Home » Archives by category » Article » Heritage (Page 8)

राज दरभंगाक इतिहासः भारतक सबसँ पैघ जमीन्दारी

राज दरभंगाक इतिहासः भारतक सबसँ पैघ जमीन्दारी

राज दरभंगा के इतिहास दरभंगा राज राज दरभंगाक रूप मे सेहो जानल जाइत अछि । एकर इतिहास सोलहम शताब्दी मे शुरू होइत अछि आ एकर पहिल राजा महेश ठाकुर छलाह । दरभंगा राजक क्षेत्रफल लगभग २४१० वर्ग कि०मी० छल आ एहि मे ४,४९५ टा गाम १८ गोट सरकिल मे छल, जे बिहार सँ लऽ कऽ […]

विद्यापतिक असल पाग बनि गेल दोहा-कतार मे

विद्यापतिक असल पाग बनि गेल दोहा-कतार मे

नवम्बर २७, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! कतार केर दोहा मे होयत विद्यापति स्मृति पर्व समारोह आइ २७ नवम्बर, २०१५ मिथिला व मैथिलीक संसार मे एकटा नव इतिहास रचल जा रहल अछि। विदेश मे प्रवास पर रहि रहल मैथिल युवा स्रष्टा सब मिलिकय महाकवि कोकिल विद्यापति केर स्मृति दिवस मनाबय जा रहला अछि। एहि सुअवसर पर मैथिल […]

पर्यटकीय स्थलक विकास मिथिला मे: फैटकी कुटीक अध्ययन

पर्यटकीय स्थलक विकास मिथिला मे: फैटकी कुटीक अध्ययन

फैटकी, मधेपुर (मधुबनी)। अक्टुबर ३०, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! दरभंगा-मधुबनी जिलाक सीमा आ बहेड़ा सँ फूलपरास केँ जोड़यवला बहेड़ा सँ फूलपरास केर राज्यपथ पर कमला-बलानक पूबरिया बान्हक कात मे अवस्थित छोट गाम फैटकी जेकरा लोक फैटकी कुटीक नाम सँ बेसी जनैत अछि, ताहि ठाम क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि व दिग्गज नेता नीतीश मिश्रा केर विशेष प्रयास सँ विकास […]

मैथिल ब्राह्मणक पंजी प्रबंध: एक परिचय

मैथिल ब्राह्मणक पंजी प्रबंध: एक परिचय

विद्वत् मत: आलेख – प्रो. रामचन्द्र मिश्र मधुकर मिथिलाक लुप्त प्राय एकगोट आदर्श परम्परा  ओना तँ पंजीप्रबंध  बहुत पैघ विषय अछि, मुदा हम एतय एकटा कुँजिका रूप मे किछु लिखबाक प्रयाश कए रहल छी | आइ काल्हि अधिसंख्य मैथिल बंधु अपन स्वरुप सँ अनभिज्ञ छथि, तनिका हेतु सामान्य ज्ञान प्राप्तिक ई लेख उपादेय होएत | […]

मिथिला चौक – दिल्ली: देशक राजधानी मे मैथिल केर असेम्बली हाउस केर परिचय

मिथिला चौक – दिल्ली: देशक राजधानी मे मैथिल केर असेम्बली हाउस केर परिचय

दिल्लीक मिथिला चौक – प्रवीण नारायण चौधरी मिथिला आ भारतदेशक राजधानी मे अदौकाल सँ गहिंर संबंध रहल अछि। जहिया देशक राजधानी कलकत्ता छल तहियो, ताहि सँ पूर्व मुगलकाल मे आगरा आ बाद मे फेर दिल्ली, मैथिल जनमानस केर आवश्यकता कुशल व्यवस्थापन हेतु सब दिन राज्य संचालक केँ पड़ल आ अपन कुशाग्रता, गंभीरता आ वैचारिक पूर्णताक कारणे […]

विराटनगर मे ऐतिहासिक पारंपरिक रथयात्रा प्रारंभ

विराटनगर मे ऐतिहासिक पारंपरिक रथयात्रा प्रारंभ

विराटनगर, सितम्बर ६, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! जन्माष्टमीक प्रात दिन तिनपैनी (विराटनगर) स्थित अति प्राचीन राधाकृष्ण मन्दिर सँ शुरु करैत विराटनगर बजार आ धरान रोड होइत कुल १० किमी जतेक परिक्रमा यात्रा केर रथयात्रा ससमय ३ बजे सँ प्रारंभ भऽ गेल अछि। एहि बेर आयोजक समिति द्वारा अत्यन्त वृहत् आयोजन कैल गेल अछि। जुलूस-झाँकी मे विभिन्न […]

मिथिलाक बाबाधाम: कुशेश्वरनाथ महादेव

मिथिलाक बाबाधाम: कुशेश्वरनाथ महादेव

राहुल झा, बनगाँव, सहरसा। सितम्बर ३, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! साभार: नितीश झा द्वारा फेसबुक पर कैल गेल पोस्ट  मिथिलांचलक बाबा बैद्यनाथ धाम आ उत्तर बिहारक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल शिवनगरी बाबा कुशेश्वरधाम शिव भक्त केर आस्थाक केंद्र मे प्रमुख अछि। एतय साल भरि श्रद्धालुक लाइन लागल रहैत अछि, विशेष कय सावन महीना मे शिव भक्तक आस्था एतय […]

बाणेश्वर महादेव देबना (बनगाँव) केँ लगायल गेल १५६ प्रकारक भोग: अति प्राचीन परंपरा

बाणेश्वर महादेव देबना (बनगाँव) केँ लगायल गेल १५६ प्रकारक भोग: अति प्राचीन परंपरा

राहुल झा, बनगाँव, सहरसा। सितम्बर १, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! पूर्वी मिथिलाक कोसी क्षेत्रकेँ ‘देवहु केर देव महादेव केर नगरी’ कहल जाय तँ कोनो अतिशियोक्ति केर बात नहि होयत, कोसीक गर्भ मे बाबा श्रृंगि ऋषि केर धरती कहायवला मधेपुरा मे अवस्थित बाबा सिंहेश्वरनाथ महादेव, सुपौल जिलाक गणपतगंज (धरहरा) मे अवस्थित भीमशंकर महादेव, सहरसा जिलाक महिषी गामक नाकुच मे […]

चामुण्डा माय (पचही, मधेपुर) केर दर्शन

चामुण्डा माय (पचही, मधेपुर) केर दर्शन

मलयनाथ मिश्र, मधेपुर (मधुबनी)। २८ अगस्त, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! गाम-गाम आ ठाम-ठाम पर बसैत छथिन आदिशक्ति जगदम्बा, ताहि सुन्दर मिथिला भूमि पर बनल अछि लाखों छोट-छोट सुन्दर-सुन्दर जगदम्बाक मन्दिर जतय जुटैत अछि लाखों श्रद्धालू-भक्तक भीड़ आ पूजा-आराधना सतति चलिते रहैत अछि। एहने एकटा अति सुन्दर स्थल अछि – पचही (मधेपुर) – जिला मधुबनीक माँ चामुण्डा […]

अन्न बिना सब सुन्न-मशान!!

अन्न बिना सब सुन्न-मशान!!

हमहुँ रोपब धान – प्रवीण नारायण चौधरी   बाबु! तूँ खेत पर काज करैत छह, हमहुँ तोरा संग दैत छियह! अन्न उपजि तऽ भूख मरैत छह दुनियाक पेट किसान भरैत छह! बाबु! तूँ खेत पर ….   थाल पाइन मे धानक बिहैन रोपि-रोपि जे सपना देखैत छह बरखा पानी खाद कमौनी बड मेहनति सँ धान […]