मिथिलाक सनातन सम्पदा मे पड़ैत छथि कला-साहित्य-संस्कार सँ सम्पन्न

विजय कुमार इस्सरजीक जन्मदिन पर ‘प्रवीण’ शुभकामना

एक ‘सिम्पल लिविंग – हायर थिंकिंग’ – सादा जीवन, उच्च विचार केर असाधारण क्षमतावान् – कलासम्पन्न आ विचारवान् व्यक्तित्वक नाम अछि “विजय कुमार इस्स” – हिनक जन्मदिन पर प्रवीणक विशेष शुभकामना तथा जन्मदिनक उपहार स्वरूप ई लेख राखि रहल छी। सामाजिक संजाल फेसबुक पर अपन परिचय दैत विजयजी लिखैत छथि – “विजय कुमार इस्सर – संगीतज्ञ, साहित्यकार, सन्मार्गी व साधारण व्यक्ति”। बिल्कुल सही बात। विद्याधनं सर्वधनं प्रधानम् केर मैथिल शक्ति सँ सम्पन्न विजयजी संगीत मे निपुण छथि। अपना बाद अपन सुपुत्री अंजना इस्सर समान सुविज्ञ गायिका मिथिला, समग्र राष्ट्र आ समस्त मानव सभ्यता केँ सौंपलनि अछि।
 
मैथिली भाषाक मक्का-मदीना कहेनिहार कोलकाता जतय सँ मैथिलीक वैश्वीकरण उन्नैसम शताब्दीक ब्रिटीशकालीन भारत सँ आरम्भ होइत बीसम शताब्दी मे कोलकाता विश्वविद्यालयक पठन-पाठन मे सम्मिलित कराय संचारकर्म सँ लैत भाषा, साहित्य, समाज, संस्कृति, राजनीति आदि समस्त विधा मे भारतवर्षक एक सक्षम आ पूर्ण भाषा-सभ्यता-इतिहास सम्पन्न मैथिली केँ स्थापित करबाक अत्यावश्यक कार्य भेल – ताहि कर्मक्षेत्रक एक कर्मनिष्ठ संप्रभुता संपन्न विजय कुमार इस्सर सदैव मैथिली-मिथिलाक हितचिन्तक रूप मे देखाइत रहला अछि।
 
समस्तीपुर – दलसिंहसराय – टभका पंडित टोल – बेगूसराय आदिक इलाका मे आमजन मे मैथिली भाषा व्यवहार मे रहितो राजनीतिक आवोहवा आ मैथिली भाषा-संस्कृति अभियानक शिथिलताक कारण कटैत चलि जेबाक हिनकर चिन्ता विशेष तौर पर मोन पड़ैत अछि। आपसी तनातनी आ टांग घिचबाक प्रवृत्ति हावी रहबाक कारण कोनो अभियान केँ जाहि गति सँ चलबाक चाही से नहि चलि पबैत छैक आर गछियोकय आइ धरि हमरा लोकनि श्री विजय कुमार इस्सर केर प्रस्ताव पर आगाँ नहि बढि पेलहुँ। हिनकर माँग छलन्हि जे एहि दिशा मे टभका पंडित टोल जतय मैथिलीक एक सँ बढिकय एक महामहोपाध्यायव विद्वान् लोकनि अवतार लैत अनेकों प्रतिष्ठामूलक कार्य कएने छथि, ताहि क्षेत्रक लोकसमाज केँ ई अनुभूति करेनाय जे मैथिली अहुँक भाषा थिक, बोली भले फरक रहय परञ्च ईहो भाषा मैथिली थिक, एहि तरहक अभियान चलायब बहुत आवश्यक अछि। कि करब भाइ…. हम-अहाँ असगर कोनो सोचे बनाकय कि कय सकब जखन माहौल सिर्फ आ सिर्फ खरखाँही लूटबाक पाछाँ बेहाल यऽ।
 
बता दी जे विजय कुमार इस्सर स्वयं एकटा संगीतज्ञ होयबाक संग एक बेहतरीन गीतकार सेहो छथि। कवि छथि। अभियानी छथि। कलाकार छथि। भाषा-संस्कृति केर कार्य मे अपने आ अपन सम्पूर्ण परिवार केँ लगा देने छथि। कतहु केकरो सँ पाछू नहि। खरखाँही लूटबाक प्रवृत्ति कतहु नहि देखायल। चुपचाप अपन योगदान दैत रहैत छथिन। चिन्तनशील त छथिये। मैथिली जिन्दाबाद पर समय-समय पर हिनकर लेख-रचना सब सेहो प्रकाशित करैत रहलहुँ अछि। आइ किछु गोट एतय सेहो राखब, किछु फोटो राखब, बस जन्मदिनक शुभकामना जे अपने खूब दीर्घायु आ मंगलमय जीवन जियैत अपन समस्त उपरोक्त वर्णित सुन्दर योगदान मातृभूमि मिथिला लेल दैत रही। सब सँ खास बात जे अंजना समान एकटा विशिष्ट स्रष्टा संतान – अति मधुर आवाज केर मलिका – सुन्दर आ शालीन छविक मलिकानि आ मैथिली संग हिन्दी, बंगाली व अन्य भाषा मे गायन – हमरा लोकनि अहाँ सन समांग पाबिकय यथार्थ रूप सँ समंगगर छी। पुनः शुभकामना!!
 
– प्रवीण
 

श्री विजय कुमार इस्सर रचित किछु कविता-गीत

१. कविता-फगुआ के उत्पात
 
क्षमा करब, मदिरायल मन सँ, भ’गेल हो जँ किछु बात ।
दोष हमर नहि, ई फगुआ अगिलगुआ के अछि उत्पात ॥
क्षमा करब————————
 
सिहिक सिहिक क’ पुरिबा पैसल, सौंसे देहक पोरे पोर।
घूसिक नस के सोनित धार मे, जोर जोर मारै हिलकोर॥
अंग अंग फरकय फूर्ति सँ, कनियो तंग भ भेली कात ।
दोष हमर नहि, ई फगुआ अगिलगुआ के अछि उत्पात ॥
क्षमा करब——————–
 
रंग बिरंगी फूल देखिके, केकरा मोन ने जगतै प्रीत।
आँखि सुंदरि पर टिकबे करतै, मोनो गेतै प्रीतक गीत॥
मेघ कतेक आकाश मे घुरतै, कतौ त’ हेतै बरसात ।
दोष हमर नहि, ई फगुआ अगिलगुआ के अछि उत्पात॥
क्षमा करब——————–
 
बड कठीन दिन एसगरूआ के, देहजरूआ भेलै मतिक्षीन।
छिछियाइत फिरै छै सभ ठाँ, कछमछाइत-राति नैँ नीन॥
जानि ने कत’ बज्जर खसेतै, बहिते रहल जँ एहन बसात ।
दोष हमर नहि, ई फगुआ अगिलगुआ के अछि उत्पात ॥
क्षमा करब——————–
 
साँच कहब कि के छी बाँचल, किनकर नैँ उमतल मन-देह।
यौ सुखलो गाछ मे निकलल पनकी, डिभि जनमलै सुखल-रेह॥
नुका नुका सब पिबि रहल छी, खूब फेकैछी खा क’ पात ।
दोष हमर नहि, ई फगुआ अगिलगुआ के अछि उत्पात ॥
क्षमा करब——————–
 
२. गीत – फगुआ अगिलगुआ
 
ई फगुआ अगिलगुआ अबितहि
घसलक एहन सलाई
प्रेमक दीप टिमटिमाइत छल से
धधकल बढ़िते जाइ
छै की एकर कोनों दवाइ
करी की हम कहू यौ भाई—–।
 
छूछ अगत्ती छोटका छौड़ा
कोर छोड़ि नैञ जाइ
सदिखन रहे लपटायल माय सँ
छुबिते जोड़ चिचियाइ
कतय जा मरलनि निनिया माइ
करी की हम कहू यौ भाइ—–।
 
भरि दिन खरहू टिर्री मिलि कय
घर आंगन सोहराइ
सून दलान के देखि बजौलिएन
कहलनि धुर हरजाइ
कहू त’अ एहुना कतहुँ लजाइ
करी की हम कहू यौ भाइ—–।
 
रंग बिरंगी फूल के देखिते
म’न भ्रमर बनि जाइ
कखनहूं एहि पर कखनहूँ ओहि पर
उड़ि-उड़ि के बैसि जाइ
कछमछ करिते देह दुखाई
करी की हम कहू यौ भाइ—–।
 
कामातुर मन, माथ मे सनकी
नैन सगर छिछिआइ
सुखलो गाछ पर निकले पनकी
देखि म’न पितिआइ
वसंत ऋतु कनिको नैञ सोहाइ
करी की हम कहू यौ भाइ—–।
 
ई उत्पात सँ बाँचल क्यो नहि
ककरो कहल ने जाइ
मारि रहल नित अपनहि म’न के
हम सब महा कसाइ
छमब अपराध हे दाइ माइ
करी की हम कहू यौ भाइ—–।
 
समस्तीपुर जिलाक मूल निवासी श्री विजय कुमार इस्सर केर जीवनी पर – कृत्ति आदिक विवरण संग पुनः दोसर दिन!!
 
हरिः हरः!!
पूर्वक लेख
बादक लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 + 2 =