Home » Archives by category » Article » Literature (Page 2)

लियऽ थोड़ेक अश्रु उपहार – मैथिली कविता

लियऽ थोड़ेक अश्रु उपहार – मैथिली कविता

अश्रु उपहार   – गोपाल मोहन मिश्र   हमर अश्रुए हमर संपत्ति थिक लियs थोड़ेक अश्रु उपहार । यैह एकटा संगी हमर यैह समझनिहार । लियs थोड़ेक अश्रु उपहार ।   सुख में औ’ दुखदायी घड़ी में, संग रहल, आ समझौलक ई दुनियाँ में वैह देत धोखा विश्वास करब अहाँ जेकरा, केओ केकरो मोल बुझय […]

गुरु एवं शिष्य बीचक अन्तर्सम्बन्ध – गुरु सम्मानक मूल कारण ज्ञानक प्राप्ति

गुरु एवं शिष्य बीचक अन्तर्सम्बन्ध – गुरु सम्मानक मूल कारण ज्ञानक प्राप्ति

गुरु आ शिष्य – प्रवीण नारायण चौधरी   सच छैक जे जाहि कोनो गुरु सँ शिष्य केँ अन्तर्ज्ञान प्राप्त होइत अछि, आर ओ शिष्य ताहि ज्ञानक स्रोत गुरु केर महत्व केँ बेर-बेर अन्तर्मन सँ आत्मसात करैत अछि, से शिष्य सदैव अपन गुरु केर चरण मे शीश नवौने रहत। ई बात आइ विशेष रूप सँ मोन […]

कोन बेर मे के की कयलक, मोने अछिः मैथिली कवि शिरोमणि उदय चन्द्र झा ‘विनोद’ केर टटका कविता

कोन बेर मे के की कयलक, मोने अछिः मैथिली कवि शिरोमणि उदय चन्द्र झा ‘विनोद’ केर टटका कविता

कविता – उदय चन्द्र झा ‘विनोद’ मोने अछि ःःःःःः कोन बेर मे के की कयलक, मोने अछि के कतबा अपना घर धयलक ,मोने अछि के ककरा कतबा होलियौलक, मोने अछि के कतबा अडवाल बढौलक , मोने अछि ठाम ठाम गुंडा के सेना, मोने अछि कते निरर्थक बहल पसेना, मोने अछि गर घीचि जे लगलै नारा, […]

बच्चा केँ शिक्षा मातृभाषा मे कियैक देबाक चाही – ब्रिटीश काउन्सिल द्वारा प्रकाशित शोध आलेख

बच्चा केँ शिक्षा मातृभाषा मे कियैक देबाक चाही – ब्रिटीश काउन्सिल द्वारा प्रकाशित शोध आलेख

कियैक स्कूल केँ घरेलू भाषा मे बच्चा शिक्षार्थी केँ पढ़ेबाक चाही  – प्रोफेसर एंजेलिना कीओको द्वारा (अनुवाद – प्रवीण नारायण चौधरी) जाहि देश मे अंग्रेजी पहिल भाषा नहि अछि, ओहि ठामक बहुतो माता-पिता व समुदाय केर मानब अछि जे हुनका लोकनिक बच्चा ‘सीधे अंग्रेजी केर लेल’ जाय केँ आर घर केर भाषा केँ दरकिनार कय […]

मिथिला मे खराब पक्ष कि-कि अछि? – सवालक उत्तर मे एक कवित

मिथिला मे खराब पक्ष कि-कि अछि? – सवालक उत्तर मे एक कवित

कविता – प्रवीण नारायण चौधरी मिथिलाक हाल बदहाल  जतय लोक केँ अपन भाषा, भेष आ भूषण सँ स्वयं लज्जा बोध होइत अछि जतय दूरक ढोल सोहाओन आ बारीक पटुआ तीत होइत अछि जतय सब जाति आ समुदाय में अंतर्विरोध आ अन्तर्विभाजन चरम पर अछि जतय जनकक समाजवाद आ सामाजिक न्याय कम बाहरी शासक केर फूट […]

रमण केर विवाह  (मैथिली कथा)

रमण केर विवाह (मैथिली कथा)

मैथिली कथा – रमण केर विवाह – प्रवीण नारायण चौधरी भागवत मंडल केर नाम गामक एक सज्जन आ सम्भ्रान्त व्यक्तिक रूप मे लेल जाइत छलन्हि। २ गोट बेटाक विवाह सेहो अपना सँ साधारण परिवारक बेटी संग कएने छलाह। दुनू बेर मे हुनका द्वारा समधियाना मे पुतोहु नहि बेटी रूप मे पुतोहु लय जेबाक बात कहिकय […]

टिटहीक किछु खासियत आर कथित मैथिल विद्वानक स्थिति पर एक लेख

टिटहीक किछु खासियत आर कथित मैथिल विद्वानक स्थिति पर एक लेख

२ मई २०१९. मैथिली जिन्दाबाद!! सम-सामयिक स्थिति पर आधारित एक लेख “टिटही आ मैथिल विद्वान्”   राति मे एकाएक टिटही चिड़िया मोन पड़ि गेल छल। काका बड नीक सँ बुझबथिन लोक सब केँ जाहि मे अक्सरहाँ ओ ‘टिटही केर टांग उठाकय राति मे सुतबाक’ मुहावरा खूब प्रयोग कयल करथिन। बस, वैह तरहक परिस्थिति आ ओ […]

अन्तर्राष्ट्रीय परिधि मे मैथिली साहित्यक ‘कथा-पिहानी’ – मैथिल महिलाक कथाकहिनी पर अमेरिका मे चर्चा

अन्तर्राष्ट्रीय परिधि मे मैथिली साहित्यक ‘कथा-पिहानी’ – मैथिल महिलाक कथाकहिनी पर अमेरिका मे चर्चा

साभारः इलिनोइ विश्वविद्यालय एवं अमेरिकन  अन्तर्राष्ट्रीय परिधि मे मैथिली-मिथिला   अमेरिकाक इलिनोइ (Illinois) राज्य केर The University of Illinois Press द्वारा प्रकाशित पोथी समीक्षा मे मैथिल महिला लोकनि द्वारा कहल-सुनल जायवला खिस्सा-पिहानी (कथा-गाथा) पर एकटा सुन्दर शोध सहितक पुस्तक लिखल गेल अछि। अमेरिकन लोककथा समाज – American Folklore Society केर वेबसाइट पर सूचीकृत एहि पोथीक […]

मैथिली सृजन-श्रृंगारक यौवनावस्थाक परिचायक – महाग्रन्थ ‘महाभारत’ केर मैथिली पद्यमय अनुवाद

मैथिली सृजन-श्रृंगारक यौवनावस्थाक परिचायक – महाग्रन्थ ‘महाभारत’ केर मैथिली पद्यमय अनुवाद

साहित्य सृजन – मैथिली मे महाभारत महाभारत’क पद्यमय मैथिली अनुवाद श्री बुद्धिनाथ झा द्वारा #कैलाश_कुमार अनुवाद बहुत कठिन काज अछि। अनुवाद हेतु, ज्ञान, प्रत्युत्पन्नमति, धैर्य आ सतत अध्ययनशील रहब अनिवार्य गुण छैक। अनुवादो मे कवित्तक अनुवाद, आ कवितो मे महाभारत सन महाकाव्य जकर रचना पद्य शैली मे कएल गेल अछि के संस्कृत सँ मैथिली मे काव्यात्मक […]

मैथिल ब्राह्मणक अवस्था दिनानुदिन ह्रासोन्मुख – कर्मकांड लोपोन्मुखः मैथिली कथा ‘हमर मोनक दर्द’

मैथिल ब्राह्मणक अवस्था दिनानुदिन ह्रासोन्मुख – कर्मकांड लोपोन्मुखः मैथिली कथा ‘हमर मोनक दर्द’

हमर मोनक दर्द   (एक कथा…. सिर्फ मर्म पर मनन हेतु)   आइ ३ दिन भेल। ओ चलि गेलाह। ओ छलाह जे परिवारक रक्षा केलनि। गृहस्थी केर स्वामी आब एहि संसार मे नहि छथि। हम कखनहुँ अपन तस्वीर देखी – कखनहुँ हुनकर मृत शरीर देखी। हुनकर मृत शरीर राति भरि हमरा मन-मस्तिष्क केँ बेर-बेर जगबैत […]