Home » Archives by category » Article » Philosophy (Page 19)

माँ जगदम्ब आराधना: भक्ति साधना सर्वोपरि

माँ जगदम्ब आराधना: भक्ति साधना सर्वोपरि

स्वाध्याय आलेख शुरु करैत छी एकटा सुन्दर सनक जगदम्बाक प्रार्थना सँ: – मयंक मिश्र, पोखरौनी, मधुबनी द्वारा फेसबुक मार्फत पूर्व मे देल गेल ई सुन्दर भजन: हे जगदम्ब जगत्‌ माँ काली, प्रथम प्रणाम करै छी हे! प्रथम प्रणाम करै छी हे मैया प्रथम प्रणाम करै छी हे! हे जगदम्ब जगत्‌ माँ काली… सुनलौं कतेक अधम […]

भगवान् श्रीराम केर दैनिक चर्याक स्वरूप: मानव जीवन लेल अनमोल संदेश

भगवान् श्रीराम केर दैनिक चर्याक स्वरूप: मानव जीवन लेल अनमोल संदेश

अनुवादित आलेख लेखक: श्री कमल प्रसाद जी श्रीवास्तव अनुवाद: प्रवीण नारायण चौधरी चतुर्मास केर विशेष अवसरपर हमरा लोकनि केँ सौभाग्य सँ श्री राम जी केर दैनिक चर्याक स्वरूपसँ शिक्षा पेबाक मौका भेटल अछि। आशा अछि जे हम सब एहि सँ समुचित लाभान्वित होयब। भगवान्‌ श्रीराम अनन्त-कोटि-ब्रह्माण्ड-नायक परम पिता परमेश्वरक अवतार छलाह और धर्मक मर्यादा रखबाक लेल भारतभूमि अयोध्यामे […]

शिव चालीसा (मैथिली रूप)

शिव चालीसा (मैथिली रूप)

दोहा: जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान॥ कहय अयोध्यादास प्रभु, दियौ अभय वरदान॥   जय गिरजापति दीनदयाला, सदा करी सन्तन प्रतिपाला॥१॥ भाल चंद्रमा सोहय नीके, कानन कुंडल नाग फनीके॥२॥ अंग गौर शिर गंग बहाबी, मुंडमाल तन छाउर लगाबी॥३॥ वस्त्र खाल बाघम्बर सोहय, छवि केँ देखि नाग मन मोहय॥४॥ मैना मातु केर वैह दुलारी, बाम […]

जानकी स्तुति

जानकी स्तुति

भई प्रगट किशोरी, धरनि निहोरी, जनक नृपति सुखकारी अनुपम बपुधारी, रूप सवारी, आदि शक्ति सुकुमारी मणि कनक सिंघासन, क्रिताबर आसन, शशि शत शत उजियारी शिर मुकुट बिराजे, भूषण साजे, नृप लखी भये सुखकारी सखी आठ सयानी, मन हुलसानी, सेवहि शील सुहाई नृपति बड़भागी, अति अनुरागी, अस्तुति करत मन लाइ जय जय जय सीते, श्रुतिगन गीते, […]

शिव-प्रार्थना एवं महामृत्युञ्जय मंत्र

शिव-प्रार्थना एवं महामृत्युञ्जय मंत्र

स्वाध्याय आलेख: – प्रवीण नारायण चौधरी जगत् केर स्वामी देवाधिदेव महादेव केर चरण मे बेर-बेर प्रणाम करैत किछु मंत्रपुष्प समर्पित करैत छी। गत्तेक हिसाबे श्रावण लागि गेल अछि, ओना पुर्णिमा दिन ३१ जुलाई सँ श्रावणी पूजन-अर्चन शुरु होयत, तथापि ‘मैथिली जिन्दाबाद’ पर गौरी सहित शंकर केर शरण मे ई पहिल समर्पण कैल जा रहल अछि। […]

श्रीमद्भागवद्गीता आ निरंतर साधना

श्रीमद्भागवद्गीता आ निरंतर साधना

गीता बुझौवैल – अपन विचार! (भगवानक विराटरूपक दर्शन – शोक सँ ज्ञानोपदेशक मार्ग भगवानक दर्शन पर एक समीक्षा) गीताक ११म अध्याय केर ३५म श्लोक मे संजय कहैत छथिन…. एतच्छ्रुत्वा वचनं केशवस्य कृताञ्जलिर्वेपमान: किरीटी॥ नमस्कृत्वा भूय एवाह कृष्णं सगद्गदं भीतभीत: प्रणम्य॥३५॥ ‘कृष्णक एहि तरहक वचन-संबोधन सुनि, सगद्गदी अर्जुन कृत-कृत्य दुनू कल जोड़ने नमस्कार करैत, थरथराइत शरीर […]

मनु-शतरूपा आ हम मानव संसार

मनु-शतरूपा आ हम मानव संसार

स्वाध्याय ‍- आलेख – प्रवीण नारायण चौधरी आध्यात्मिक अध्ययन अर्थात् ‘स्वयं केर सत्य पहिचान हेतु शास्त्रीय वचन सँ आत्मसंतोषक खोजी’ – जेकरा एक शब्द स्वाध्याय सँ संबोधित कय सकैत छी – ओ हमर रुचिक विषय मे पड़ैत अछि। पुन: स्मृति मे अनैत छी ‘धर्म-मार्ग’ केर स्थापना, निरर्थक एम्हर-ओम्हर समय खर्च केला सँ नीक जे कोनो गंभीर […]

हम शिव छी, हम शिव छी!! शिवोहं शिवोहं!!

हम शिव छी, हम शिव छी!! शिवोहं शिवोहं!!

निर्वाणषट्कम् मनोबुध्यहंकार चिताने नाहं । न च श्रोतजिव्हे न च घ्राणनेत्रे । न च व्योमभूमी न तेजू न वायु । चिदानंदरुप शिवोहं शिवोहं ॥ १ ॥ हम मन, बुद्धि, अहंकार आर स्मृति नहि छी, नहिये हम कान, जिह्वा, नाक वा आँखि छी। न हम आकाश, भूमि, तेज आ वायुए छी, हम चैतन्य रूप छी, आनंद छी, शिव छी, शिव […]

नचारी: रूसल भंगिया हमार

नचारी: रूसल भंगिया हमार

(लोकगीत संकलन सँ: साभार रामचन्द्र सिंह, महिया, दरभंगा) रूसल भंगिया हमार, मनाय दऽ गौरी शिव जोगिया के शिव जोगिया के होऽ – शिव भंगिया केऽऽऽऽ – २ रूसल भंगिया हमार…………….. खुआ मलीदा शिव के मनहु न भावे – २ भाँग धथुरा देखि मन ललचाये – होऽऽ – भाँग धथुरा देखि मन ललचाये! भाँग धथुरा कहाँ […]

चराचर जगत्पति सहस्रशीर्ष पुरुष प्रति समर्पित: स्वाध्यायांश

चराचर जगत्पति सहस्रशीर्ष पुरुष प्रति समर्पित: स्वाध्यायांश

स्वाध्याय (आध्यात्मिक वृत्तांत) पवित्र चतुर्मास मे पुरुष सूक्तक नित्य पाठ जरुर करबाक बात कैल गेल अछि। मैथिल हिन्दू जनमानस मे समस्त कर्म करबा मे पुरुष सूक्त केर उपयोगिता सर्वमान्य अछि। ओना तऽ शौचादि सँ निवृत्त होइत स्नानादिक उपरान्त एकर विशेष लाभ होयत, लेकिन आजुक कलियुग आ खास कऽ के जखन लोक फेसबुक आदि लसैड़ सँ […]