पूर्व विधान पार्षद कमलनाथ सिंह ठाकुर केर निधन पर मिथिला मे शोक

२२ नवम्बर, २०१८. मैथिली जिन्दाबाद!!

पूर्व विधान पार्षद तथा जीवन्त व्यक्तित्वक धनी कमलनाथ सिंह ठाकुर मंगल दिन पौने ९ बजे अन्तिम साँस लेलनि। पटना स्थित अपन आवास पर हुनक मृत्यु भेलनि। ओ ७८ वर्ष केर छलाह। हुनकर अन्तिम संस्कार आइ वृहस्पति दिन हुनक जन्मस्थान राजग्राम भौर मे होयबाक तय भेल छल। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं विधान परिषद केर कार्यकारी सभापति हारुण रशीद द्वारा पूर्व विधान पार्षद कमलनाथ सिंह ठाकुर केर निधन पर शोक जतायल गेल अछि। सीएम कहलनि जे हुनकर निधन सँ राजनीतिक व सामाजिक क्षेत्र मे अपूरणीय क्षति भेल अछि जेकर भरपाई संभव नहि।

हुनकर जन्म मधुबनी जिलाक पंडौल नजदीक राजग्राम भौर गाम मे ११ जुलाई, १९४० केँ भेल छलन्हि। ओ १९७६ सँ १९८२ आ १९८४ सँ १९९० धरि दरभंगा स्नातक निर्वाचन क्षेत्र सँ, जखन कि १९९० मे विधानसभा क्षेत्र सँ विधान परिषद केर सदस्य निर्वाचित भेल छलाह। विधान परिषद मे अपन सदस्यता अवधिक दौरान विभिन्न समितिक अध्यक्षक संग विरोधी दल केर मुख्य सचेतकक जिम्मेदारी निभेलनि। मैथिली भाषाक चर्चित फिल्म ममता गावय गीत मे सेहो ओ महत्वपूर्ण भूमिका निभौलनि।

हाजिर जबाबीक लेल मशहूर छलाह कमलनाथ : कांग्रेस केर प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. मदन मोहन झा कहलनि जे कमलनाथ सिंह ठाकुर विधान परिषद मे अपन हाजिर जबाबीक लेल प्रसिद्ध छलाह। कठिन सँ कठिन विषय पर पर्यन्त ओ अत्यन्त सहज ढंग सँ वाद-विवाद मे भाग लैत छलाह। पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा, जीतनराम मांझी, पूर्व मंत्री डाॅ. शकील अहमद, सदानंद सिंह, प्रेमचंद्र मिश्र, कृपानाथ पाठक, डाॅ. हरखू झा, अजीत झा, बबलू देव आदि द्वारा हुनक निधन पर शोक जतायल गेल अछि।

मैथिली फिल्म प्रेमक बसार केर सह-निर्माता कुणाल ठाकुर द्वारा कमलनाथ सिंह ठाकुर केर मृत्यु सँ मिथिलाक पैघ क्षति होयबाक बात कहल गेल अछि। एक प्रतापी समाजसेवी, कुशल राजनीतिज्ञ आ मैथिली फिल्म केर उत्थान लेल हिनक योगदान केँ मिथिला सदैव याद राखत।

सुरेन्द्र किशोर द्वारा स्वर्गीय ठाकुर केँ श्रद्धाञ्जलि दैत कहल गेल अछि जे बिहार विधान परिषदक स्मोकिंग रूम केँ कहियो जीवंत बनाकय राखयवला कमलनाथ सिंह ठाकुर नहि रहला। हाजिर जबाबी और अपन विनोद प्रियताक लेल चर्चित प्रतिभाशाली कमलनाथ जीक निधन केर खबैर हम मात्र एकटा अखबार मे देखलहुँ। कहियो पत्रकार लोकनि केँ सूचनाक प्रमुख स्रोत रहला ठाकुरजीक निधनक खबैर एहि तरहें आइ भोर धरि कमे लोक तक पहुंचि सकल। दरभंगा महाराज शुभेश्वर सिंहक करीबी रहला कमलनाथजी कहियो डा. जगन्नाथ मिश्र केर सेहो प्रियपात्र छलाह। हालांकि बादक दिन मे ओहेन संबंध हुनका संग नहि रहलनि। एक बेर स्मोकिंग रूम मे कमलनाथजी और इंद्र कुमारजीक बीच रोचक संवाद चलि रहल छलन्हि। विधान परिषद केर सदस्य रहला इंद्र कुमार कर्पूरी ठाकुर केर ओतबे करीबी छलाह जतेक जगन्नाथजीक कमलनाथ। इंद्र कुमारजी कहलखिन ‘कमलनाथजी, आप भी जगन्नाथ जी के बहुत करीबी रहे और मैं कर्पूरी जी के। पर न तो जगन्नाथ जी ने आपको मंत्री बनाया और न ही कर्पूरी जी ने मुझे।’ एहि पर हाजिरजबाब व विनोदी कमलनाथजी कहलखिन ‘बना देता तो राज्य का बंटाधार ही न हो जाता!’ एहि टिप्पणी पर पूरा हाॅल ठहाका मे डूबि गेल छल। 

पूर्वक लेख
बादक लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 + 1 =