Home » Archives by category » Article » Literature (Page 2)

भारती झा केर दुइ गोट रचना – दहेज प्रथा आ कतय गेल मिथिलाक दलान

भारती झा केर दुइ गोट रचना – दहेज प्रथा आ कतय गेल मिथिलाक दलान

कविता – भारती झा दहेज प्रथा बिका गेल माय बापक घर तेँ बेटी के घर बसल, केहन अभागल प्रथा अछि ई, दहेजप्रथा जे कतेको घर केँ निगलि चुकल।   यदि बेटी किछु नै कय पायल तेँ बेटा घर बचा लितय जखन ओकर बोली लगैत रहै तखन अपन शिक्षा के महत्व देखा दितय।   ख़ालिये हाथ […]

सावनक संस्मरण – दहेज मुक्त मिथिला पर आयोजित लेखनीक धार केर चयनित कथा “हमर मधुश्रावणी”

सावनक संस्मरण – दहेज मुक्त मिथिला पर आयोजित लेखनीक धार केर चयनित कथा “हमर मधुश्रावणी”

सावनक संस्मरण – दहेज मुक्त मिथिला पर आयोजित लेखनीक धार प्रतियोगिता लेल तेसर चयनित कथा हमर मधुश्रावणी – प्रियम्वदा कुमारी बात आय से पाँच बरख पहिने, 2015 के अछि। बियाहक बाद हम्मर पहिल सावन छल। मधुश्रावणी पूजय लेल हम अप्पन नैहर आयल रही। घर मे मामी, मौसी, दीदी सभक उपस्थिति सँ खूब चहल-पहल छल। हमरा […]

सावनक संस्मरण – लेखनीक धार प्रतियोगिताक दोसर चयनित लेख “पहिल सासुर यात्रा’

सावनक संस्मरण – लेखनीक धार प्रतियोगिताक दोसर चयनित लेख “पहिल सासुर यात्रा’

सावनक संस्मरण – लेखनीक धार प्रतियोगिता, दहेज मुक्त मिथिला लेल चयनित संस्मरण आलेख पहिल सासूर यात्रा – किरण लता झा विवाह के बाद पहिल सावन छल। हम सासुर आयल रही अपना जाऊत के मुड़न में। हमरा सासुर में सावन के बुद्ध दिन केँ मात्र भगवती केर वार्षिक पूजा करबाक दिन आर ताहि अवसर टा मुड़न […]

सावनक संस्मरण – लेखनीक धार प्रतियोगिता मे प्रथम चयनित लेख ‘आत्मसंतुष्टि’

सावनक संस्मरण – लेखनीक धार प्रतियोगिता मे प्रथम चयनित लेख ‘आत्मसंतुष्टि’

#संस्मरण #दहेज_मुक्त_मिथिला #सावनक_संस्मरण – अंजू झा   अपन संस्मरण साझा करै स पहिने हम अहाँ सबसँ माफी चाहब जे एहि पोस्ट सँ हम किनको धार्मिक भावना केँ चोट नै पहुँचाबय चाहैत छी। ई हमर अपन निजी अनुभव आ विचार थिक तेँ पुनः क्षमा माँगैत हम अपन संस्मरण साझा कय रहल छी।   आत्मसंतुष्टि   बात […]

कोना के सुधरत मिथिलाक दिन (अभियान गीत)

कोना के सुधरत मिथिलाक दिन (अभियान गीत)

कोना सुधरतै मिथिलाक दिन   (तुकबन्दी – प्रवीण नारायण चौधरी, १८.०८.२०२०, विराटनगर, नेपाल)   बड़-बड़ गप बादहु मे देबय, यौ सरकार!   पहिने अपनहि टा सुधरू, से अछि आवश्यक दरकार!!   पूरे मिथिला दहेज मुक्त बनत से विश्वस्त रहू!   परिवर्तन अपनहि टा सँ से पहिने आश्वस्त करू!!   जा धरि स्वाबलम्बी नहि बनय आब […]

देवघरक यात्रा

देवघरक यात्रा

संस्मरण – भावना मिश्र आस्थाक पवित्र नगरी बाबा धामक ( देवघर) कऽ पैदल यात्रा #आस्था आस्था मनुख के क्षमता क कतेक गुना बढ़ा देएत अछि, ई हम बड़ निक से अनुभव करलो। 2018 मे बाबाधाम पैदल गेल रही। सुल्तानगंजग( भागलपुर, बिहार ) से गंगाजल भरे के बाद, 5 km तक बड़ जोश मे हमसब चललो […]

मिथिला, मैथिली आ मैथिल केर पौराणिक परिचय

मिथिला, मैथिली आ मैथिल केर पौराणिक परिचय

लेख – आध्यात्मिक अध्ययनक आधार पर मिथिलाक सम्पूर्ण परिचय – प्रवीण नारायण चौधरी अहो मित्र,   कि अहाँ ओहि मिथिला सँ छी जतय स्वयं जगदम्बा जानकी अवतार लेलनि?   पराम्बा जानकी मिथिला धरा सँ अवतार लेलनि, हमरो जन्म एहि धराधाम मे भेल, तैँ ‘जानकी’, ‘किशोरी’, ‘जनकलली’ हमर बहिन छथि!   मिथिलाक रीत-रेबाज आ लोकरीति-संस्कृति सब […]

१७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन पर प्रकाशित स्मारिका “अधिकार” – अपन प्रति जरूर मंगाउ

१७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन पर प्रकाशित स्मारिका “अधिकार” – अपन प्रति जरूर मंगाउ

समीक्षा – प्रवीण नारायण चौधरी अधिकार सतरहम अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन (स्मारिका)   गत वर्ष २०१९ केर २२ आ २३ दिसम्बर यानि विक्रम संवत साल २०७६ केर पुस मास केर ६ आ ७ गते नेपालक ऐतिहासिक व औद्योगिक नगरी विराटनगर मे आयोजित भेल छल १७म अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन। एहि सम्मेलनक आयोजन ‘मैथिली एसोसिएशन नेपाल, विराटनगर’ द्वारा […]

गर्व

गर्व

विचार – ईशनाथ झा मिथिलामे बास कयनिहार समस्त मैथिल मध्य दू टा नैसर्गिक गुण हमरा अत्यंत रोमांचकारी लगैत अछि। पहिल तँ ककरो मृत्यु पर श्रद्धांजलि देबाक हड़बड़ी आ दोसर बात-बातमे गर्व करबाक सुदीर्घ परंपराक पालन। ई गर्व करबाक पुनीत कार्य सभकें एकताक सूत्रमे बन्हबाक अभूतपूर्व काज करैत अछि। एक आदमी कोनो काज केलक वा किछु […]

प्रा. डा. केष्कर ठाकुर केर अनुदित पोथी आरण्यक केर परिचय

प्रा. डा. केष्कर ठाकुर केर अनुदित पोथी आरण्यक केर परिचय

साहित्यक नव कृतिक परिचय – डा. पंकज कुमार एवं डा. निक्की प्रियदर्शिनी पोथीक नाम- आरण्यक मूल लेखक – श्री विभूतिभूषण वंद्योपाध्याय अनुवादक – प्रो. (डॉ.) केष्कर ठाकुर प्रकाशन वर्ष – २०२०   मैथिली साहित्यमे उपन्यासक परम्परापर विचार करब त’ स्पष्ट होएत जे मैथिलीक उपन्यास साहित्यपर बंगलाक प्रभाव पड़ल अछि। मैथिलीमे अनूदित उपन्यासक परम्परा समृद्धशाली रहल […]