सराहना कयल गेल छल। होली गायन आ नृत्य सेहो ओतबे आकर्षक रहल। मैथिली फिल्म पर पूर्णेन्दु झा आ सामाजिक अभियान पर कुन्दन झा केर संबोधन संग मिथिलानी सशक्तीकरण केर विषय पर विभा झा केर संबोधन बहुत ओजपूर्ण रहल। आयोजक दिश सँ पूनम सिंह, वसुन्धरा झा, मंजू मंडल, सुधा ठाकुर, करुणा झा, रंजू झा, प्रीति झा, प्रीति मेहता आदिक सहयोग सँ संचालित दोसर दिनक मंच अत्यन्त सुसज्जित-सुशोभित सब कार्य केँ भव्यता सँ पूरा कयलक।

समापन सत्र मे भीजल आँखि सँ विदाई

१७म् अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलनक समापन मे आयोजक संग आगन्तुक प्रतिभागी सब कियो काफी भावुकता सँ एक-दोसर केँ विदाई कयलनि। संयोजक प्रवीण नारायण चौधरी सब गलती-त्रुटि केँ क्षमा करबाक लेल समदाउनक स्वर मे ‘कहल सुनल सब क्षमा करियौ यौ भोला बाबा, मेटि दियौ सब अपराध’ गाबि भावुक भऽ गेलाह। तहिना पंकज वर्मा, तेजलाल कर्ण, वन्दना चौधरी, किसलय कृष्ण, किशोर चौधरी, कुन्दन मंडल, सुमन समाज, सन्दीप कश्यप, विवेकानन्द झा, आदि समस्त प्रतिभागी लोकनि एक-दोसर केँ सम्मेलनक सफल आयोजन लेल बधाई ज्ञापित करैत भावुकता सँ पुनः ऐगला बेर भेटबाक वचन देलनि। एहि अवसर पर अमैस महासचिव डा. बैद्यनाथ चौधरी बैजू द्वारा १०१ सदस्यीय आयोजन समिति १८म् सम्मेलन लेल मनोनीत कयल जेबाक घोषणा कयलनि जाहि मे कुल ३१ गोट सदस्य नेपाल सँ राखल गेल अछि। अन्त मे अमैस अध्यक्ष डा. महेन्द्र नारायण राम अध्यक्षीय संबोधन मे सब केँ धन्यवाद करैत सम्मेलन केँ समापन घोषणा कयलनि।

१७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन विराटनगर द्वारा सम्मानित व्यक्तित्व लोकनिः

सम्मानक वर्गः मिथिला रत्न

१. श्री राजेश्वर नेपाली, जनकपुर, साहित्य एवं संचारकर्म
२. श्री अजित साह, जनकपुर, मिथिला चित्रकला केर विश्वव्यापीकरण
३. श्री वीरेन्द्र झा, विराटनगर, संगीत
४. डा. आभास लाभ, जनकपुर, संगीत
५. श्री सुरेश पंकज, समस्तीपुर, संगीत
६. श्री विजयचन्द्र झा, दिल्ली, भाषा-संस्कृति संरक्षण अभियान
७. श्री विनोद कुमार झा,महासचिव, मैथिली लेखक संघ, पटना (हालः दिल्ली), – मैथिली भाषा-साहित्य-संस्कृतिक संरक्षणार्थ मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल
८. श्री प्रेमकान्त चौधरी, गुआहाटी, आसाम – पूर्वोत्तर भारत मे मैथिली-मिथिलाक अभियान
९. श्री राजकिशोर झा, अहमदाबाद, पश्चिम भारत मे मैथिली-मिथिलाक अभियान
१०. पंडित मधुकान्त मधुकर (मरणोपरान्त) – अभिनव विद्यापति
११. डा. विभा कुमारी, मधुबनी, भाषा-साहित्य
१२. सुश्री वसुन्धरा झा, विराटनगर, भाषा-संस्कृति-समाजसेवा अभियान
१३. श्री रामरिझन यादव, सिरहा, भाषा-साहित्य-संचारकर्म
१४. माननीय मातृका यादव, पूर्व मंत्री, नेपाल सरकार – मिथिला रत्न सह नागरिक अभिनन्दन (अनुपस्थितिक कारण सम्मान हस्तान्तरण लम्बित)
१५. डा. संतोष मिश्र, अमेरिका, औषधीय विज्ञान मे शोध
१६. श्री अजय झा, अमेरिका – मैथिली-मिथिलाक पहिचान केँ अन्तर्राष्ट्रीय स्तर सम्मानित करब
१७. श्री राम भजन कामत, विराटनगर – रंगकर्म
१८. सुश्री रचना झा, दरभंगा, संगीत
१९. श्री रमेश रंजन झा, काठमान्डू
२०. श्री सुनील कुमार मल्लिक, जनकपुर
२१. श्री राम नारायण देव, राजविराज
२२. सुश्री काजल कर्ण “मैथिलीदिवा”, अमेरिका
२३. श्रीमती करुणा झा, भाषा-साहित्य और अभियानी, राजविराज
२४. श्री देवेन्द्र मिश्र, भाषा-साहित्य आ शिक्षा मे मैथिली केर अभियान, राजविराज
२५. श्री सुरेन्द्र नारायण यादव, संगीत, पटना
२६. श्री मिलन झा, चेस चैम्पियन, सीतामढी

अन्तर्राष्ट्रीय सद्भावना सम्मानः

१. श्री लक्ष्मीकान्त नेवटिया, विराटनगर (मारवाड़ी)
२. श्री गोपाल अश्क, वीरगंज (भोजपुरी)
३. श्री सुमन पोखरेल, विराटनगर (नेपाली)
४. श्रीमती सरिता तुलाधर, विराटनगर (नेवारी)
५. श्री प्रेमलाल गच्छेदार, विराटनगर (थारू)
६. श्री पवन राजवंशी, झापा (राजवंशी)
७. श्री दीपेन्द्र ठाकुर, मधवापुर, सप्तरी (संस्कृत)
८. श्री धर्मेन्द्र कान्त मिश्र, सुपौल (संस्कृत)
९. सुश्री सारिका मंडल, मोरंग (गनगाईं)

मैथिल कारपोरेट आइकनः

१. श्री सनातन मंडल, संचालक, गोल्डेन अस्पताल, विराटनगर
२. श्री रंजीत झा, निर्माण-व्यवसायी, विराटनगर
३. श्री कुमार पृथु, प्रबन्धक, विराटनगर आँखा अस्पताल, विराटनगर
४. श्री तेजलाल कर्ण, उद्योगपति, विराटनगर
५. श्री पंकज वर्मा, व्यवसायी सह प्रबन्धक, विराटनगर
६. श्रीमती आशा झा, उद्यमी, विराटनगर
७. श्री संतोष चौधरी, संचालक, जानकी पोलिटैंक, विराटनगर
८. श्री भगवान् झा, संचालक, एनआईटी, विराटनगर
९. श्री शैलेन्द्र मोहन झा, संचालक, छिन्नमस्तिका मेडिकल कालेज & अस्पताल, राजविराज
१०. श्री कुमोद झा, संचालक, द ड्रीमलैन्ड (उद्योगपति), विराटनगर
११. श्री मुकेश कुमार झा ‘मुन्ना’, संचालक, राजा ईंटा उद्योग, विराटनगर
१२. श्री कमलेश कर्ण, संचालक, दिव्य-ज्योति अस्पताल, विराटनगर
१३. श्री भरत यादव, संचालक, आधुनिक फर्नीचर, विराटनगर
१४. श्रीमती साधना झा, उद्यमी, विराटनगर
१५. श्री लक्ष्मी यादव, उद्यमी, विराटनगर
१६. श्री जीवानन्द झा, संचालक, कश्यप विद्यापीठ, इनरुवा
१७. श्री बिपीन झा, उद्यमी, विराटनगर
१८. श्री आनन्द मोहन झा, उद्यमी, विराटनगर
१९. श्री सुभाष चन्द्र यादव, चार्टर्ड एकाउन्टेन्ट, विराटनगर
२०. श्री सलीम अंसारी, व्यवसायी सह फिल्म निर्माता, विराटनगर
२१. श्री शंभू नाथ झा, उद्योगपति, काठमांडू
२२. श्रीमती विभा झा, उद्यमी, काठमांडू
२३. श्री कुन्दन झा, उद्यमी, जनकपुर
२४. श्री पूर्णेन्दु झा, फिल्म निर्माता-निर्देशक, जनकपुर
२५. श्री प्रदीप कुमार झा, उद्यमी सह मीडिया संचालक, दिल्ली
२६. डा. रजनीश रंजन, संचालक, तकनीकी शिक्षण संस्थान, सहरसा
२७. श्री नीरज कुमार, उद्योगपति, अहमदाबाद
२८. श्री ललित कुमार झा, उद्यमी, अहमदाबाद
२९. श्री प्रवीण झा, उद्यमी, अहमदाबाद
३०. श्री चंदन कापड़ि, उद्यमी, भारदह
३१. श्री कुन्दन कुमार मंडल ‘पप्पू’, उद्यमी सह फिल्म स्टुडियो संचालक, भारदह
३२. श्री मनीष झा, निर्माण-व्यवसायी, भारदह
३३. श्री आकाश राजभंडारी, संचालक, सहकारिता संस्थान सह मीडिया हाउस, भारदह
३४. श्री राजेश झा, संचालक, शिक्षण संस्थान, विराटनगर
३५. श्री दीपक झा, उद्यमी सह मैथिली संचारकर्मी-प्रकाशक, मुम्बई
३६. श्री कुणाल ठाकुर, फिल्म उद्यमी, मुम्बई
३७. श्री संजीव कश्यप, उद्यमी, दिल्ली
३८. श्री संदीप कश्यप, उद्यमी, सहरसा
३९. श्री रामविलास साह, विराटनगर
४०. श्री भास्कर चौधरी, विराटनगर

विशिष्ट अभियानी सम्मानः

१. श्री विद्यानन्द यादव ‘बेदर्दी’, भाषा-संस्कृति अभियानी सह कवि, राजविराज
२. श्री गजेन्द्र राय ‘गजुर’, भाषा-संस्कृति अभियानी, हनुमाननगर
३. श्री सुभाष यादव ‘वीरपुरिया’, लोकगायन ओ भाषा-संस्कृत अभियानी, राजविराज
४. श्री सुजीत झा, लेखन ओ संचारकर्म, जनकपुर
५. श्री श्याम सुन्दर यादव ‘पथिक’, लेखक-संचारकर्मी, राजविराज
६. श्री राम कुमार सिंह, कवि ओ भाषा-संस्कृति अभियानी
७. श्री संजीव मिथिलाकिङ्कर, संचारकर्मी ओ अभियानी
८. श्री जीवनाथ चौधरी, अभियानी
९. श्री मुन्ना चमन, अभियानी

उत्कृष्ट नागरिक सेवा सम्मान

१. डा. श्याम रौनियार
२. डा. रमेश चौरसिया
३. डा. संगीता मिश्रा
४. डा. नवीन कर्ण
५. डा. तपेश्वरलाल कर्ण
६. डा. प्रदीप गुप्ता
७. डा. सुदन ढकाल
८. डा. सतीश यादव
९. डा. रंजीत यादव
१०. डा. अजय कुमार यादव
११. डा. रम्भा देव
१२. डा. के. एम. गुड्डी
१३. डा. यज्ञराज खरेल
१४. डा. संजय दास
१५. डा. किरण यादव

विशेष सहयोग लेल “सम्मान पत्र”

१. श्री भीम पराजुली, मेयर, विराटनगर
२. श्री राजन मेहता, मेयर, इनरुवा
३. श्री अयुब अन्सारी, अध्यक्ष, कोसी गाउंपालिका
४. श्री सैलेश कुमार साह, मेयर, हनुमाननगर-कंकालिनी नगरपालिका
५. श्री गफ्फार अन्सारी, अध्यक्ष, हरिपुर गाउंपालिका

१७म् अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन केर प्रतिभागी लोकनिक सूची

उपस्थिति पुस्तिका पर अपन परिचय व प्रस्तुतिक सम्बन्ध मे देल जानकारी अनुसार ई सूची जारी कय रहल छी। विराटनगर लेल ई अहोभाग्य भेल जे अपने सब एतेक दूर-दूर सँ एहि ठाम आबि सम्मेलन केँ अभूतपूर्व बनेलहुँ। स्वागत आ सम्मान मे जे किछु कमी-बेसी भेल ताहि लेल क्षमायाचना करैत छी।
१. राम कुमार सिंह, अध्यक्ष, संस्कृति मिथिला, सहरसा, भारत
२. डा. रामसागर पंडित, अध्यक्ष, विद्यापति पुरस्कार कोष, जनकपुर, नेपाल
३. कुमार पृथु, कवि, जनकपुर, नेपाल
४. प्रेम नारायण झा, कवि, जनकपुर, नेपाल
५. गणेश कुमार लाल, अध्यक्ष, नेपाल मिथिला प्रज्ञा प्रतिष्ठान, मलंगवा, सर्लाही, नेपाल
६. एस. एस. ठाकुर, कवि, विराटनगर, नेपाल
७. अम्बर मंडल, कृषि युवा वैज्ञानिक, मिथिला मशीन & एप्लायंस, धनुषा, नेपाल
८. रामचन्द्र महतो, उपाध्यक्ष, नेपाल मिथिला प्रज्ञा प्रतिष्ठान, मलंगवा, सर्लाही, नेपाल
९. विपीन बिहारी सिंह, रौतहट, नेपाल
१०. पूनम झा मैथिली, कवियित्री, जनकपुरधाम, नेपाल
११. मनोज झा मुक्ति, कवि, महोत्तरी, नेपाल
१२. कुन्दन कुमार पाण्डे, महोत्तरी, नेपाल
१३. प्राज्ञ रमेश रंजन झा, काठमांडू, नेपाल
१४. अनिल कुमार कर्ण, जनकपुर, नेपाल
१५. हिमांशु चौधरी, जनकपुर, नेपाल
१६. राजाराम सिंह राठौड़, जनकपुर, नेपाल
१७. विरोचन सहनी, जनकपुर, नेपाल
१८. मुन्ना चमन, सुपौल, भारत
१९. संजय पाठक, सुपौल, भारत
२०. रजत कर्ण, जनकपुर, नेपाल
२१. मनीषा साह, जनकपुर, नेपाल
२२. रीना साह, जनकपुर, नेपाल
२३. शिव अधिकारी यदुवंशी, जनता टेलिविजन, काठमांडू, नेपाल
२४. विष्णु थापा, जनता टेलिविजन, काठमांडू, नेपाल
२५. कुन्दन कुमार मंडल, मिथिला आर्ट्स प्रा. लि., भारदह, सप्तरी, नेपाल
२६. कैलाश मंडल, कैमरामैन, मिथिला आर्ट्स प्रा. लि., भारदह, सप्तरी, नेपाल
२७. दीपक मंडल, कैमरामैन, मिथिला आर्ट्स प्रा. लि., भारदह, सप्तरी, नेपाल
२८. विजय कुमार मिश्रा, नई दिल्ली, भारत
२९. संतोष लाल दास, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३०. तरुण कुमार पंडित, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३१. रंजीत ठाकुर, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३२. प्रीति झा, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३३. आशुतोष झा, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३४. अजय साह, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३५. प्रेम साह, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३६. लभ राज साह, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३७. शिव शंकर मंडल, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३८. शत्रुघन यादव, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
३९. बुधेश्वर रजक, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
४०. सूजन यादव, सोच नेपाल, जनकपुर, नेपाल
४१. सोनम कर्ण, मिथिला पेन्टिंग प्रदर्शनी-बिक्री, जनकपुरधाम, नेपाल
४२. अशोक झा, अध्यक्ष, मिथिला विकास परिषद्, कोलकाता, भारत
४३. शैल झा, कवियित्री, कोलकाता, भारत
४४. श्वेता झा, कोलकाता, भारत
४५. अभय कुमार, कोलकाता, भारत
४६. पूजा चौधरी, कोलकाता, भारत
४७. अभय कुमार, कोलकाता, भारत
४८. रश्मि रानी, गायिका, नई दिल्ली, भारत
४९. अविनाश कर्ण, गायक, नई दिल्ली, भारत
५०. राजकुमार महतो, सामाजिक अभियन्ता, जनकपुर, नेपाल
५१. राजेश झा, सामाजिक अभियन्ता सह शिक्षाविद्, ठाढी, मधुबनी, भारत
५२. चुन्नू झा, सामाजिक अभियन्ता, ठाढी, मधुबनी, भारत
५३. सुमन मिश्र, सामाजिक अभियन्ता, ठाढी, मधुबनी, भारत
५४. सोनू मिश्र, सामाजिक अभियन्ता, ठाढी, मधुबनी, भारत
५५. गोलू सिंह, इम्पल्स कोटा प्रतिनिधि, दरभंगा, भारत
५६. श्रीराम कुमार मंडल, अध्यक्ष, मिथिला साहित्य कला प्रतिष्ठान, राजविराज, नेपाल
५७. सरोज कुमार राम, गायक, मिलाफ, राजविराज, नेपाल
५८. कृष्ण कुमार खङ्ग, गायक, मिलाफ, राजविराज, नेपाल
५९. गजेन्द्र गजुर, सचिव, सङ्गोर मिथिला नेपाल, हनुमाननगर, नेपाल
६०. हृदयनारायण यादव, सङ्गोर मिथिला नेपाल, लहान, नेपाल
६१. सत्यनारायण पंडित, सङ्गोर मिथिला नेपाल
६२. राजेश मण्डल, सङ्गोर मिथिला नेपाल
६३. परमेश्वर ठाकुर, सङ्गोर मिथिला नेपाल
६४. इन्दू कुमारी सिंह, सङ्गोर मिथिला नेपाल
६५. जगिता कुमारी सिंह, सङ्गोर मिथिला नेपाल
६६. गायत्री सिंह, सङ्गोर मिथिला नेपाल, लहान, नेपाल
६७. रोजिना सिंह, सङ्गोर मिथिला नेपाल
६८. संतोष मिश्र, संचालक, शान्ति फाउन्डेशन, गुजरात, भारत
६९. सागर नवदिया, एमएसयू आन्दोलनी, मिथिला, भारत
७०. गोविन्द नाथ झा (परिचय अज्ञात)
७१. दीपक कुमार झा, प्रकाशक – मैथिली दर्पण पत्रिका, मुम्बई, भारत
७२. विनोद कुमार झा, विद्यापति सेवा संस्थान, दरभंगा, भारत
७३. मिथिलेश कुमार मिश्र, विसेसं, दरभंगा, भारत
७४. प्रदीप नारायण यादव, सङ्गोर मिथिला नेपाल, लहान, नेपाल
७५. प्रो. चन्द्रशेखर झा ‘बूढाभाइ’, विसेसं, दरभंगा, भारत
७६. विजयकान्त झा, विसेसं, दरभंगा, भारत
७७. राजेश कुमार यादव, विसेसं, दरभंगा, भारत
७८. केदारनाथ कुमर, विसेसं, दरभंगा, भारत
७९. कुञ्जबिहारी मिश्र, मैथिली गायक ‘मिथिलारत्न’, विसेसं, दरभंगा, भारत
८०. प्रवीण कुमार झा, विसेसं, दरभंगा, भारत
८१. राम कुमार यादव, विसेसं, दरभंगा, भारत
८२. मदन कुमार यादव, विसेसं, दरभंगा, भारत
८३. जीव कान्त मिश्र, विसेसं, दरभंगा, भारत
८४. मनोज यादव, विसेसं, दरभंगा, भारत
८५. तिरहुत मंडल, विसेसं, दरभंगा, भारत
८६. गणेश कान्त झा, विसेसं, दरभंगा, भारत
८७. उदयकान्त मिश्र, विसेसं, दरभंगा, भारत
८८. हरेन्द्र झा, विसेसं, दरभंगा, भारत
८९. दिनेश झा, विसेसं, दरभंगा, भारत
९०. चन्द्रमोहन परवा, विसेसं, दरभंगा, भारत
९१. कमलेश प्रेमेन्द्र, कवि, मधुबनी, भारत
९२. प्रभु ठाकुर, मधुबनी, भारत
९३. विशेश्वर जी, मधुबनी, भारत
९४. शम्भूनाथ झा, महोत्तरी, नेपाल – संचालक, मयूर स्टील्स (प्रायोजक)
९५. विभा झा, काठमाण्डू, नेपाल
९६. विकास वत्सनाभ, नेपालगंज, नेपाल
९७. आरती यादव, सङ्गोर मिथिला नेपाल
९८. अजय कुमार झा, सचिव, मैथिली साहित्य परिषद्, राजविराज, नेपाल
९९. सुनीता कुमारी झा, मैसाप, राजविराज, नेपाल
१००. सतीश कुमार दत्त, अध्यक्ष, मैसाप, राजविराज, नेपाल
१०१. शान्ति झा, मैसाप, राजविराज, नेपाल
१०२. विभा झा, मैसाप, राजविराज, नेपाल
१०३. प्रतिमा देव, मैसाप, राजविराज, नेपाल
१०४. जीवछ दास, मैसाप, राजविराज, नेपाल
१०५. सुरेश मंडल, माननीय राज्यमंत्री, प्रदेश नं. २, नेपाल
१०६. बसन्ती यादव, माननीय प्रदेश सभासद, प्रदेश १, नेपाल
१०७. राजेश्वर नेपाली, अध्यक्ष, जनकपुर बौद्धिक समाज, जनकपुर, नेपाल
१०८. आचार्य धर्मेन्द्रनाथ मिश्र, गोसपुर, त्रिलोकधाम, सुपौल, भारत
१०९. शिवनारायण सिंह, सार्वजनिक लेख सभापति, प्रदेश १, नेपाल
११०. विनोद कुमार झा, महासचिव, मैथिली लेखक संघ, भारत
१११. डा. रामभरोस कापड़ि भ्रमर, नेपाल संयोजक, अमैस, जनकपुर, नेपाल
११२. प्राज्ञ डा. योगेन्द्र प्रसाद यादव, नेपाल प्रज्ञा प्रतिष्ठान, कमलादि, काठमान्डू, नेपाल
११३. डा. राम अवतार यादव, भाषा वैज्ञानिक, काठमांडू, नेपाल
११४. रामा मंडल, वरिष्ठ गायक सह मिथिलारत्न, विराटनगर, नेपाल
११५. शैलेन्द्र मोहन झा, संचालक, छिन्नमस्तिका मेडिकल कालेज आ अस्पताल (प्रायोजक), राजविराज, नेपाल
११६. करुणा झा, सलाहकार, अमैस विराटनगर, राजविराज, नेपाल
११७. नवीन कुमार झा, वरिष्ठ समाजसेवी, कटिहार, भारत
११८. देवी पन्थी, कवि सह अभियानी, विराटनगर, नेपाल
११९. अर्जुन प्रसाद गुप्ता ‘दर्दीला’, कवि सह अभियानी, लहान, नेपाल
१२०. प्रेम कान्त चौधरी, वरिष्ठ अभियानी, गुआहाटी, भारत
१२१. विवेकानन्द झा, अध्यक्ष, चेतना समिति, पटना, भारत
१२२. विजयचन्द्र झा, अध्यक्ष, अखिल भारतीय मिथिला संघ, नई दिल्ली, भारत
१२३. नवीन कुमार मिश्र, रामानन्द युवा क्लब, जनकपुरधाम, नेपाल सह गायक-अभियन्ता
१२४. सुजीत झा, लेखक-संचारकर्मी, जनकपुरधाम, नेपाल
१२५. वद्रीनारायण सरदार, वडाध्यक्ष, विराटनगर-१९, नेपाल
१२६. डा. आभास लाभ, वरिष्ठ गायक, काठमान्डू, नेपाल
१२७. जीवनाथ चौधरी, अध्यक्ष, मैथिली विकास कोष, जनकपुर, नेपाल
१२८. डा. नवीन कुमार कर्ण, अध्यक्ष, श्री चित्रगुप्त कल्याण परिषद, विराटनगर, नेपाल
१२९. उमेश कुमार यादव, युवा नेता, समाजवादी पार्टी, विराटनगर, नेपाल
१३०. लक्ष्मी रमण झा, अध्यक्ष, अपन ब्राह्मण समाज, सह प्रदेश १ अध्यक्ष राजपा, नेपाल
१३१. अनिल कुमार ठाकुर, नेता, समाजवादी पार्टी, मोरंग, नेपाल
१३२. डा. लवदेव अवस्थी, अध्यक्ष, भाषा आयोग, काठमांडू, नेपाल
१३३. डा. इन्द्र मोहन झा, पत्रकार, मधुबनी, भारत
१३४. डा. विनोद कुमार कर्ण, चित्रांश महासभा नेपाल, काठमांडू, नेपाल
१३५. श्याम बाबू यादव, सिरहा, नेपाल
१३६. रमन यादव “धीरू”, मिलाफ, नेपाल
१३७. राम कुमार मण्डल, मिलाफ, नेपाल
१३८. शुभचन्द्र झा, पूर्व अध्यक्ष, मैथिली साहित्य परिषद्, राजविराज, नेपाल
१३९. शम्भूश्री, सदस्य मिलाफ नेपाल, सप्तरी नेपाल
१४०. देवेन्द्र मिश्र, पूर्व अध्यक्ष, मैसाप, राजविराज, नेपाल
१४१. प्रा. डा. चिरञ्जिवी देव, सलाहकार, मैसाप, राजविराज, नेपाल
१४२. रामबहादुर यादव, नेता, समाजवादी पार्टी मोरंग, नेपाल
१४३. सूर्य नारायण यादव, सिरहा, औरही, नेपाल
१४४. श्याम बाबू यादव, सिरहा, औरही, नेपाल
१४५. सतीश साह, दमक-६, झापा, हलुवाई समाज नेपाल अध्यक्ष, नेपाल
१४६. बाल्मीकि चौधरी, गापा कमलपुर ५ समाजवादी पार्टी, नेपाल
१४७. रजत कर्ण, मिथिला चित्रकार, जनकपुरधाम-६, नेपाल
१४८. भोगेन्द्र शर्मा ‘निर्मल’, संस्थापक, लछमिनियां विद्यापतिधाम, सहरसा, भारत
१४९. सुरेश यादव, रेड एफएम, विराटनगर, नेपाल
१५०. विद्यानन्द बेदर्दी, सचिव, मिलाफ नेपाल
१५१. हरि ना. यादव, मिथिला देवघर यात्री, सप्तरी, नेपाल
१५२. सूर्य ना. यादव, मिथिला देवघर यात्री, सप्तरी, नेपाल
१५३. गोपाल यादव, मिथिला देवघर यात्री, सप्तरी, नेपाल
१५४. देवेन्द्र खङ्ग, मिथिला देवघर यात्री, सप्तरी, नेपाल
१५५. सुभाष विरपुरिया, मिथिला देवघर यात्री, सप्तरी, नेपाल
१५६. सरोज राय विरपुरिया, सदस्य मिलाफ नेपाल, सप्तरी, नेपाल
१५७. परमेश्वर मैथिल, सदस्य, सङ्गोर मिथिला, लहान, नेपाल
१५८. युगुतलाल यादव, विराटनगर, नेपाल
१५९. प्रा. महेन्द्र नारायण यादव, विराटनगर, नेपाल
१६०. प्रवीण कुमार झा, सहरसा, भारत
१६१. सुभाषचन्द्र झा, पत्रकार, सहरसा, भारत
१६२. सारिका मण्डल, नेपाल गन्गाई महिला परिषद्, मोरंग, नेपाल
१६३. आशा सरदार, नेपाल गन्गाई महिला परिषद्, मोरंग, नेपाल
१६४. दशरथ साह, स्नातकोत्तर कैम्पस,विराटनगर, नेपाल
१६५. दिनेश मिश्र, पाली, दरभंगा, भारत
१६६. नारायण यादव, विराटनगर, नेपाल
१६७. अशोक कुमार झा, नि. अध्यक्ष, मैसाप, राजविराज, सप्तरी, नेपाल
१६८. राजेश कुमार मंडल, हनुमाननगर-कंकालिनी न.पा., नेपाल
१६९. माधव कुमार, हनुमाननगर-कंकालिनी न.पा., नेपाल
१७०. शिवशंकर प्रसाद गुप्ता, सङ्गोर मिथिला, लहान, नेपाल
१७१. दीपेन्द्र स्वर्णकार, नेपाल सोनार समाज, मोरंग, नेपाल
१७२. भाग्यश्वरी झा, विराटनगर, नेपाल
१७३. राजकिशोर झा, शाश्वत मिथिला, अहमदाबाद, गुजरात, भारत
१७४. नरेशचन्द्र बरबरिया, सङ्गोर मिथिला, लहान, नेपाल
१७५. सुमन खाँ समाज, बनगाँव, सहरसा, भारत
१७६. पारस कुमार झा, सहरसा, भारत
१७७. उगना शंकर, जनकपुर, नेपाल
१७८. दिक्षेन्द्र झा, सङ्गोर मिथिला नेपाल, लहान, नेपाल
१७९. मनोज कुमार झा, वनदुर्गा सेवा सदन, देवना, बनगाँव, सहरसा, भारत
१८०. अमरनाथ झा राजू, सहरसा, भारत
१८१. राजेश कुमार झा, सहरसा, भारत
१८२. नरेश झा पूर्व मुखिया, वाणेश्वर सेवा समिति, सहरसा, भारत
१८३. विकास मिश्र, सभागाछी, बनगाँव, सहरसा, भारत
१८४. दीपनारायण ठाकुर ‘दीपू’, चैनपुर, सहरसा, भारत
१८५. सत्येन्द्र झा, चैनपुर, सहरसा, भारत
१८६. पप्पू सदा, सहरसा, भारत
१८७. संजय सिंह, सहरसा, भारत
१८८. रूपेश पासवान, सहरसा, भारत
१८९. अयोध्यानाथ चौधरी, वरिष्ठ कवि, जनकपुर, नेपाल
१९०. ललित झा, कवि, गुआहाटी, आसाम, भारत
एहि रजिस्टर मे जँ किनको नाम छुटि गेल हुअय त कृपया अपन रजिस्ट्रेशन जरूर करबा लेब। ऐतिहासिक दस्तावेज मे अपन नाम, पता, परिचय, फोन नम्बर, मैथिली भाषा-साहित्य अथवा मिथिला संस्कृति, कलाकर्म वा कोनो विधा मे अहाँ अपन योगदान देबाक लेल इच्छूक रहैत छी त ओहो बातक समुचित जानकारी दैत आगामी समय मे पुनः सहभागी बनबाक लेल पंजीकृत होयब।
हरिः हरः!!

संयोजकक कलम सँ….

सन्दर्भः १७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन – विराटनगर

जानकी जीक चरणक ओ निर्माल वला फूल छल
सबटा नीके होयबाक बात मूल छल
कयलहुँ सभ कार्य नीयत अपन नीक
नियतिक अवस्था नियंत्रण मे नहि रहल
तथापि जतबे भेल से भेल बुझू
मिथिला-मैथिलीक प्रस्तुतिक दहपेल बुझू
एक सँ बढि एक झाँकी
जतुवाक नारदी कीर्तन
आ कि रामजानकी मन्दिरक टोली
वसुन्धराजीक संयोजन मे
उमड़ल सैकड़ों कलश सहितक नारी
रसनचौकी कि झरी-झरी
अत्यन्त रमणीय रहल शोभा-यात्रा
सभक मोन केँ पुलकित कय देलक
लागल जेना स्वयं सियारामजी आ
गौरीशंकर सहित सब देवी-देवता
मना रहला अछि “मिथिला दिवस”!

पूरे विराटनगर मुख्य बाजार होइत
पहुँचि गेलहुँ धरान रोड हाईवे पर
ओतहि आबि गेलाह माननीय मंत्री
ओहो संगे चलिकय सदासयता देखौलनि
पहुँचल काफिला त्रिमूर्ति चौक पर
जतय भाषाशास्त्री महानन्द सापकोटा भाइ
भाइ आदिकवि भानुभक्त आचार्य संगे
स्वयं विराजमान छथि महाकवि कोकिल विद्यापति
नेपालक एकमात्र सौहार्द्रक निशानी थिक ई स्थल
मंत्रीजी सहित सब कियो एतबे बजलाह
मैथिली भाषा आ मिथिला संस्कृति केँ बचेबाक लेल
वचनबद्धता प्रकट कयलनि सब कियो
ई छल पैघ उपलब्धि एहि सम्मेलनक ओपनिंग सेशनक!

तदोपरान्त अव्यवस्थाक झेल भेल
नियतिक देल ठंढाक संग किछेक व्यवस्था फेल भेल
कोहुना-कोहुना पहुँचाओल गेलाह सैकड़ों लोक
हाटखोला मैदान मे जतय महापंडाल लागल छल
स्टाल सब सजाकय राखल छल
मुदा खानपानक स्टाल पर व्यवस्थापक जीतू गोल छल
जीतुओक कोनो दोष नहि
ओकरा स्थानीय लोक गैस चुल्हा नहि जरबय दैक मैदान मे
खुल्ला मैदान मे खाना पकेबाक लेल विरोध भेलैक
ताहि कारण सबटा योजना बिगड़ि गेलैक
समय पर भोजन नहि कराओल जा सकलैक
मुदा धीरे-धीरे सब बात एलैक पटरी पर
कारण मुख्य उद्घाटन सत्र आरम्भ कय देल गेलैक
मुख्य अतिथि उपप्रधान कानून ओ न्याय मंत्री उपेन्द्र यादव छलाह
जे एक दिन पूर्वहि मौसमक अनिश्चित गति केँ भँपैत आबि गेल रहथि
से किसलय कृष्ण जीक संचालन मे जखन शुरू भेलैक सत्र
जानकी जीक कृपा सँ डेढ सौ सँ दुइ सौ लोक केँ बजा लेल गेलनि मंचहि पर
हौ बाबू! तैयो छुटि गेलाह किछु लोक जे मंच पर अबय योग्य रहथि
चलू, कि करबय, राम भरोसे सबटा काज छल से कोहुना सम्हैर गेल
उद्घाटन सत्र केर मंच सजि गेल आ प्रस्तुति सब गजब मनमोहक रहल
वितीशा ओ प्रतिभाक भैरवि वन्दना पर नृत्य
रश्मि रानी, अविनाश ओ रामा मंडल भैयाक स्वागत गीत
तेजलाल भाइजी ओ पंकजजीक स्वागत संबोधन
संयोजक-सह-अध्यक्षक विषय प्रवेश
बीच-बीच मे झुम्मर, झरी-झरी, नारदी कीर्तन, आदि
छोट-छोट मन्तव्यक संग विशाल सम्मान कार्यक्रम
चलैत रहल – चलैत रहल – चलिते रहल….!

आर तेकर बाद संध्याकाल मे भेल सांस्कृतिक कार्यक्रम
मिथिलारत्न सँ सम्मानित “सुरेश पंकज, वीरेन्द्र झा, आभास लाभ”
“रश्मि रानी, अविनाश, संजीव कश्यप, कइएक गायक-गायिका”
आर मंच संचालन मे वन्दनाजीक सहयोग बीच किसलयजी स्वयं
दर्शक दीर्घा मे एक सँ बढिकय एक भूप लोकनि
सब तरहें रातिक दस बजे धरि चलल रहय सांस्कृतिक कार्यक्रम
एम्हर जानकी सदन मे सब अतिथि लोकनि केँ चलि रहल छलन्हि भोजन
राति भरि भेल आरो कतेको कार्यक्रम
सदनक बड़का सभागार मे सब कियो जुटि गेल छलाह
हमहूँ ओतहि रही जतय परमादरणीय कुञ्जबिहारी मिश्र सन गायक
सुरेश पंकज आ केदार कुमर समान गायक
किशोर भैया आ तेजलाल भाइजीक संग किसलय कृष्णजीक संचालन
खूब जमलैक जखन मिलि बैसल रही किछु यार
जीवू बाबूक ओ खिलखिलाहट आ कतेको दर्शक संग
ई छल राति २ बजे धरिक सेशन!!

भोरे ६ बजे सँ चाहक चलल दौर
दोसर दिन दू ठाम कार्यक्रम केर शेड्युल बनेबाक कार्य
किशोर भैयाक संग किसलयजीक सुझाव मे
कोहुना बना सकलहुँ दोसर दिनक कार्यक्रमक शेड्युल
रजत सभागार मे के-के विद्वान कोन-कोन विषय पर बजताह
हाटखोला मैदान मे कखन कि-कि कार्यक्रम कयल जायत
सब बातक एकटा खाका तैयार करैत बाजि गेल दस
नास्ता कयला उपरान्त सब कियो पहुँचि गेलाह सभागार मे
ओतय सब केँ सब जानकारी करबैत आरम्भ भेल सेशन
सम्मानित व्यक्तिक व्यक्तित्व पर राखल गेल विचार
मोरंग आ प्रदेश १ मे मैथिलीक इतिहास पर रामनारायण देव सर
नेपालक संविधान आ छटपटाइत मातृभाषा पर रामरिझन यादव सर
संग मे डा. राम अवतार यादव सर, डा. योगेन्द्र प्रसाद यादव सर,
डा. राम भरोस कापड़ि भ्रमर आ रमेश रंजन झा भाइजी,
मुख्य आतिथ्य रहलनि डा. लबदेव अवस्थी, भाषा आयोग अध्यक्षक
जबरदस्त गरमागरम विमर्श भेल
सब खुलिकय बजलाह आ एकटा निस्तुकी निर्णय कयलनि
१०-बुँदे घोषणापत्र जारी भेल!

ओम्हर हाटखोला मैदान मे वन्दना चौधरी द्वारा संचालन करैत
महिला शक्ति सभ केँ सहभागिता लेल आह्वान
सांस्कृतिक प्रस्तुति आ कवि सम्मेलन मे लगभग १०० कवि
लगातार ११ बजे सँ ५ बजे धरि चलल मिश्रित सत्र
बीच मे २ बजे एलाह प्रमुख अतिथि पर्यटन मंत्री माननीय जगदीश कुसियैत
हुनकर हाथ सँ दियाओल गेल दर्जनों सम्मानित व्यक्ति केँ सम्मान
आर तखन शुरू भेल समापन सत्र
डा. बैजू बाबू महासचिव आ अमैस अध्यक्ष डा. महेन्द्र नारायण राम संग
नेपाल संयोजक डा. रामभरोस कापड़ि भ्रमर सर संग
चेतना समिति पटनाक अध्यक्ष विवेकानन्द झा सर
भारदह सँ पहुँचल सम्मानित स्रष्टा कुन्दन कुमार मंडल भाइ
आयोजक समिति मैथिली एसोसिएशनक सम्पूर्ण कार्यकर्ता
स्वागताध्यक्ष पंकज वर्मा ओ तेजलाल कर्ण जी
सलाहकार रामरिझन यादव सर आ हमर धर्मपत्नी वन्दनाजी
अपूर्व सहयोगी रंजू बहिन, पूनम बहिन, वसुन्धराजी, विभाजी,
ममता कर्णजी, सुमन समाज भाइजी, भाष्कर भाइ,
ओम प्रकाश साह उपाध्यक्षजी, जितेन्द्र ठाकुर पत्रकार भाइ,
अबधेश झा, नेपाल पत्रकार महासंघ केर केन्द्रिय सदस्य,
आर समस्त प्रतिनिधि लोकनि
ताहि बीच सोच-नेपाल केर एक सँ बढिकय एक सांस्कृतिक प्रस्तुति
पमरिया नाच, होली, आदि….
सङ्गोर समूह द्वारा भाषा आ बोलीक बारे जनजागृति करयवला डकुमेन्ट्री
मैथिली फिल्म पर पूर्णेन्दु झा जी द्वारा संबोधन
कुन्दन जी द्वारा युवा पुस्ता केँ भारवहन लेल संकल्प
कतेको रास बात आ कतेको लोकक सम्मान… सब किछु भेल!

अन्त मे कार्यकारिणीक घोषणा कयलनि बैजू बाबू
ऐगला सम्मेलनक स्थान बनल “वृन्दावन”, भारत
हम कल जोड़िकय सब सँ क्षमायाचना कयल
“कहल सुनल सब क्षमा करियौ यौ भोला बाबा मेटी दियौ सब अपराध”
समदाउनिक एक पंक्ति सँ भीजल आँखि विदाह भऽ गेलहुँ!

हरिः हरः!!

केना केना कि भ गेलइ
बुझबो नहि केलियै
नेह जुड़ल एतबे बुझल
आर हम किछु न बुझलियै

मन पवित्र आ नेत सही
से बुझले छल
नियतिक चोटक दर्द
स्नेहवश सब सहलियै
केना केना….

प्रेम करब से करिते रहब
से गछने रही
प्रेमहि भाव मे अपनहुँ
देखलहुँ खूब नहेलियै
केना केना….

निश्छल भाव निःस्वार्थ मित्रता
निमहल ई जीवन
संग अहाँक पाबि हम
देखू तैरियै गेलियै
केना केना….

हरि हर!!

पूर्वक लेख
बादक लेख

One Response to १७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन – सम्पूर्ण समाचार

  1. Pls add my name in your site

    Surendra jha
    184 Narmada COLONY
    Nagpurpin 440013
    Associate with vidarbha mithila manch
    Mobil no 9422118155
    Mail id skjha9422@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 + 7 =