Home » Archives by category » Article » Heritage

संसार केर सर्वोच्च शिखर माउंट एवरेस्ट आ दरभंगा महाराज

संसार केर सर्वोच्च शिखर माउंट एवरेस्ट आ दरभंगा महाराज

ऐतिहासिक महत्व केर जानकारी स्रोत: रवि जंग कार्की, काठमांडू, नेपाल संसार केर सर्वोच्च शिखर सागरमाथा जेकर विश्व परिवेश में माउन्ट एवरेस्ट नाम प्रसिद्ध छैक, जाहि पर सर्वप्रथम जे पर्वतारोही दल पहुँचल छल, ताहि दल केँ दरभंगा महाराजाधिराज सर कामेश्वर सिंह प्रायोजित कयने छलाह। नेपाल केर राणा शासक आ ब्रिटिश भारत काल केर अध्येता रवि जंग […]

मिथिला, मैथिली आ मैथिल केर पौराणिक परिचय

मिथिला, मैथिली आ मैथिल केर पौराणिक परिचय

लेख – आध्यात्मिक अध्ययनक आधार पर मिथिलाक सम्पूर्ण परिचय – प्रवीण नारायण चौधरी अहो मित्र,   कि अहाँ ओहि मिथिला सँ छी जतय स्वयं जगदम्बा जानकी अवतार लेलनि?   पराम्बा जानकी मिथिला धरा सँ अवतार लेलनि, हमरो जन्म एहि धराधाम मे भेल, तैँ ‘जानकी’, ‘किशोरी’, ‘जनकलली’ हमर बहिन छथि!   मिथिलाक रीत-रेबाज आ लोकरीति-संस्कृति सब […]

राहुल सांकृत्यायनक ओ अविस्मरणीय योगदान

राहुल सांकृत्यायनक ओ अविस्मरणीय योगदान

३० जुलाई २०२०, मैथिली जिन्दाबाद!! राहुल सांकृत्यायन बहुत रास महत्वपूर्ण अभिलेख (दस्तावेज) अनने छलाह। एकर पान्डुलिपि सब बिहार रिसर्च सोसायटी (पटना) मे संरक्षित अछि। विलक्षण साहसी आ विश्वयात्रीक रूप मे सुपरिचित – बहुप्रतिभावान् व्यक्तित्व राहुल सांकृत्यायन जिनका शिक्षक, लेखक, स्वतंत्रता सेनानी आ साधू हर रूप मे जानल जाइत छन्हि – वैह तिब्बत (चीन) केर दुर्गम […]

दौरमा गामक लोकआस्था आ परम्परा पर आपत्तिजनक टीका-टिप्पणी कियैक?

दौरमा गामक लोकआस्था आ परम्परा पर आपत्तिजनक टीका-टिप्पणी कियैक?

सांस्कृतिक-पुरातात्विक संपदाक चोर-तस्करक गिरोह मिथिला मे सक्रिय विश्व भरि मे महत्वपूर्ण एन्टिक्स केर चोरी-तस्करीक समाचार सुनिते रही, आब मिथिला मे सेहो विगत किछु वर्ष सँ एहि तरहक चोरी काफी उच्चस्तर पर घटि रहल अछि। देखिते-देखिते हमरा नजरि मे मात्र रहुआ (मधुबनी) केर पारसनाथ महादेव केर चोरी, कुर्सों राम-जानकी मन्दिर सँ मूर्तिक चोरी, दसौतक राधाकृष्ण मन्दिर […]

हम्मर गाम चतरा के ब्रह्मस्थानक

हम्मर गाम चतरा के ब्रह्मस्थानक

मिथिलाक गाम – मिथिलाक धरोहरः चतरा, मधुबनी – जुही कर्ण हम्मर गाम भेल (मधुबनी जिला) चतरा । हम गाम पर करीब 2-3 साल पर 7 -8 दिन लेल जाय छी, कोलकाता में पापा के सरकारी रेलवे में नौकरी छलय ओहि लेल हुनको गाम बहुत कम जेनाय होबय लगलैन । हम्मर गाम पर हमरा ‘ब्रह्मपुरा’ नामक […]

मिथिलाक मूल्यवान् धरोहरः भैरवस्थान – भैरव बाबाक स्थापनाक कथा सहित

मिथिलाक मूल्यवान् धरोहरः भैरवस्थान – भैरव बाबाक स्थापनाक कथा सहित

धरोहर-परिचय – सोहन कुमार झा मिथिला के धरोहर: भैरव बाबा (भैरव स्थान) हमर गाम समया-महिनाथपुर (जिला मधुबनी) के नजदीक (लगभग 1 KM पस्चिम) म अवस्थित छैथ, वाया-झंझारपुर, जिला-मधुबनी, बिहार। एहि स्थान क बारे में निम्न लिखित बात प्रचलित छै, पढ़ल जाऊ : एक समय के बात अछि, विश्वामित्र जी जखन राम – लक्ष्मण क संग मिथिला […]

बरहरा गामक भैरव पूजा – मिथिलाक एक महत्वपूर्ण धरोहर

बरहरा गामक भैरव पूजा – मिथिलाक एक महत्वपूर्ण धरोहर

अभियान आलेख – प्रवीण नारायण चौधरी बरहरा गामक भैरव पूजाः मिथिलाक एक धरोहर बरहरा गाम मधुबनी जिला मे पड़ैत अछि। झंझारपुर सँ लौकहा जेबाक रेलवे रूट जे एखन अमान-परिवर्तनक प्रक्रिया मे रहबाक कारण बाधित अछि ताहि पर पड़ैत अछि बरहरा हाल्ट। आसपासक अन्य स्टेशन सभक नाम अछि वाचस्पतिनगर (अंधड़ाठाढी), खुटौना, आदि। बलिराजगढ सेहो आसेपास अवस्थित […]

घरै सऽ जानकी नवमी मनएबाक लेल अपीलः छोटे महंथ 

घरै सऽ जानकी नवमी मनएबाक लेल अपीलः छोटे महंथ 

घरे सऽ जानकी नवमी मनएबाक लेल अपीलः छोटे महंथ  मनीष कर्ण, जनकपुरधाम। २३ अप्रैल २०२०. मैथिली जिन्दाबाद!! प्रत्येक वर्ष जनकपुरधाममें मनाओल जाएबला जानकी नवमी केर एहि वर्षक विशेष उत्सवसभ लौकडौनक कारण प्रभावित भऽ रहल अछि। विश्वभरि मे पसरल वैश्विक महामारी नॉवेल कोरोना भाइरस केर कारणे नेपाल सरकार द्वारा लौकडौन लगएला बाद जानकी नवमी उत्सवमें  समेत […]

पर्यटन लेल अद्भुत स्थल अछि देवही टोलः एक सँ एक निर्माणक अनुपम छवि-छटा बनल अछि

पर्यटन लेल अद्भुत स्थल अछि देवही टोलः एक सँ एक निर्माणक अनुपम छवि-छटा बनल अछि

पर्यटन स्थलक परिचय – विवेक चन्द्र मिश्र, देवही टोल, मधुबनी (साभार लेखकक फेसबुक पर राखल गेल पोस्ट, जहिनाक तहिना) ई थीक हमर गाम के बाबा देवेश्वर नाथ महादेव के स्थान। ई स्थान झंझारपुर सँ लगभग ७ किलोमीटर पूर्व में अवस्थित अछि। लखनौर और दीप के मध्य में दीप पश्चिम पंचायतान्तर्गत हमर गामक नाम #देवही_टोल अछि। […]

धनरोपनी सँ जुड़ल मिथिलाक साहित्य-संस्कारः गभ लेनाइ आ धनखेती लेल डाक-वचन

धनरोपनी सँ जुड़ल मिथिलाक साहित्य-संस्कारः गभ लेनाइ आ धनखेती लेल डाक-वचन

आलेख – प्रवीण नारायण चौधरी धनरोपनी सँ जुड़ल मिथिलाक साहित्य-संस्कार   के नहि जनैत छी जे बिना अन्न-पानि मानव जीवन किंवा सम्पूर्ण पर्यावरणीय संतुलन, हर जीव-जन्तु आ जीवन पद्धति स्वयं असंभव अछि। हम-अहाँ जे मिथिलाक लोक थिकहुँ एतय सेहो खेती-पाती आ घर-गृहस्थी संग जीवनचर्याक अपन एक अलग विशिष्ट परम्परा सुस्थापित अछि। हालांकि ई परम्परा आजुक […]

Page 1 of 11123Next ›Last »