Home » Archives by category » Article » Literature (Page 2)

सुशीला जेहेन सुशील कन्याक संग एहेन दुर्व्यवहार कियैक

सुशीला जेहेन सुशील कन्याक संग एहेन दुर्व्यवहार कियैक

कथा – सविता झा आइ जे कथा लिखल जा रहल अछि ओ वास्तविक घटना पर आधारित अछि। कलुवाही केर ढेंगा में सुशीला नामक लड़की रहैत छल्थिन्ह। जेहेने नाम छलन्हि सुशीला तेहने ओ सुशील स्वभाव केर छलथि। ओ मधुबनी सँ पढल-लिखल छलथि। पढ़य में ओ मेधावी छात्रा छलथि। देखय में सेहो बड़ सुन्दर रहथि। मिला-जुला कय […]

दुर्गा पूजाक ओ घड़ी – मर्दक बेटा घड़ी जे बजैय से बजिते रहत

दुर्गा पूजाक ओ घड़ी – मर्दक बेटा घड़ी जे बजैय से बजिते रहत

संस्मरण – रूबी झा वाणी दीदी के संस्मरण पढिकय हमरो अपन बालपन के दुर्गा पूजा मोन पड गेल।आ बहुत रास दृश्य आँखिक सामने आबि गेल। ओहि मे सँ किछु अपन पाठक लोकनि संग साझा कय रहल छी। हमरा गाँव मे तँ दुर्गा पूजा नहि होइत छलय, लेकिन अगल-बगल केर गाम मे होइत छलैक। बगले मे […]

भगवती केँ साँझ आइयो देखबैत छियनि मुदा ओ पहिलुका आनन्द कहाँ

भगवती केँ साँझ आइयो देखबैत छियनि मुदा ओ पहिलुका आनन्द कहाँ

संस्मरण – सविता झा आइ दुर्गापूजा देखय जा रहल छलहुँ त मेला देखकय अपन बाबूजीक याद आबि गेल। बात ओहि समयक अछि जखन हम बड़ छोट रही। साँझ में बाबूजी आबैथ त हम सब तैयार भ क बैसल रहैत छलहुँ जे मेला घुमअ जायब। ओही ठाम अन्तिम चारि दिन धूमधाम स पूजा होइत छलैक। दुर्गापूजा […]

मिथिलाक भोज आ बारीकक महत्व

मिथिलाक भोज आ बारीकक महत्व

लेख – वाणी भारद्वाज भोज मे बारीकक महत्व समाजक बदलैत स्वरूप मे सबकिछु बदलैत जा रहल अछि. ताहि क्रम मे भोज-भातक आ बारीक मे सेहो बदलाव अवश्यमभावी छैक. हमर नेनपन गाम मे किछु समय बीतल अछि. कतेको भोज गाम-घर मे खेने छी. गाम सब मे भोजो कतेको तरहक होइत अछि. जेना, बरियतिया भोज, मुरनक भोज, […]

हे दैब – किरण प्रभाक मैथिली लघुकथा

हे दैब – किरण प्रभाक मैथिली लघुकथा

लघुकथा – किरण प्रभा ।।हे दैब।। साँझक समय छल । फरीदा मौसी क हाथ म तरकारी बला छिट्टा । मोन उदास, बड़ उदास छलैन । ओना त हमरा जते याद अहि हुनका उदासे देखलों, मुदा आइ आँखि क कोण म पैनक किछ बूंदो देखलों त पाछु ध लेलौं । आंगन एली आ धम्म स बैस […]

बाढि आ काव्य – कमला नदीक ओ जबानीकाल

बाढि आ काव्य – कमला नदीक ओ जबानीकाल

साहित्य – सत्य नारायण झा हमरा गामक पूब कमलाक धार छैक । आब त एहि धारक कोनो अस्तित्व नहि छैक मुदा हम जखन नेना रही तखन एहि धारक बाढ़ि सँ लोक त्रस्त रहैत छल । ओ भीषण क्षण एखनो केखनो कय मोन परि जाइत अछि त देह सिहरि जाइत अछि । चारि मास लोक एहि […]

खिस्सा गंगेश बाबूक बेटी प्रति भेद करयवला… आ परिणाम कि भेटलनि… रूबी झाक टटका लघुकथा

खिस्सा गंगेश बाबूक बेटी प्रति भेद करयवला… आ परिणाम कि भेटलनि… रूबी झाक टटका लघुकथा

लघुकथा  – रूबी झा जेकरे लेल अरजलथि वैह बुढ़ापा मे कय देलकनि परित्याग – कथा गंगेश बाबूक विभेदपूर्ण व्यवहारक बेटा के पेट, आ बेटी के पीठ बहुत लोक बुझैत छथि, ताहि बहुत लोक में सँ एक गोटे के कहानी आइ अपन पाठक वर्गक सोझाँ राखि रहल छी। एकटा छलथि गंगेश बाबू, नाम गंगेश आ क्रिया […]

दुर्गा पूजाक हमर ओ दू बाल्यकालक दुर्लभ प्रकरण (संस्मरण)

दुर्गा पूजाक हमर ओ दू बाल्यकालक दुर्लभ प्रकरण (संस्मरण)

संस्मरण – स्नेहा प्रकाश ठाकुर दुर्गा पूजा के खिस्सा ओही दिन वाणी दीदी केर संस्मरण पढ़िकय हमरा सेहो अपन बहुत रास खिस्सा मोन पड़य लागल। एहि मे सँ किछु मैथिली जिन्दाबाद पर साझा कय रहल छी। हमरा ओतय दुर्गा पूजा बहुत पैघ उत्सव होइत अछि। दुनू सांझ पूजा, आरती, पंचमी, अष्टमी और नवमी दिन बलिप्रदान, […]

लेख-विचारः मैथिली-मिथिलाक आयोजनक सन्दर्भ एकटा विशिष्ट रहस्योद्घाटन

लेख-विचारः मैथिली-मिथिलाक आयोजनक सन्दर्भ एकटा विशिष्ट रहस्योद्घाटन

मैथिली-मिथिलाक लिटमस टेस्ट   ओ हमर भाषा पर आरोप लगबैत छल जे तोरा सब ई भाषा केँ हड़ैप लेलहक, सबटा मंच, पोथी प्रकाशन, सांस्कृतिक कार्यक्रम, गाम, समाज, सब दिश खाली तोरे जातिक लोकक नाम रहैत छह… आर-आर कतेको आरोप लगबय मे ओ सब दिन आगाँ रहल। ओ स्वयं एक बुझनिहार आ पढल-लिखल लोक रहय, आर […]

वीरगंज मे हालहि घटल घटना – मुस्कान नाम्ना बचियाक ऊपर एसिड अटैक केँ समर्पित एक विशेष रचना

वीरगंज मे हालहि घटल घटना – मुस्कान नाम्ना बचियाक ऊपर एसिड अटैक केँ समर्पित एक विशेष रचना

२६ सितम्बर २०१९. मैथिली जिन्दाबाद!!  हालहि वीरगंज मे घटित एक वीभत्स एसिड अटैक कांड केर पीड़िता ‘मुस्कान’ लेल समर्पित एकटा सुन्दर लेख – अंग्रेजी मेः लेखिका “भावना चौधरी, विराटनगर, नेपाल” – हाल वीआईटी, वेल्लोर अपन कालेज सँ – To the illiterate boys out there who think throwing acid on a girl’s face will destroy their […]