Home » Archives by category » Article » Culture (Page 2)

हमर जीवनक उद्देश्य की?

हमर जीवनक उद्देश्य की?

अहाँ अपन पुरुखा सँ किछु सीखू   मानव जीवन मे माता-पिता संग कुल-परिवार केर महत्व सेहो काफी उच्च कहल गेल अछि। अहाँक जन्म कोनो कुलीन परिवार मे तखनहि संभव होइत अछि जखन ओहि तरहक कर्मठता अहाँ अपन पूर्व-जन्म मे संचित कयलहुँ। एकर वैज्ञानिक कारण श्रीमद्भगवद्गीता मे श्री अर्जुन द्वारा पुछल गेल एकटा गम्भीर आ अत्यन्त […]

कुमारिल भट्ट केर डीह भट्टपुरा सँ मंडनक डीह महिषीधाम धरि रथयात्राक प्रस्ताव

कुमारिल भट्ट केर डीह भट्टपुरा सँ मंडनक डीह महिषीधाम धरि रथयात्राक प्रस्ताव

साभारः घनश्याम झा वीडियोः https://www.facebook.com/ghanshyamjha.jha.7/videos/1223105467872342/ मिथिला आदि काल सँ सांस्कृतिक आ ऐतिहासिक धराक रूप में जानल जायत अछि । एतय अनेकानेक विद्वान अपन विद्वता सँ संपूर्ण विश्व के प्रभावित केलथि । मुदा सरकारक उदासीनता आ आमजनक घटैत रूचि के कारण मिथिला अपन संस्कृति केँ बिसरैत जा रहल अछि । किछु महान विभूति सभकेँ त याद […]

मिथिलानी लोकनिक विद्वत् चर्चा – दहेज मुक्त मिथिला समूह पर

मिथिलानी लोकनिक विद्वत् चर्चा – दहेज मुक्त मिथिला समूह पर

विद्वत् चर्चा आ विषय-विमर्श संयोजकः वंदना चौधरी, समूहः दहेज मुक्त मिथिला (फेसबुक समूह) वंदना चौधरीः सुप्रभात सब गोटे के। आय एकटा विषय दैत छी, जाहि पर अहाँ सब अपन-अपन विचार कम सँ कम १० लाइन में लिखू से आग्रह। विषय अछि आधुनिक शिक्षा, नीक या बेजाय, एकर कारण और परिणाम की? विचार बेसी लंबा और […]

सकारात्मकता केर अनुकरण – एकटा टटका-टटकी उदाहरण

सकारात्मकता केर अनुकरण – एकटा टटका-टटकी उदाहरण

२१ अगस्त २०१९. मैथिली जिन्दाबाद!! विचार – वाणी भारद्वाज  सकारात्मकता के अनुकरण – ई भेल असल अभियान सकारात्मकता के अनुकरण केला सं कोना नकारत्मकता कम भऽ सकैत छैक …. तकर एक गोट टटका उदाहरण प्रस्तुत क रहल छी. एक टा चारि साल पुरान ग्रुप छल, ओहि मे जगह-जगह के लोक जुड़ल, ग्रुप बढय लागल. देश […]

दिल्लीक पाँच सितारा होटल मे बाँटल गेल बहुचर्चित ‘अटल मिथिला सम्मान २०१९’

दिल्लीक पाँच सितारा होटल मे बाँटल गेल बहुचर्चित ‘अटल मिथिला सम्मान २०१९’

१७ अगस्त २०१९. मैथिली जिन्दाबाद!! श्रीचन्द कामत, नई दिल्ली।  मैथिली ठाकुर, धीरेन्द्र प्रेमर्षि, अजय झा सहित देश-विदेशक दुइ दर्जन प्रसिद्ध व्यक्तित्व केँ “अटल मिथिला सम्मान २०१९” कयल गेलनि प्रदान, मुख्य अतिथि भारतक केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, सुप्रसिद्ध गायक उदित नारायण एवं अल्का याज्ञनिक व अन्य आइ अगस्त महीनाक १७ […]

मैथिल समाजक वर्तमान परिस्थितिः कइएक महत्वपूर्ण पक्ष पर आत्मचिन्तनक जरूरत

मैथिल समाजक वर्तमान परिस्थितिः कइएक महत्वपूर्ण पक्ष पर आत्मचिन्तनक जरूरत

विचार-विमर्श – अपर्णा झा – हाल दिल्ली सँ मैथिली मे अपन मातृभूमि सँ प्रेम आ लगाव अनुरूप दहेज कुप्रथा व अन्य सामाजिक कमी-कमजोरी पर विचार प्रेषित करैत मैथिल समाज : आजुक परिस्थिति में (एकटा चर्चा जाहि में समूहक बेसी सs बेसी सदस्य से हुनक टिप्पणी अपेक्षित) आय काल्हि विवाह में एकटा नव ट्रेंड शुरू भs […]

१७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन लेल आम बैसार काल्हि

१७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन लेल आम बैसार काल्हि

सूचना प्रातःकाल केर प्रणाम विराटनगर एवं आसपासक मैथिलीभाषाभाषी व सहयोगी-शुभेच्छु लोकनि केँ!   काल्हि शनि दिन मिति सावन १८ गते – ३ अगस्त २०१९ केँ बखरी स्थित मैथिली स्टडी प्वाइन्ट मे १७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन सम्बन्ध मे महत्वपूर्ण बैसार १ बजे होमय जा रहल अछि, कृपया अपने लोकनि अधिक सँ अधिक संख्या मे उपस्थित भऽ […]

प्रत्येक नारीक जीवन मे तीन चरण – जे बुझत से जियत जीवन

प्रत्येक नारीक जीवन मे तीन चरण – जे बुझत से जियत जीवन

लेख-विचार – ममता झा “नारी अहाँक रूप अनेक” – हम पुछलहुँ लोक सब सँ जे नारीक कतेक रूप अइ… कियो माँ कहलक, कियो बहिन कहलक, कियो हमसफर, कियो ममता के मूरत त कियो दोस्त त कियो सच के सुरत कहलक। सब अपना-अपना हिसाब सँ वर्णन केलक। नारीक जन्म आ जीवनक पड़ाव तीन बेर अबैत अइ। […]

एतेक मे वर कि बरदो नहि भेटत आइ

एतेक मे वर कि बरदो नहि भेटत आइ

लघुकथा – रूबी झा दहेज के मूल अर्थ बिसैर हम मिथिलावासी बेटा केँ बरद-महिस जेकाँ अपन दाम लगबैत छी। बेटा केँ बाप बेचैय छथि आ बेटी केँ बाप खरीदैत छथि। ई घृणीत कार्य सब सँ बेसी हमर सबहक ब्राह्मण समाज में होइत अछि। वर केँ दहेज जतेक देल गेल ओहि हिसाबे कनियाँ केँ नुवा, गहना, […]

श्रीहित ध्रुवदासजी – भगवान् केर एक अनुपम भक्त केर कथा

श्रीहित ध्रुवदासजी – भगवान् केर एक अनुपम भक्त केर कथा

स्वाध्याय लेखः श्रीहित ध्रुवदासजी – संकलनः कल्याण, अनुवादः प्रवीण नारायण चौधरी श्रीध्रुवदासजीक घरक कि नाम रहनि, किछु पता नहि। हिनकर पूर्व-संस्कार हिनका मे मात्र ५ वर्षक अवस्था मे उत्कट वैराग्य आर प्रभु-प्रेमक लगन उत्पन्न कय देने रहय। बालकभक्त ध्रुव सेहो ५ वर्ष मे अपना मे एहेन लगन पेने रहथि। एहि साम्य केर कारण हिनका लोक […]