Home » Archives by category » Article » Literature

वैलेन्टाइन डे पर महाकवि विद्यापतिक महान रचना – राधा विरह – प्रेमक पराकाष्ठाक दर्शन

वैलेन्टाइन डे पर महाकवि विद्यापतिक महान रचना – राधा विरह – प्रेमक पराकाष्ठाक दर्शन

वैलेन्टाइन डे विशेष – मैथिली भाव क्रिश्चियन कल्चर केर महापर्व ‘वैलेन्टाइन डे’ केर असैर अपन हिन्दू सभ्यता पर पड़ैत देखि विद्यापतिक ई सुन्दर सन रचना कथित प्रेम दिवस पर राखि रहल छीः   कुञ्ज भवन सँ निकसल रे, रोकल गिरिधारी। एकहि नगर बसु माधव हे, जनि करू बटमारी॥   छोड़ू-छोड़ू कान्ह मोर आंचर रे, फाटत […]

मैथिल – पुराण वर्णित पहिचान

मैथिल – पुराण वर्णित पहिचान

लेख – प्रवीण नारायण चौधरी मैथिल (पौराणिक पहिचान) शुक्लां ब्रह्मविचारसारपरमामाद्यां जगद्व्यापिनीं वीणापुस्तकधारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्। हस्ते स्फटिकमालिकां विदधतीं पद्मासने संस्थितां वन्दे तां परमेश्वरीं भगवतीं बुद्धिप्रदां शारदाम्॥ मा सरस्वतीक चरणकमल मे बेर-बेर प्रणाम करैत एकटा छोट संस्मरण लिखय लेल चाहब। एहि संस्मरण यात्रा पर पाठक वर्ग केँ आनबाक एकमात्र उद्देश्य यैह अछि जे हमरा लोकनिक उद्गमविन्दु (मातृभूमि) मिथिला […]

सीतामढी – पुनौराधाम – एक पूर्ण तीर्थ जतय सँ कियो खाली हाथ नहि लौटैत अछि

सीतामढी – पुनौराधाम – एक पूर्ण तीर्थ जतय सँ कियो खाली हाथ नहि लौटैत अछि

संस्मरण – प्रवीण नारायण चौधरी सीतामढी एक पूर्ण तीर्थ – वरदान भेटब अवश्यम्भावी   आउ, जानकी जन्मभूमि पुनौराधाम मे एक पुष्प चढाबी!   एहि पवित्र स्थान पर अपने लोकनि कतेक गोटे गेल छी से हमरा नहि पता, लेकिन जीवन मे ३ बेर यात्रा आ २ बेर दर्शन लेल ठीक एहि मन्दिर प्रांगण, जानकी जी केर […]

प्रवीण डायरी – २०१२ – भाग ४

प्रवीण डायरी – २०१२ – भाग ४

पूर्व केर ३ भाग उपरान्त १ अक्टूबर २०१२ चलू चलै छी पिता मिलन लऽ! पंछी छी हम हुनकहि पोसा, नाम हमर छी मनु तोता। खन विचरी पसरी आ ससरी, पिपर छी अपन खोता॥ उपजा हेतु कर्म के हरवाह वसुधा पूरा निज जोता। भाग के बरखा पिता के हाथे द्वन्द्व फसल लगबी गोता॥ आत्मारूपी परमात्माक तोता […]

हे किसान धन्य छी अहाँ – दुनियाक भूख हरै छी

हे किसान धन्य छी अहाँ – दुनियाक भूख हरै छी

कविता – रामकुमार सिंह किसान सहि शीत, घाम आ मेघ प्रकृतिसँ कष्ट अनेक सहै छी । हे किसान छी धन्य अहाँ दुनिया केर भूख हरै छी । नित अन्हरोखे उठि बरद संग, ह’र कान्ह धएल मोन मे उमंग, नियति सँ चललहुँ करय जग, ल’ हाथ कोदारि खुरपीक सग, नहि चिन्ता विजय पराजय केर, जीवन पर्यन्त […]

प्रवीण डायरी – २०१२ – भाग ३

प्रवीण डायरी – २०१२ – भाग ३

२ जुलाई २०१२ एक समय छलैक जहिया सौराठ सभागाछी सऽ विवाह करब अपना आप में बहुत पैघ उपलब्धि होइत छलैक। जेना आइ हम सभ कोनो आइ-ए-एस रैंक के लोक केर प्रति सम्मान के दृष्टि सऽ श्रद्धा प्रकट करैत छी, तहिना कहियो सौराठ सभा सऽ विवाह कयनिहार लाखो में एक होइत छलाह। समय के धारामें परिवर्तन […]

प्रवीण डायरी २०१२ – भाग २

प्रवीण डायरी २०१२ – भाग २

१ अप्रैल २०१२ धन्यवाद मैथिली साहित्य परिषद्‌ राजविराज (सप्तरी) नेपाल! आजुक कार्यक्रम मिथिला-मैथिली लेल एक नव इतिहास सृजना केलक। राष्ट्रीय सम्मेलन २०६८ – एक प्रथम सम्मेलन जे समस्त संघ-संस्था के संग मिथिलाके धरती पर आयोजित कैल गेल आ कोनो राष्ट्र के प्रधानमंत्री – जेना नेपाल के प्रधानमंत्री सम्माननीय डा. बाबुराम भट्टराई जी अयलाह आ एहि […]

प्रवीण-डायरी २०१२

प्रवीण-डायरी २०१२

जनवरी १, २०१२ आदरणीय संपादक महोदय, विदेह – प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका, http://www.videha.co.in/new_page_11.htm श्रीमान्‌ गजेन्द्र ठाकुरजी, आइ २०१२ ई. के प्रथम दिन भोरे अपन दिनचर्या में फेशबुक पेज पर मिथिला कतेक आगू बढल एहि बात के मंथन करय के क्रम में अपनेक उपहार भेटल – आशीर्वाद भेटल – हृदय गद्‌गद्‌ भेल अछि। भितरका ब्रह्म […]

लघुकथाः कठोर मित्र मोहन

लघुकथाः कठोर मित्र मोहन

लघुकथा कठोर मित्र मोहन फाइनल परीक्षा समाप्त भेलाक तुरन्त बाद ऐगला कक्षाक छात्र सँ पोथी लय मोहन अपन समय उपयोग करैत आगू बढि गेल। जखन कि ओकर संगी सोहन अपन रिजल्ट केर प्रतीक्षा करय लागल। दुनू मित्र मे यैह अन्तर छलैक जे एकटा अपन माय द्वारा दोसरक घर मे सेविकाक काज करबाक पीड़ा बुझय आ […]

शान्ति एना भेटैत छैक – मैथिली लघुकथा

शान्ति एना भेटैत छैक – मैथिली लघुकथा

#लघुकथासखीबहिनपा शान्ति एना भेटैत छैक – Vandana Choudhary एकटा कहबी छैक न जे जेकर किओ नहि तेकर भगवान् होइत छथिन। यैह बात चरितार्थ भेलैक रोहनक जीवन मे। बड बच्चा रहय तखनहि बाप जानलेबा बीमारीक शिकार बनि गेल रहैक। माय कोना-कोना रोहन सहित ३ भाइ-बहिन केँ पोसलक, पढेलक-लिखेलक आ योग्य बनाकय मनुष्यलोक मे अपन भागीदारी खूब नीक […]

Page 1 of 17123Next ›Last »