Home » Archives by category » Article » Culture

बरसाइत पावनिक महिमा

बरसाइत पावनिक महिमा

पावनि-संस्कृतिः बरसाइत – आशा चौधरी आइ वंदना जी के एकटा सबाल छलैन्ह जे वट सवित्री (बरसाइत) अपना मिथिला मे केना और कियैक मनायल जाइत छैक. एहि विषय पर किछु हल्लुक जानकारी हमरा अछि से हम बता रहल छी। ई पावनि अहिवाती लोकनि करैत छथि पति के दिर्घायु लेल. नव विवाहित कन्या के ई पावनि बहुत […]

पराती – सुमिरन गायनक एक विलक्षण विधा जे मनुष्य जीवन केँ नित्य नव ऊर्जा दैछ

पराती – सुमिरन गायनक एक विलक्षण विधा जे मनुष्य जीवन केँ नित्य नव ऊर्जा दैछ

लोकपरंपरा-जीवनशैली – प्रवीण नारायण चौधरी हमर हमउमेर कतेको लोक गायनक एहि विशिष्ट विधा सँ सुपरिचित होयब – भोरे-सकाले (अन्हरभोरे – प्रातःकाल) ब्रह्ममुहूर्त मे नींद टूटब आ जगलाक बादो किछु काल बिछाउने पर बैसल-बैसल ईश्वरक विशेष नामजप तथा भजन-सुमिरन गेबाक एकटा अनुपम जीवनशैली मिथिला मे भेटैत छल। खासकय गामक जीवन मे बुढ-पुरान लोक एहि तरहें जियैत […]

आजुक दिवस घटदान केर परम्परा अछि मिथिला में

आजुक दिवस घटदान केर परम्परा अछि मिथिला में

13 अप्रैल 2020 । मैथिली जिन्दाबाद!! आइ नव विक्रम संवत साल 2077 केर शुभारंभ भेल। राजा विक्रमादित्य केर समय सँ निर्धारित सालक गणना आइ 2077म वर्ष में प्रवेश पाबि गेल अछि। आजुक दिवसक आर कतेको महत्व शास्त्र पुराण में वर्णित अछि। मिथिला में आजुक दिन पाबनि रूप में सतुआ खेबाक विशेष परम्परा अछि। दहेज मुक्त […]

हिन्दू रेबाज मे कुल ८ तरहक विवाह

हिन्दू रेबाज मे कुल ८ तरहक विवाह

लेख – पराग शर्मा (अनुवादः प्रवीण नारायण चौधरी) हिन्दू रेबाज मे कुल ८ तरहक विवाह मनुस्मृति मे विवाहक ८ प्रकार कहल गेल अछि। जाहि मे तीन तरहक विवाह केँ खराब मानल जाइछ। असुर, राक्षस एवं पैशाच – विवाहक ई तीन प्रकार केँ मनुस्मृति मे नीक नहि कहल गेल अछि। आउ, देखी आर कोन-कोन तरहक विवाह […]

आजुक रंगभरनी एकादशीक दिवस आ एकर खास महत्व

आजुक रंगभरनी एकादशीक दिवस आ एकर खास महत्व

६ मार्च २०२०, मैथिली जिन्दाबाद!! रंगभरनी एकादशी विशेष आइ थिकैक रंगभरनी एकादशी। आजुक शुभ दिन मिथिला भरि मे कतेको बरुआक उपनयन आर कतेको एकादशी व्रत कयनिहाइर माता-बहिनक एकादशी जागक दिन सेहो थिक। पंचांग पर विशेष दृष्टि रखनिहार विशेषज्ञ लोकनि आजुक दिवस केर महिमा एहि तरहें कहलनि अछि।   साभार – हिन्दुस्तान   फाल्गुन माह मे […]

कुवैत सँ सूर्योधनक किछु भक्ति रचना – दुर्गा पूजा पर विशेष सुमिरन

कुवैत सँ सूर्योधनक किछु भक्ति रचना – दुर्गा पूजा पर विशेष सुमिरन

भजन – सूर्योधन कुमार घर घरमे घटस्थापनाक खुशी मनावल अछि। मंदिरके चारोवर खूब धूमधाम स सजावल अछि॥ नवरात्रिके नउ दिन मैया नव नव रूप धरत । नित दिन देखैलेल भक्तजन के भिड़ बढ़हत ॥ आगन प्रांगण सबतर पंडाल विछावल अछि । मंदिरके चारोवर ………. रंग बिरंगी फूल आ भोग लेल राखल अछि थार। नउ दिन […]

मैथिल ब्राह्मण : बियाह स विध भारी

मैथिल ब्राह्मण : बियाह स विध भारी

मैथिल ब्राह्मण समुदायः विवाह सँ विध भारी – स्नेहा प्रकाश ठाकुर अपने सब केँ बहुत आभार हमर बियाह सिरीज केँ पसंद करय लेल । हम कोसीस करब जे जतेक भ सकत जानकारी उप्लब्ध करबी । एहि क्रम में आइ हम बात करब सिद्धांत लेखन केर । सिद्धान्त मैथिल ब्राह्मण व आरो अन्य गोटेक जातीय समुदायक […]

मैथिल ब्राह्मण समुदाय मे बियाह स विध भारी

मैथिल ब्राह्मण समुदाय मे बियाह स विध भारी

लेख – स्नेहा प्रकाश ठाकुर मैथिल ब्राह्मण समुदाय में बियाह बाकी सब प्रान्त केर विभिन्न समुदाय स अलग होइछ । बाकी सबके बियाह त एक दिन या दू दिन में निपटि जाइत अछि मुदा हमरा (मैथिल) सबमे त कम स कम 15 दिन लगैत अछि, तकर बादो भैर साल के पाबनि तिहार केर त अन्त […]

सोमवारी व्रत कथा

सोमवारी व्रत कथा

श्रावण मासक दोसर सोमवारी – सोमवारी व्रत कथा   जय भोलेनाथ! जय गौरीशंकर!!   श्रावण पवित्र मासक सोमवारी तिथि – सोमवारी व्रतक विधान मिथिला मे सेहो ओतबे प्रामाणिक आ अधिकतर परिवार मे एहि व्रत उपासनाक परम्परा भेटैत अछि।   सोमवारी व्रत कथा सेहो ओतबे महत्वपूर्ण अछि –   एक गोट व्यापारी व्यापार आ अन्य समस्त […]

अपन मिथिलाक साँझ आ शास्त्र-पुराण-वेद मे वर्णित संध्या केर महत्व

अपन मिथिलाक साँझ आ शास्त्र-पुराण-वेद मे वर्णित संध्या केर महत्व

मिथिलाक लोकजीवन मे साँझ देबाक परम्परा   कहल जाइछ जे एहि धराधाम सँ वेद वर्णित विधान जँ लुप्त भऽ जाय, तँ मिथिलाक लोकजीवन मे स्थापित परम्परा केँ निभेला सँ वेद स्वस्फुर्त प्रकट भऽ जायत। जिनक जन्म आ लालन-पालन मिथिलाक लोकसंस्कार मे भेल ओ सब जनैत छी जे भोरे ब्रह्ममुहूर्त मे उठय सँ लैत नित्यकर्म सँ […]

Page 1 of 12123Next ›Last »