Home » Archives by category » Article » Literature

दूधक कर्ज (मैथिली कथा)

दूधक कर्ज (मैथिली कथा)

मैथिली कथा – वन्दना चौधरी, विराटनगर दूध के कर्ज  आय हवेली घर में खूब भोज भात भ रहल छल। पूरा गाम में सब जाना निमंत्रण छल। खूब चहल पहल चारू दिस मचल छल, सभक चेहरा पर खुशी के झलक ओहिना देखाइत छल, और देखेबो केना नै करतैक, एतेक बरखक बाद गामक मुखिया चौधरी साहब के […]

दहेजक कार (मैथिली लघुकथा)

दहेजक कार (मैथिली लघुकथा)

साहित्यः लघुकथा – चन्दना दत्त दहेजक कार आय रानीक मोनमे बिहाड़ि उठि रहल छल । रातिखन सबके खुआ पियाक॔ ओ बरतन बासन मांजि रहल छलै ता खुसुर फुसुर सुनि ओ कनि कान देलक सासुक कोठरी दिस। “हे, काल्हि तक जं एकर बाप पाय नहि पठाओत त॔ कार कोना लेब?” “कि करबै मां, कतहु सं जोगार […]

सिन्दूर के भार – मर्मस्पर्शी मैथिली कथा

सिन्दूर के भार – मर्मस्पर्शी मैथिली कथा

साहित्य – मैथिली कथा – वन्दना चौधरी, विराटनगर चतुर्थी के भोर छल, सुजाता स्नान करै के लेल कोबरा स अनहरोखे बहरेली जे कियो देख नै लिये अपन पति आनंद के सुतले छोड़ि क। आनंद सेहो अनठा क आँखि मुनने पड़ल छेलाह बिछान पर। सुजाता जखन स्नान क’ क’ वापस एली ताबे तक आँगन में सेहो […]

पंचतंत्र केर खिस्सा – मंदबुद्धि सँ विनाश

पंचतंत्र केर खिस्सा – मंदबुद्धि सँ विनाश

मंदबुद्धि सँ विनाश (पंचतंत्र केर कथा, अनुवादः प्रियशील नारायण चौधरी, कक्षा-८, बीकेवीएम, विराटनगर)   एगो जुलाहा अपन करघा के बनबै के लेल लकड़ी लै ल’ जंगल गेल छेलै त ओकरा एगो मोटका गाछ देखेलै ओर अप्पन कुल्हाडी चलेनाइ सुरु कैर देलक। तेखने ओ वृछ पर सँ प्रेत के आवाज एलै – “ए मुर्ख, एकरा नै […]

पंचतंत्रक रोचक खिस्सा – धूर्त ठक आ ब्राह्मण

पंचतंत्रक रोचक खिस्सा – धूर्त ठक आ ब्राह्मण

धूर्त ठक आ ब्राह्मण (पंचतंत्रक खिस्सा, अनुवादः प्रियशील नारायण चौधरी)   एकटा नगर मे पूजा-पाठ करै वाला एगो पन्डित के हुनकर जजमान हुनका दान मे बकरी देने छेलखिन जेकरा लऽ कऽ ओ वापस आइब रहल छेलखिन। अबैतकाल रस्ता मे ओहि बकरी पर चाइर गो ठक लोकक नजरि पैड़ गेलै। एकदम नीक बकरी केँ देखिकय ठक […]

मूर्ख मित्र सँ विद्वान् शत्रु नीक

मूर्ख मित्र सँ विद्वान् शत्रु नीक

कथा पंचतंत्र सँ अनुवादः प्रियशील नारायण चौधरी (संपादनः प्रवीण नारायण चौधरी) मूर्ख मित्र खराब एकटा राजा बड़ा मोन सँ एकटा बानर पोसलथि। राजा आ बानर मे बहुत प्रेम छल। ओ बानर सेहो राजाक सच्चा सेवक रहय। जे राजा केँ बहुतो काज अपने-आप कय दैत छल। एक दिन दुपहर मे राजा सुतल छलखिन। राजा केँ गर्मी […]

मैथिली साहित्य-संस्कृतिक उन्नयन मे मधेपुरा जिलाक योगदान

मैथिली साहित्य-संस्कृतिक उन्नयन मे मधेपुरा जिलाक योगदान

आलेख – किसलय कृष्ण Kislay Krishna (समाचार संपादक, मैथिली जिन्दाबाद) #मैथिली_साहित्य_संस्कृतिक_उन्नयनमे_मधेपुरा_जिलाक_योगदान …..आउ आइ गप्प करैत छी मिथिलाक एकटा प्रमुख जिला मधेपुरा आ मैथिलीक संदर्भमे । पहिने भागलपुर आ फेर सहरसा जिलाक भाग रहल मधेपुरा जिला रूपमे ९ मई १९८०केँ अस्तित्वमे आयल । समाजवादी आन्दोलनक केन्द्र रहल ई जिला बी पी मण्डल, बी एन मण्डल, रासबिहारी […]

राक्षस जाति केर इतिहास आ रावणक विशेष परिचय

राक्षस जाति केर इतिहास आ रावणक विशेष परिचय

आलेख – अनुवादक प्रवीण नारायण चौधरी राक्षस केर उत्पत्ति केना भेल? एखन भारतीय दूरदर्शन सँ ३३ वर्ष उपरान्त रमानन्द सागर कृत् रामायण धारावाहिक केर दोबारा प्रदर्शन चलि रहल अछि। एक तरफ कोरोना वायरस केर प्रकोप सँ लगभग पूरे मानव संसार ठप्प पड़ि गेल अछि, दोसर दिश मानव जीवन मे आगाँ कोना जीवन प्रक्रिया निरन्तरता पाओत […]

प्रवीणक किछु रचना संग्रह

प्रवीणक किछु रचना संग्रह

१. ११ अप्रैल २०१३ः अनमोल जीवन जीवन धन बड मूल्यकेँ, देलनि अछि भगवान्! सच्चरित्र शिष्टा-सुन्दर, बनियौ बस इनसान!! हमर वृत्ति जे हमहि करी, देखबय लेल नहि धर्म! जीवन साफल बनल ओकर, कयलक जे निज कर्म!! देखू न आवरण देह के, पाबू निज मति दाम! अपन-अपन स्वभावसँ, बनबू मिथिला गाम!! रहल ई पावन देश सदा, अयला […]

लघुकथा – दामिनी केर जीवन

लघुकथा – दामिनी केर जीवन

– ई. राघव मिश्र हम राघव मिश्रा आइ लाकडाउन मे मातृभाषा मैथिली मे एगो प्रस्तुति राखि रहल छी। अहाँ सभक आशीर्वाद के आकांक्षी छी। दामिनी नामक एगो लड़की कंकड़बाग, पटना मे कोचिंग करैत छल। एकदिन किछु मनचला द्वारा ओकरा अपहृत कय लेल गेलैक। दामिनी के मुंह एतेक जोर स बान्हल गेल रहय कि ओ चिचिया […]

Page 1 of 31123Next ›Last »