Home » Archives by category » Article » Literature (Page 3)

विकसित राष्ट्र मे मिथिलाक ग्रन्थ पर शोध आ अनुवादः जापानक एक दृष्टान्त

विकसित राष्ट्र मे मिथिलाक ग्रन्थ पर शोध आ अनुवादः जापानक एक दृष्टान्त

रोचक जानकारी CiNii – साइनी – Scholarly and Academic Information Navigator एक डेटाबेस सेवा थिक जाहि मे कोनो आलेख, पुस्तक, प्रकाशित लेख आदि केँ सर्च कयल जा सकैत अछि। ई सभक वास्ते निःशुल्क जनतब उपलब्ध करबैत अछि। शैक्षणिक सामग्री जेकर प्रकाशन शैक्षणिक संस्थानक पत्रिकादि मे कयल गेल अछि ताहि पर सेहो जनतब सब एतय सँ लेल […]

पुराण प्रमाणित मिथिला – रोचक जनतब सहित

पुराण प्रमाणित मिथिला – रोचक जनतब सहित

लेख – संकलितः संजय सागर द्वारा ‘हम सब मैथिल छी’ फेसबुक ग्रुप सँ साभार मूल लेखकः कृष्ण कुमार झा ‘अन्वेषक’ – जनवरी २२, २०१२ – अपन ब्लौग पेज पर  पुराण प्रमाणित मिथिला…. देशेषु मिथिला श्रेष्ठा गङ्गादि भूषिता भुविः । द्विजेषु मैथिलः श्रेष्ठः मैथिलेषु च श्रोत्रियः ॥ (संशोधित श्लोकः देशेषु मिथिला श्रेष्ठा गंगादि भूषिता भुवि:। जनेषु मैथिल: […]

पवित्र सावन मास मे महादेव केँ समर्पित एक भजन, बाबा बाणेश्वर नाथ महादेव केर दर्शन सहित

पवित्र सावन मास मे महादेव केँ समर्पित एक भजन, बाबा बाणेश्वर नाथ महादेव केर दर्शन सहित

सावन मास मे महादेव केँ समर्पित एक भजनः दर्शन बाबा बाणेश्वरनाथ महादेव, देवनाधाम, सहरसा – प्रवीण नारायण चौधरी भजन दर्शन करू बाबा भोला के, बाबा भोला के बाबा भोग लगौने भंग गोला के, भंग गोला के…. देखू जे भक्तन के लाइन लगल यऽ बम-बम-बम सब बम-बम जपइ यऽ बाबा के नगरी मे सबटा जुटइ यऽ […]

अति सम्माननीय अटल बिहारी वाजपेयी केर अन्तिम क्षण मे विशेष प्रार्थना

अति सम्माननीय अटल बिहारी वाजपेयी केर अन्तिम क्षण मे विशेष प्रार्थना

अटलजी लेल प्रार्थना   – प्रवीण नारायण चौधरी अटल अहाँक अटलता सऽ बनल भारतक नव ओ रूप, एक बेर फेरो बनितौं जँ एहि पैघ प्रजातंत्रक अहीं भूप!   पहिल बेर जखन तेरहे दिनक राज आयल छल अपनेक हाथ, मुश्किल में अपने केँ घेरलक नहि भेटल छल सभक साथ!   मुदा ताहि अपमान केँ स्मृति मे […]

साक्षात् जानकीदूत हनुमानजीक समान छथि मैथिलीदूत विनोद बाबू

साक्षात् जानकीदूत हनुमानजीक समान छथि मैथिलीदूत विनोद बाबू

संस्मरण – प्रवीण नारायण चौधरी मैथिलीक दूत विनोद बाबू प्रस्तुत तस्वीर मे एक सँ एक मैथिलीक सपुत लोकनि देखा रहला अछि। सदिखन अपन मातृभाषा आ मातृसंस्कृति लेल जमीन आ आसमान एक कयनिहार कय गोटा शख्सियत केँ अपना सब एहि फोटो मे देखि रहल छी। अपन-अपन क्षेत्र मे सब कियो नीक योगदान दय रहला अछि। साक्षात् […]

गोनू झा चोर केँ कोना पकड़बेलनि

गोनू झा चोर केँ कोना पकड़बेलनि

खिस्सा गोनू झा केर साभार: चंदन झा द्वारा फेसबुक पर पोस्ट मार्फ़त -:गोनू झा के खिस्सा :- चोर कें छकेलैन/पकड़बेलैन गोनू झा गोनू झा रहथि सतर्क लोक । यद्यपि ओ कोनो धनवान लोक नहि रहथि तथापि गौंआ आ अनगौंआ कें लगैक जे हो ने हो हुनका लग कोनो गाड़ल संपत्ति जरूर छनि । आ तें […]

सावन मास मे बाबा बैद्यनाथ केँ समर्पित एक मैथिली भजन

सावन मास मे बाबा बैद्यनाथ केँ समर्पित एक मैथिली भजन

भजन – प्रवीण नारायण चौधरी बाबा हो! पूरा कर दू सपना हमार भोग के पाछू पागल हम्में – आऽऽऽ आऽऽऽ आऽऽऽ भोग के पाछू पागल हम्में भटकि रहलि संसार बाबा हो! पूर कर दू सपना हमार!   ई भवसागर थाह कतहु नहि हेलि हेलि हम्मे थाकल – २ हाथ गोर सब थाकि चुकल है हेलबो […]

बीमारी सँ छुटकारा लेल ई साधन सर्वाधिक लाभदायक होएछ

बीमारी सँ छुटकारा लेल ई साधन सर्वाधिक लाभदायक होएछ

लेख – प्रवीण नारायण चौधरी बीमारी सँ मुक्ति केर अचुक मार्ग प्रभुजीक विशेष कृपा अछि जे आइ भोरे-भोर तुलसीदासजी रचित रामचरितमानसक एक अत्यन्त गूढतम् मुदा देखय मे एकदम सहज ज्ञान सँ भरल ‘दोहा’ पढबाक लेल भेटलः   बिनु सत्संग न हरि कृपा तेहि बिनु मोह न भाग। मोह गएँ बिनु राम पद होइ न दृढ […]

मैथिली पोथी ‘किछु फुरा गेल हमरा’ पर साहित्यकार-समीक्षक दिलीप कुमार झा केँ कि फुरेलनि

मैथिली पोथी ‘किछु फुरा गेल हमरा’ पर साहित्यकार-समीक्षक दिलीप कुमार झा केँ कि फुरेलनि

पोथी समीक्षा पोथीक नामः किछु फुरा गेल हमरा, रचनाकारः किसन कारीगर, समीक्षकः दिलीप कुमार झा दिल्ली सँ श्री किशन कारीगर जीक कविता संग्रह आयल अछि। संग्रहक नाम अछि ‘किछु फूरा गेल हमरा’ । पोथीमे कुल बयालिस गोट कविता संग्रहित अछि। पाँच बर्ख पूर्ब प्रकाशित एहि पोथीक कविता सभ कविक प्रारंभिक अवस्थाक कविता सभ अछि से […]

कलियुग वर्णन – तुलसीदासकृत रामचरितमानस सँ प्रेरित

कलियुग वर्णन – तुलसीदासकृत रामचरितमानस सँ प्रेरित

कलियुग-वर्णन   (तुलसीदासकृत् रामचरितमानस सँ प्रेरित)   दोहाः युगक नाम एक कलियुग, सब अधर्मे बेहाल। धन मद मत्त लोक सब, उग्रबुद्धि वाचाल॥ पाप खेलक सब धर्म केँ, लुप्त भेल सदग्रंथ। दंभीक मति आ कल्पना, प्रगट भेल बहुपंथ॥ भेल लोक सब मोहक वश, लोभ खेलक शुभ कर्म। सुनु भगत आ ज्ञानक खान, कहब गोटेक कलिधर्म॥   […]