Home » Archives by category » Article » Literature (Page 17)

तीन गीत – शिव कुमार झा टिल्लू

तीन गीत – शिव कुमार झा टिल्लू

1 विवाह गीत (धुन कजरी ) शिव कुमार झा टिल्लू ************************************ वरक रूप देखि सभ बमबम छमछम सारि नाचै छथि ना गितहारिन सभ मंद मुसकि क’ कोबर गाबै छथि ना ….. अपने सरहोजि आसन ओछौलनि कनिया वर केँ संग बैसौलनि गितहारिन लेल सासु विलक्षण विझणी बाँटै छथि ना …. नवका दुलहा गुणक सरोवरि धन सम्पति […]

सुन्न आँगन मे चान लऽ एलै – शिव कुमार टिल्लू

सुन्न आँगन मे चान लऽ एलै – शिव कुमार टिल्लू

सुन्न आँगनमे चान ल’ एलै ( गीत ) शिव कुमार झा टिल्लू **************************** जखने मारलि सजल नैन वाण ई देह निष्प्राण भ’ गेलै छोड़लि रभसल सुधा ठोर तान ओ फेरसँ परान ल’ एलै …. रीति प्रीतिक फिकिर कोन बाते संग श्वेत- रास आन रहू काते हमर जिनगी भेल प्रेयसीक मान बूड़ल सन मुस्कान ल’ एलै […]

मोरंग सँ मऊ धरि एक बनाउ – शिव कुमार झा टिल्लू

मोरंग सँ मऊ धरि एक बनाउ – शिव कुमार झा टिल्लू

मोरंग सँ मऊ धरि एक बनाउ शिव कुमार झा टिल्लू ************************* सुनू औ मीत प्रीतिक संगीत अपन संस्कृति केर अलख जगाउ भुवन संग मधुप सुमन सेहो भूप आरसी दीपक -इजोत बढाउ हमरे गज आ हमर नवीन हमरे राज आ हमहीं दीन !!! वियोगी -हासमी- अमर -प्रवीण एक मैथिल टा जाति बनाउ………… विहंगम वयना लाज बचौलनि […]

शिक्षाक माध्यम आ ओकर प्रभाव

शिक्षाक माध्यम आ ओकर प्रभाव

विश्व भरि मे प्रसिद्ध छैक जे कोनो भाषाक कथनीकेँ अपना मातृभाषामे अनुवाद करू आ सबसँ नीक जेकाँ ओहि कथनक सारकेँ बुझू। प्राचिन समयसँ लैत वर्तमान आधुनिक शिक्षा प्रणालीमे लोकभाषाक महत्त्व सर्वोपरि छैक। शिक्षककेँ प्रशिक्षणकालसँ लैत निर्देश-पत्रिका मार्फत सेहो यैह सिखायल जाइत छैक जे गूढ सँ गूढ ज्ञानकेँ छात्रक मातृभाषा (स्थानीय भाषा) मे सिखाउ, ताहिसँ समझ-शक्ति […]

छठि मैया आ डूबैत-उगैत सूरुजके पूजा

छठि मैया आ डूबैत-उगैत सूरुजके पूजा

छैठ परमेश्वरी के पूजा समस्त मिथिलावासी लेल अति प्राचिन पारंपरिक पूजन समारोह थीक। सामूहिक रूपमें बेसीतर महिला लेकिन गोटेक पुरुष व्रतधारी सभ संग अनेको प्रकारके पकवान व ऋतुफल संग संध्याकालीन सूर्यकेँ हाथ उठाय नमस्कार अर्पण करैत पुनः उषाकाल भोरहरबेसँ छठि परमेश्वरी (उगैत सूरज) केर दर्शन लेल व्रतधारी करजोड़ि ठरल जलमें ठाड़्ह इन्तजार करैत छथि। सूर्योदय […]