Home » Archives by category » Article » Literature (Page 2)

नव पीढीक समस्या: सन्दर्भ मैथिली-मिथिला सँ पहिचानक विशिष्टता

नव पीढीक समस्या: सन्दर्भ मैथिली-मिथिला सँ पहिचानक विशिष्टता

नव पीढीक समस्या: सन्दर्भ मैथिली-मिथिला सँ पहिचानक विशिष्टता – प्रवीण नारायण चौधरी   जेकर राज्य छैक ओकरे पहिचान छैक, मिथिला राज्य आइ भूगोल मे नामित नहि, ताहि सँ पहिचान सेहो नामित नहि भेटब मैथिलीभाषी जनमानस केँ अपन मौलिक पहचान ‘मैथिल’ सँ दूर कय देने अछि। ताहि पर सँ राजनीतिक आवोहवा, गलत व्याख्या बेसी प्रचलित तथा […]

अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन जनकपुर – प्रवीण केर कार्यपत्र

अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन जनकपुर – प्रवीण केर कार्यपत्र

प्रदेश १ मे मैथिलीक गतिविधि अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन जनकपुर मे प्रस्तुत कार्यपत्र  – प्रवीण नारायण चौधरी, भाषा-संस्कृति अभियन्ता एवं संपादक, मैथिली जिन्दाबाद आनलाइन न्युज पोर्टल, विराटनगर, नेपाल।   विराटनगर, दुहबी, ईटहरी, इनरुवा, हरिनगरा, रंगेली – यैह किछु स्थान पर यदा-कदा मैथिली भाषा मे अधिकतर सांस्कृतिक कार्यक्रम सार्वजनिक रूप सँ आयोजन कयल जेबाक समाचार भेटैत अछि। विराटनगर […]

आउ किछु सुनबैत छी – किसलय कृष्ण

आउ किछु सुनबैत छी – किसलय कृष्ण

गीत – किसलय कृष्ण मांगी नइ हम जे सुरूज की चान द’ दिअ । हेरायल सन हमर मैथिल पहिचान द’ दिअ । चाही नइ ग्लोबल वा त्लोबल जेना कोनो गाम, कने अंगना- दलान संग मचान द’ दिअ । हेरायल सन हमर मैथिल पहिचान द’ दिअ । सुआद ओ कहाँ छै एहि पेटीस आ पिज्जामे, बरु […]

कौआ आ मोर केर ओ कथा जेकर नैतिक शिक्षाक प्रासंगिकता आइ किछु बेसी बढल देखाइत अछि

कौआ आ मोर केर ओ कथा जेकर नैतिक शिक्षाक प्रासंगिकता आइ किछु बेसी बढल देखाइत अछि

नैतिक कथा (संकलन व अनुवाद: प्रवीण नारायण चौधरी) कौआ आ मोर एक दिन एक गोट कौआ जंगल मे मोर केर बहुतेरास पाँखि एम्हर-ओम्हर खसल देखि प्रसन्न होइत कहय लागल –   “वाह भगवान्!! बड पैघ कृपा केलहुँ अपने जे हमर मोनक बात सुनि लेलहुँ। हम एखनहिं ई पाँखि पहिरिकय खूब सुन्दर मोर बनि जाइत छी।” […]

मैथिली बालकथा – बुधियार डाक्टर

मैथिली बालकथा – बुधियार डाक्टर

मैथिली बालकथा – बुधियार डाक्टर – सुजीत कुमार झा, जनकपुर ‘दाई एकरा खिस्सा नहि कहिए ?’ ‘किए रे !’ ‘ई हमरा मारलक अए ।’ ‘हँ गै मुन्नी, भैयाके मारलिहए ? ’ ‘भैया हमर फित्ता तानि देलन्हि अछि ।’ ‘अएँ रे टिंकु तो बहिनके फित्ता तानि देलिहए, आ उल्टे कहैत छए मारलकौए ?’ दाई कनि तमसाईत […]

कुर्सों दुर्गास्थान केर वर्णन आ अद्भुत श्रृंगारक वर्णन करैत एक भजन – नवरात्र विशेष समर्पण

कुर्सों दुर्गास्थान केर वर्णन आ अद्भुत श्रृंगारक वर्णन करैत एक भजन – नवरात्र विशेष समर्पण

नवरात्र विशेष – कुरसों दुर्गास्थानक वर्णन पर आधारित एक भजन – प्रवीण नारायण चौधरी मैया के अद्भुत श्रृंगार, देखल हम कुरसों में लागल छल भक्तक अम्बार, हमर गाम कुरसों में   ब्रह्म-मुहुर्तक भोरू पहर में पूजा करय सब भक्ति लहर में ब्रह्म-मुहुर्तक भोरू पहर में पूजा करय सब भक्ति लहर में अम्बा गोहारय अपार, अम्बा […]

मैथिली कथा – ॐ अपवित्रःपवित्रोवा

मैथिली कथा – ॐ अपवित्रःपवित्रोवा

कथा – ऊँ अपित्र:पवित्रोवा – विजय कुमार इस्सर ~ए सूनू ने ! विवेक वौआक उपनयन त’ आइ भैये गेलैनि । परसूक रिटर्निंग टीकट अछि । फर फरीक सब जुटले छथि । बहुत दिनक बाद गाम एलौं हेँ तहन किएक ने काल्हि भगवानक पूजा करा ली । आब हाले मे कोनों जग परोजन त’ नैँ देखाइए […]

गरीबी कोना घटय – समय-सान्दर्भिक कविता

गरीबी कोना घटय – समय-सान्दर्भिक कविता

कविताः गरीबी उन्मूलन – प्रवीण नारायण चौधरी, विराटनगर, नेपाल गरीबी कोनाक घटय मंच जीवनक सजल कवि लिखै अछि गजल कल्पनाकेर संसारमे माथ हरदम सोचय काज बस कोना हुअय गरीबीकेर नाम पर कवित आर कथा लिखी सुनि जेकर किछु मर्म लोक जे कानय-बजय मंत्रमुग्ध भऽ सब कियो चारू दिशि ताली पीटय भावनामे बहियो कियो कानि-कानि छाती […]

कहलौं न – हम दोसर लोक छी….!! हँ-हँ, बुझि गेलौं अहाँ केहेन लोक छी!! – संतोषीक जोरदार हास्य कविता

कहलौं न – हम दोसर लोक छी….!! हँ-हँ, बुझि गेलौं अहाँ केहेन लोक छी!! – संतोषीक जोरदार हास्य कविता

कविताः दहेज पर आधारित – कवि संतोषी, धरान, नेपाल कहलौं न – हम दोसर लोक छी…..!! कहलौं न- हम दोसर लोक छी….!! एलौंह त बैसू कल कुशल सँ, हेबैह करतैह सब रंग बात, कन्यागत बैनि आयल छी अपनहिं, स्वागत में हम बरक बाप, लियह न शरबत, अपनहिं गाछक नेबो ऐहि में गारल अई, ओ कोल्ड […]

लोकवार्ता आ जीवनमूल्य – एक अत्यन्त पठनीय आ मननीय लेख

लोकवार्ता आ जीवनमूल्य – एक अत्यन्त पठनीय आ मननीय लेख

लोकवार्ता आ जीवनमूल्य – डा. श्रीराजेन्द्ररंजनजी चतुर्वेदी, डी. लिट.  (अनुवादः प्रवीण नारायण चौधरी – जीवन मे अनिवार्य रूप सँ पढल जाय योग्य लेख)   भौगोलिक तथा सामाजिक परिवेश केर संग समायोजनक उद्देश्य सँ समाजक द्वारा आचरण केर किछु आदर्श या मानदण्ड निश्चित आ प्रतिष्ठित कयल जाइछ। हर्सकोवित्स केर शब्द मे सामाजिक मान्य-माप केर मनोवैज्ञानिक आधार […]