Home » Archives by category » Article » Personality (Page 3)

मातृभाषा, मातृभूमि ओ मातृअस्मिताक संरक्षण-संवर्धन तथा प्रवर्धनक सर्वश्रेष्ठ सिपाही

मातृभाषा, मातृभूमि ओ मातृअस्मिताक संरक्षण-संवर्धन तथा प्रवर्धनक सर्वश्रेष्ठ सिपाही

विशिष्ट व्यक्तित्व आ विद्वानक संस्मरण मे ‘डा. जयकान्त मिश्र’ सन्दर्भः डा. महेन्द्र नारायण राम ‘नीलकमल’ द्वारा डा. जयकान्त मिश्रक बारे संस्मरण आलेख ई सब कहेता देवता, याद करत भविष्यक पीढी भविष्यक पीढी केँ मैथिली भाषा-साहित्यक संग मैथिल पहिचान केँ बचौनिहार गोटेक व्यक्तित्व साक्षात् देवता समान स्मृति मे औतनि, तेहने गोटेक व्यक्तित्व बीच एकटा प्रखर सूर्य […]

बसन्त थिक लोकदेवता ‍- सत्यकथा

बसन्त थिक लोकदेवता ‍- सत्यकथा

बसन्त थिक लोकदेवता – प्रवीण नारायण चौधरी   मेहनतिक फल सब दिन आ सब ठाम मीठ होएत छैक। एहि कथनी केँ चरितार्थ करैत अछि बसन्तक जीवनचर्या आ ओकर कर्मठता। जातिक ओ भले मुसहर अछि, परञ्च ओकर भीतर रहल जिजीविषा ओकरा जीवन जियबाक अपन एकटा अलग कला आ शैली जे जातिगत परम्परा सँ सर्वथा भिन्न छैक […]

मैथिलीक महत्‌त्रयः डा. सुभद्र झा

मैथिलीक महत्‌त्रयः डा. सुभद्र झा

पोथी विमर्श – डा. रामदेव झा रचित ‘डा. सुभद्र झा’ – साहित्य अकादमी द्वारा प्रकाशित चिन्हू मैथिली भाषाक महत्‌त्रय डा. सुभद्र झा केँ मैथिली लिटरेचर फेस्टिवल मे खास रूप सँ अवसर भेटैत अछि अनुभवी साहित्यकार, कथाकार, उपन्यासकार, कवि, लेखक आदि सँ भेंट करैत हुनका सब सँ विशेष किछु सिखबाक…. यैह भेल एहि बेर दिल्ली मे […]

रामकृष्ण परमहंसः एहेन संत जिनकर विचार समस्त संसार मानय लेल बाध्य भेल

रामकृष्ण परमहंसः एहेन संत जिनकर विचार समस्त संसार मानय लेल बाध्य भेल

श्रीरामकृष्ण परमहंस   (संत चरित – मूल लेखः स्वामी श्रीअभेदानन्दजी महाराज, स्रोतः कल्याण, अनुवादः प्रवीण नारायण चौधरी)   श्रीरामकृष्ण परमहंस, एक मत सँ आधुनिक भारतक संतशिरोमणि मानल जाइत छथि। १७ फरबरी सन् १८३६ ई. केँ बंगालप्रान्तार्गत हुगली जिलाक ‘कमारपुकुर’ नामक एक अप्रसिद्ध गाम मे जन्म लेने छलाह। हिनक घरक नाम गदाधर चट्टोपाध्याय छल आर हिनक […]

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सँ साहित्य धरिक यात्राक यायावर ‘पं. छेदी झा द्विजवर’

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सँ साहित्य धरिक यात्राक यायावर ‘पं. छेदी झा द्विजवर’

विशिष्ट व्यक्तित्व परिचयः पं. छेदी झा ‘द्विजवर’ – प्रवीण नारायण चौधरी हम सब विद्यालय या महाविद्यालयक कोनो कक्षा मे अपन इतिहास नहि पढि सकलहुँ अछि। एहि कारण जे आत्मशक्ति यथार्थतः हमरा सब मे रहबाक चाही तेकर अकाल स्वाभाविके रूप सँ अछि। ई कहबा मे कोनो संकोच नहि जे अपनहि विभूति केँ हम सब अवहेलना करैत […]

अमर संस्कृतिविद् चतुर्भुज आशावादी – एक यथार्थ युगपुरुष

अमर संस्कृतिविद् चतुर्भुज आशावादी – एक यथार्थ युगपुरुष

विशिष्ट व्यक्तित्व परिचयः युगपुरुष चतुर्भुज आशावादी – प्रवीण नारायण चौधरी नेपालक प्रसिद्ध संस्कृतिविद् – अभियानी – कलाकार – निर्देशक – अन्वेषणकर्ता – राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय अनेकानेक कार्यक्रमक आयोजनकर्ताक संग-संग ‘एकल भाषा एकल भेष’ केर नेपालक कड़ा संवैधानिक व्यवस्थाक बावजूद लोकसंस्कृति-लोककला-लोकअभिनय प्रति असीम स्नेह रखनिहार आर सांस्कृतिक आयोजन मे नेपाली भाषा-संस्कृतिक कला-नृत्य आदिक संग मैथिली, राजवंशी, थारू, आदि […]

मिथिला सँ विश्व-स्तरीय वैज्ञानिक सपुतक प्रादुर्भाव, पाठक शुभम पराशरक परिचय

मिथिला सँ विश्व-स्तरीय वैज्ञानिक सपुतक प्रादुर्भाव, पाठक शुभम पराशरक परिचय

विशिष्ट व्यक्तित्व परिचयः साईंटिस्ट इन मेकिंग पाठक शुभम पराशर पौराणिक कथा मे मिथिलाक वर्णन ऋषि-मणीषीगणक उत्पत्ति-स्थलक रूप मे कयल गेल अछि। जनक समान महान् शिक्षक दोसर कियो नहि भेलाह, जाहि कारण हिनका सँ शिक्षा ग्रहण करय लेल व्यासपुत्र शुकदेव सँ लैत ताहि युगक एक सँ बढिकय एक स्रष्टाक नामक जिकिर हमरा लोकनिक वेद आ पुराण […]

युवा प्रतिभा एस. के. मैथिल आर मातृभाषा मैथिली प्रति समर्पण ओ सेवाक अनुपम दृष्टान्त

युवा प्रतिभा एस. के. मैथिल आर मातृभाषा मैथिली प्रति समर्पण ओ सेवाक अनुपम दृष्टान्त

व्यक्तित्व परिचयः युवा सर्जक एस. के. मैथिल मातृभाषा मैथिली लेल जैड़ पटेबाक काज मे नेपालक मिथिलाक योगदान भारतक मिथिला सँ बहुतो मामिला मे भिन्न आ श्रेष्ठ छैक। भिन्न एहि लेल जे भारत मे जातिवादी नेतागिरी मे लागल कुटिचालि कयनिहार अगुआ द्वारा मैथिली केँ सेहो उच्च जातिक भाषा कहिकय दुष्प्रचार कयल गेलैक जाहि सँ बहुल्यजन मैथिल […]

मिथिलाक राजनेता मे ऐगला ललित बाबू बनि सकता संजय झा?

मिथिलाक राजनेता मे ऐगला ललित बाबू बनि सकता संजय झा?

मिथिलाक विकासवादी नेता संजय झाः लोकमानस मे ऐगला ललित बाबूक रूपमे चर्चित – प्रवीण नारायण चौधरी मिथिलाक अपन अलग दाबेदारी बिहार अन्तर्गत पिछला १०६ वर्ष मे मिथिला अपन स्वत्व लगभग सब तरहें समाप्त कय चुकल अछि। बौद्धिक, साहित्यिक, आध्यात्मिक, दार्शनिक, पौराणिक, ऐतिहासिक – वर्तमान समय मिथिला आर एहि सँ जुड़ल पहिचानक वैशिष्ट्य – ई सबटा […]

नवरात्रक सातम दिनक प्रसादः कर्म जेहेन करब तेकर फल भोगब सुनिश्चित अछि

नवरात्रक सातम दिनक प्रसादः कर्म जेहेन करब तेकर फल भोगब सुनिश्चित अछि

नवरात्रक सातम दिनः आजुक प्रसाद “कर्म अनुरूप फल भोगबाक यथार्थ”   शास्त्र-पुराण वर्णित अनेकों कथा-गाथा पढलहुँ, मनन कएलहुँ – ई बात एक दिस। दोसर दिस जीवन मे अनेक तीत-मीठ अनुभव पेलहुँ – कृपा, दया आ स्नेहक अनुभूति भेटल, क्रोध, लोभ, मोह, मास्चर्ज आदिक तीत अनुभव सेहो भेटल। यैह सुख आ दुःख केर दुइ तीर बीच […]