Home » Archives by category » Article » Opinion

दहेज प्रथा एक कुप्रथा बनल – रेडियो कार्यक्रम “मोनक बात” केर प्रभाव समाज पर पड़ब शुरू

दहेज प्रथा एक कुप्रथा बनल – रेडियो कार्यक्रम “मोनक बात” केर प्रभाव समाज पर पड़ब शुरू

गुरुदेव संग ‘मोनक बात’ पर बातचीत   रेडियो नागरिक एफएम पर ‘मोनक बात’ कार्यक्रम अरविन्द मेहता जी आ हम पिछला २ शनि केँ सवा ८ बजे सँ १० बजे धरि चलेलहुँ। हालांकि निर्धारित समय अछि मात्र ४५ मिनट, मुदा पब्लिक केर समर्थन आ सहकार्यक जोर देखि एकर समय लगातार २ शनि केँ १ घंटा अधिक […]

मैथिली पाछू पड़बाक कारण की? कि हिन्दीक लादल गेनाय मैथिली लेल जानलेबा भेल? – अंग्रेजी मे लेख

मैथिली पाछू पड़बाक कारण की? कि हिन्दीक लादल गेनाय मैथिली लेल जानलेबा भेल? – अंग्रेजी मे लेख

Why Maithili Is Lagging Behind Is Hindi’s Prominence Proving Devil?  – Pravin Narayan Choudhary  (In response to #Stop_Hindi_Imposition –#Revive_Maithili – #Language_Equality_Day –#Justice_For_Maithili on Twitter & Facebook Page) At some point of time, Hindi used as the tool to spread nationalism and there princely states in Mithila region were easily convinced by the freedom fighter leaders of India to use Hindi instead […]

मिथिला सभ्यता परिपूर्ण, तैयो हम सब भऽ रहल छी विमुख, झेलि रहल छी संकट

मिथिला सभ्यता परिपूर्ण, तैयो हम सब भऽ रहल छी विमुख, झेलि रहल छी संकट

विचार – डा. लीना चौधरी मिथिला संस्कार और प्रकृति मैथिल समाज में जतेक पूजा पाठ अइछ सब हमरा सब के प्रकृति से बहुत गहराई से जोड़ैत अइछ। अखन काइले बीतल वटसावित्री पूजा में उपयोग सब वस्तु हमरा सबके बतबइ अइछ की छोट से छोट चीज के अपन महत्व अइछ। बांस के बीयन और बांसक डाली […]

बिम्सटेक आ भारत – समसामयिक राजनीति आ क्षेत्रीय सहयोग पर विचार

बिम्सटेक आ भारत – समसामयिक राजनीति आ क्षेत्रीय सहयोग पर विचार

सम-सामयिक राजनीतिक आ क्षेत्रीय सहयोग पर विचार – राजन झा बिम्सटेक आ भारत हालहि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी केर शपथ ग्रहण समारोह मे बिम्सटेक देशक राष्ट्र प्रमुख सभ के बजाओल गेल रहय त आउ जानी किछ महत्वपूर्ण बात सभ बिम्सटेक केर बारे मे. कहल जाइत अछि जे अगर अहाँ सुख आ शांति सँ रहय चाहैत छी […]

मिथिला मे जलसंकट – विज्ञ विचार-२ – सरस्वती नदीक उदाहरण सँ सीख लेबाक आवश्यकता

मिथिला मे जलसंकट – विज्ञ विचार-२ – सरस्वती नदीक उदाहरण सँ सीख लेबाक आवश्यकता

२ जून २०१९. मैथिली जिन्दाबाद!! मिथिला मे जलसंकट केर गम्भीर स्थिति पर निरन्तर लेख प्रकाशित करबाक क्रम जारी अछि। काल्हि एहि सन्दर्भ डा. लीना चौधरीक एक गोट चिन्तनयुक्त लेख प्रकाशित भेल छल। आइ हुनकर दोसर लेख पुनः आयल अछि। आउ पढैत छी आर पढिकय सुधारोन्मुख गतिविधि लेल सेहो किछु कार्यक्रम योजना संग क्रियान्वयनक दिशा मे […]

मायाक मद आ जमक फँदा

मायाक मद आ जमक फँदा

स्वाध्याय-चिन्तन – प्रवीण नारायण चौधरी एखन २०१३ ई. केर लेखनीक पुनर्निरीक्षण करैत संग्रह योग्य समस्त बात-विचार केँ देखैत जरूरी कार्य कय रहल छी। एहि क्रम मे मित्र आ बंधु लोकनि सँ प्राप्त महत्वपूर्ण जानकारी सब सेहो सोझाँ आबि रहल अछि। सोशल मीडियाक सदुपयोग मे अपनहि द्वारा कयल गेल अन्तर्क्रिया केँ एहि तरहें पुनर्निरीक्षण सचमुच बहुत […]

मिथिला मे जल संकट – विज्ञ विचार श्रृंखला – डा. लीना चौधरी

मिथिला मे जल संकट – विज्ञ विचार श्रृंखला – डा. लीना चौधरी

१ जून २०१९. मैथिली जिन्दाबाद!! भारतीय मिथिला क्षेत्र मे चापाकल सँ सहज रूप सँ जल नहि भेटि रहबाक कारण पानि लेल हाहाकार मचबाक समाचार जहाँ-तहाँ सँ आबि रहल अछि। एहि सन्दर्भ सोशल मीडिया मे ‘पोखरि बचाउ’ अभियान लेल प्रचार-प्रसार करैत देखल जेबाक संग-संग बहुतो रास विज्ञजन लोकनि अपन-अपन विचार दय रहला अछि। एहि क्रम मे […]

वस्त्र अश्लील वा कामुक आ कि लोकक मानसिकता अश्लील आ कामुकः सवाल एक लेखिका केर

वस्त्र अश्लील वा कामुक आ कि लोकक मानसिकता अश्लील आ कामुकः सवाल एक लेखिका केर

विचार – वन्दना झा जय हो मिथिला…….🙏🙏🙏 देश मे चुनाव खत्म भय गेल, चुनावक परिणाम आबि गेल तऽ आब मिथिलामे बहुत गोटे मानसिक तौर पर रिक्त भऽ गेल छथि।🤔🤔 आहि रे बा एना कोना हेतैक मिथिलामे एहन रिक्तता किछु अनसोंहाँत लागय लागैत छन्हि किछु तथाकथित मिथिलाक ठीकेदार सबके। अपन मानसिक रिक्तता के पूर्ति करबाक लेल […]

नेपालक श्रेष्ठ नेता प्रचण्ड जी केर नाम प्रवीण केर एक पत्र

नेपालक श्रेष्ठ नेता प्रचण्ड जी केर नाम प्रवीण केर एक पत्र

परम आदरणीय र सम्माननीय नेताजी – प्रचंडजी, ई पत्र हम मैथिली मे लिखि रहल छी। नेपालक जनता वास्तव मे वर्तमान सरकार सँ बहुत अपेक्षा पोसि लेने अछि। हालांकि नेपाल सरकार समक्ष काफी रास चुनौती आ भौगोलिक सीमा-बाधा आदिक संग परनिर्भरताक एकटा विशेष हद सेहो छैक – तेहेन स्थिति मे नेपाल केर नीति दुइ पैघ अर्थतंत्र […]

मिथिलाक वैवाहिक उत्सव आ ‘स्वयंवर’ प्रथा पर एक सुझाव

मिथिलाक वैवाहिक उत्सव आ ‘स्वयंवर’ प्रथा पर एक सुझाव

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी मिथिलाक विवाह मे नवका प्रचलन ‘स्वयंवर’ केर रीत – एक सुझाव मानैत छी जे हमरा लोकनि आब मूल गाम-ठाम सँ प्रवासक जीवन जिबाक लेल बाध्य छी। बहुत रास विध-व्यवहार सँ जानि-बुझिकय मुक्ति पेबाक नियति बनि गेल अछि सेहो सच। लेकिन किछु कुरूप आ विद्रूप व्यवहार दोसर संस्कृति सँ नकल करब […]

Page 1 of 40123Next ›Last »