Home » Archives by category » Article » Opinion

१८म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन भारतक वृन्दावन मे प्रस्तावित, विराटनगरक मापदंड पालन हो

१८म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन भारतक वृन्दावन मे प्रस्तावित, विराटनगरक मापदंड पालन हो

१८म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन होयत भारतक वृन्दावन मे   परम्परानुसार प्रत्येक अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलनक अन्त (समापन गोष्ठी) मे आगामी आयोजनक कार्यसमिति ओ कार्यक्रम स्थलक नामक घोषणा कयल जाइत अछि। १७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलनक समापन गोष्ठी मे महासचिव डा. बैद्यनाथ चौधरी बैजू कार्यसमितिक घोषणाक संग-संग आगामी आयोजन भारतक वृन्दावन मे कयल जेबाक घोषणा कयलनि। पिछला तीन […]

मिथिलाक्षर अभियान आ मैथिलीक चर्चित साहित्यकार कमल मोहन चुन्नूक प्रतिवेदन

मिथिलाक्षर अभियान आ मैथिलीक चर्चित साहित्यकार कमल मोहन चुन्नूक प्रतिवेदन

साभारः फेसबुक पर श्री कमल मोहन चुन्नूक पोस्ट मिथिलाक्षर साक्षरता अभियान – अभियाने नहि आन्दोलन सेहो सहरसा। आइ 17 नवम्बर 2019, तदनुसार रवि दिन। सहरसाक लेल एकटा महत्वपूर्ण दिन। मुदा पहिले काल्हिक विवरण। काल्हि कॉलेज सँ डेरा आयले छलहुँ कि मित्र किसलय कृष्ण जीक फोन आयल। होटल संगम विहार अयबाक आग्रह छलनि। मिथिलाक्षर साक्षरता अभियानक […]

मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल २०१९ – कड़ी २: दिल्लीक पुरबिया राजनीति केर शिकार मैथिली-मिथिला

मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल २०१९ – कड़ी २: दिल्लीक पुरबिया राजनीति केर शिकार मैथिली-मिथिला

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल २०१९ – पुरबिया राजनीति केर शिकार (मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल – जानकी कृपाक अद्भुत दर्शन) २०१८ मे मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल दिल्ली मे भेल रहय, से मार्च मास मे। एहि वर्ष आम निर्वाचनक कारण आदर्श आचार संहिता केर समय पूर्वहि गछल बात पूरा नहि कय सकैत छल ‘मैथिली भोजपुरी […]

मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल २०१९ – कड़ी १ः प्रवीणक किछु अनुभूति

मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल २०१९ – कड़ी १ः प्रवीणक किछु अनुभूति

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल – जानकी कृपाक अद्भुत दर्शन मैथिली मे कोनो वृहत् स्तरक कार्यक्रम करबाक लेल त्याग, बलिदान, योगदान, आह्वान, सम्मान आदिक अद्भुत संगम चाही। सफलता तखनहि अपूर्व भेटैछ जखन निश्छल आ निश्चल मोन सँ आयोजन कयल जाय। कतहु सँ कोनो प्रकारक वापसीक अपेक्षा रखने बिना – सिर्फ आ सिर्फ […]

कि जातिवाद आ वर्गवादक अन्त संभव अछि?

कि जातिवाद आ वर्गवादक अन्त संभव अछि?

विचार-मंथन – प्रवीण नारायण चौधरी नर आ बानर – विज्ञानक कहब छैक जे बानरहि सँ नर केर विकास भेल अछि। नर केर आदम पुरुष बानर छल। विकासक्रम मे बानर जखन सभ्य भेल त नर केर रूप मे परिणति पाबि गेल। जखन कि सामान्य तर्कबुद्धि सँ हम सब बुझि रहल छी जे बानर एक जानवर थिक, […]

महापात्र ब्राह्मण समुदायक ऋणी अछि हिन्दू मैथिलजन

महापात्र ब्राह्मण समुदायक ऋणी अछि हिन्दू मैथिलजन

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी महापात्र ब्राह्मण केँ ओछ-तुच्छ बुझब महाभूल थिक आइ सँ दुइ वर्ष पूर्व श्री प्रभाकर झा अपन एक गोट लेख हिन्दी मे मिथिलाक महापात्र समुदाय पर केन्द्रित किछु रास ऐतिहासिक सन्दर्भ जोड़िकय लिखने रहथि। मिथिला सँ सम्बद्ध कोनो लेख-रचना केँ यथासंभव मैथिली मे अनुवाद कय केँ प्रकाशित करैत छी, मुदा समयक […]

नेपाल मे आंगुर पर गानय योग्य भत्ताभोगी व्यक्ति मैथिलीक विरोध मे कुतर्क कियैक करैत अछि

नेपाल मे आंगुर पर गानय योग्य भत्ताभोगी व्यक्ति मैथिलीक विरोध मे कुतर्क कियैक करैत अछि

नेपाल मे मैथिलीक विरोध लेल एकटा खास भत्ताभोगी वर्ग सक्रिय केकरो नाम लेनाय त उचित नहि अछि परञ्च ई बात लिखब आवश्यक अछि जे आंगुर पर गानल किछु लोक भिन्न-भिन्न नाम सँ आईडी बनाकय मैथिली भाषाक सम्बन्ध मे गलत अफवाह आ कुतथ्य केर प्रसार कय अपना केँ पोल्हा रहल अछि। ओ ई बुझैत छैक जे […]

मिथिला रत्न केर खोज लेल वृहत् सहकार्यक आवश्यकता

मिथिला रत्न केर खोज लेल वृहत् सहकार्यक आवश्यकता

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी मिथिला रत्न किनका मानल जाय   सामान्यतया अपन मिथिला सभ्यता लेल मूल्यवान् योगदान देनिहार व्यक्तित्व केँ ‘मिथिला रत्न’ कहल जा सकैत अछि। मुदा विगत कतेको समय सँ ‘मिथिला रत्न’ उपाधि सँ सम्मान प्रदान करबाक कार्य पर कइएक प्रकारक सवाल ठाढ़ कयल जेबाक कारणे हमहुँ दुविधा मे पड़ि गेल छी जे […]

दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिलीक पढौनी पर भटकल आलोचना छन्हि प्रो. अपूर्वानन्द केर

दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिलीक पढौनी पर भटकल आलोचना छन्हि प्रो. अपूर्वानन्द केर

२२ अक्टूबर २०१९. मैथिली जिन्दाबाद!! दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिलीक पढौनी पर भटकल आलोचना छन्हि प्रो. अपूर्वानन्द केर   अपूर्वानन्द (दिल्ली विश्वविद्यालयक हिन्दी विभाग मे कार्यरत एसोशियेट प्रोफेसर) केर लेख “डीयू में मैथिली? राजनीति में इस्तेमाल की चीज रह गई है भाषा’ शीर्षक केर लेख पढल। कय बेर पढिकय हुनकर सब बात बुझबाक चेष्टा कयल। श्री […]

आत्मनिरीक्षण – बाबाधामक पेड़ा (प्रसाद)

आत्मनिरीक्षण – बाबाधामक पेड़ा (प्रसाद)

आध्यात्मिक चिन्तन – प्रवीण नारायण चौधरी आत्मनिरीक्षण – बाबाधामक पेड़ा (प्रसाद)   कइएक दिवस सँ दिमाग मे एकटा बात अबैत अछि – प्रवीण! तोरा स्वयं मे कतेक अभिमान छौक आ तूँ दोसर अभिमानी केँ देखैत देरी कतेक जल्दी उताहुल भऽ अपन अभिमान केँ उजागर करय लगैत छँ से कहियो आत्मनिरीक्षण कयलें? ई सवाल अपना आप […]

Page 1 of 43123Next ›Last »