Home » Archives by category » Article » Literature

धियापुताक खिस्सा – फूल काकाक शिक्षा

धियापुताक खिस्सा – फूल काकाक शिक्षा

फूल काकाक शिक्षा (बाल मनोविज्ञान अनुकूल नैतिक शिक्षाक दृष्टान्त) – प्रवीण नारायण चौधरी   सुमनजी काका ओतय सत्यनारायण भगवानक पूजाक हकार सौंसे टोलक लोक केँ पड़ल छलैक। बुझले बात अछि जे पूजाक हकार माने धिया-पुताक वास्ते सौंझका पढाई सँ छुट्टी। भैर टोलक बच्चा सब पूजाक तैयारी मे सहयोग करय लेल पहुँचि जाएत अछि। कियो पटिया […]

आउ किछु सुनबैत छीः किसलय

आउ किछु सुनबैत छीः किसलय

गजल – किसलय कृष्ण घोघ तरक ओ चौअन्नियाँ मुस्कान कतय । करिया बादर तरमे चमकैत चान कतय । वीरान बना गेल अन्हर ई मजरल गाछीकेँ, आंगनमे पसरल ओ गमकैत धान कतय । गामे सगर मतंग भेल डिस्को सँ डीजे धरि, साँझ पराती वा चैता केर सुर तान कतय । हेंजक हेंज पलायन सभ दिन नियति […]

समकालीन कविता आ डा. चन्द्रमणि झा केर रचना – मुक्त-उन्मुक्त सँ

समकालीन कविता आ डा. चन्द्रमणि झा केर रचना – मुक्त-उन्मुक्त सँ

आदिकवि   – डा. चन्द्रमणि   निर्दोषकेँ उत्पीड़ित केनिहार छीना-झपटी, लूटि-मारिकेँ आजीविकाक साधन बनौनिहार रत्नाकर! अहाँ कोना बनि गेलौं आदिकवि वाल्मीकि कोना बहल अहाँक हृदयसँ काव्य-रसाल कोना भेल ई कमाल? एतय तऽ लोकक कसाइ प्रवृत्ति बढले जा रहल अछि अहाँसँ एक डेग बढिकऽ निज कुटम्बहु पर करैछ अत्याचार राजनीतिक आड़िमे दुराचार-अनाचार समाजमे घृणाक पसाही लगा […]

जल प्रलय भेलै, एलै बिपत्तिक बेरिया… मिथिला नगरिया नाः प्रेम विदेह केर गीत बाढिक बेरक

जल प्रलय भेलै, एलै बिपत्तिक बेरिया… मिथिला नगरिया नाः प्रेम विदेह केर गीत बाढिक बेरक

गीतः प्रसंग दहों दिस आयल बाढि मिथिला मे – प्रेम विदेह, जनकपुरधाम गीत : जल प्रलय  भेलै प्रलय जलक, ऐलै विपति घड़िया,          मिथिला नगरिया ना……………                + गेला सूरूज बहुत दूर, भेलै आकासोमे भूर, बाबा इन्द्रो बनि गेला बड़का बैरिया। मिथिला…         […]

किसुन संग पूजा – भाग १

किसुन संग पूजा – भाग १

कथा – प्रवीण नारायण चौधरी “हँ, हम प्रेम करैत छी अहाँ सँ – लेकिन प्रेम केँ बचेबाक लेल अहाँ केँ संग लय केँ भागब हमरा उचित नहि लगैत अछि।” – किसुन अपन स्थिति एकदम स्पष्ट भाषा मे बुझबैत कहलकैक पूजा केँ। पूजा चौंकि गेल। एकदम अपेक्षाक बिपरीत ओकरा ई जबाब बुझेलैक। ओ फेरो टोकलकैक, “किसुन! […]

मिथिला मे सब मैथिल नेता (कविता)

मिथिला मे सब मैथिल नेता (कविता)

कविता – ललित कुमार झा, गुआहाटी मिथिला मे सब मैथिल नेता। ककरो क्यो नहि मोजर देता। परंपरा के ढ़ोल बजेता। संस्कार के पाठ पढ़ेता। संस्कृति पर नोर बहेता। छिट्टा भरि भरि बात बनेता। ग्यानी ध्यानी विश्व बिजेता। सीता जी के महिमा गेता। विद्यापति के मंच सजेता। भांग पीबि रसगुल्ले खेता। खेत बेच कय श्राद्ध करेता। […]

मैथिलीक आजुक टटका विशिष्ट रचना सबः कवित्रय विनोद, हरित ओ दिलीपक किछु रचना

मैथिलीक आजुक टटका विशिष्ट रचना सबः कवित्रय विनोद, हरित ओ दिलीपक किछु रचना

जुलाई २२, २०१७. मैथिली जिन्दाबाद!! सन्दर्भः मैथिली साहित्यक वर्तमान सोशल मीडिया मैथिली भाषा-साहित्य हेतु क्रान्ति अनबाक कार्य कय रहल अछि आर एहि मे शामिल छथि काल्हिक जन्मल बच्चा-कवि सँ युवाकवि एवं वयोवृद्ध कवि उदय चन्द्र झा विनोद धरि जे अपन सुन्दर-सुन्दर रचना सब फेसबुक केर माध्यम सँ हमरा अहाँक वास्ते पोस्ट करैत रहैत छथि। आइ […]

विद्यानन्द बेदर्दीः संभवतः सबसँ कम उम्र के मैथिली गजलकार

विद्यानन्द बेदर्दीः संभवतः सबसँ कम उम्र के मैथिली गजलकार

गजल : विद्यानन्द वेदर्दी, ललितपुर,काठमाण्डु,२०७४/०४/०६ मिथिला हमर महान देखु ई छातीमे, जीवैए बनि भगवान देखु ई छातीमे॥ शोणीत संग बहैत कलकल-छलछल, कोशी-कमला-बलान देखु ई छातीमे॥ बाजी त नितहुँ निकलए ठोरसँ मधु, मैथिली अमृत समान देखु ई छातीमे॥ श्रद्धा-स्नेह केर छीयैक परम पूजारी, उच्च कते स्वाभिमान देखु ई छातीमे॥ के हिन्नु के मुसलमान हम नै जानी, मैथिल […]

बेकम्मा दूल्हा – बूढ भ कय मरै दियौ (कविता)

बेकम्मा दूल्हा – बूढ भ कय मरै दियौ (कविता)

रचना – युवाकवि संतोष विद्याधर – सप्तरी – बथनाहा-८ बेकम्मा दुल्हा बेकम्मा दुल्हा सड़ै दियौक बुढ भऽ कय मरै दियौक बेटी घर के फूल अछि गदहाक गरदनि नहि पड़ै दियौक   मुर्खाहा दूल्हा बहुते भेटत शहर खोजू आ कि गाम घर शिक्षित दहेजक भूखल भेटत मन चढ़ल तकरो मचान पर   दहेजक भूखल कुकूर थिक […]

आइएएस वर आ दहेजक खिस्सा – सत्य घटना पर आधारित

आइएएस वर आ दहेजक खिस्सा – सत्य घटना पर आधारित

कथा – नीरज कुमार ‘नीरज’, दिल्ली एकटा छलाह डॉ० सहाब ! डॉ० हेबाक कारणेँ हुनका अर्थक कोनो कमी नहि ! एकटा छलाह लाल बाबा ! जेना कि सनातनी होइत आयल अछि, अपन अकर्मण्यता केँ बबाजीक ललका चोंगा मे नुकौने लाल बाबा अपन पारिवारिक कर्तव्य सँ प्राय: हाथ धोने छलथि ! लाल बाबी जेना-तेना हुनकर, अपन आ […]

Page 1 of 11123Next ›Last »