Home » Archives by category » Article (Page 3)

संसार केर सर्वोच्च शिखर माउंट एवरेस्ट आ दरभंगा महाराज

संसार केर सर्वोच्च शिखर माउंट एवरेस्ट आ दरभंगा महाराज

ऐतिहासिक महत्व केर जानकारी स्रोत: रवि जंग कार्की, काठमांडू, नेपाल संसार केर सर्वोच्च शिखर सागरमाथा जेकर विश्व परिवेश में माउन्ट एवरेस्ट नाम प्रसिद्ध छैक, जाहि पर सर्वप्रथम जे पर्वतारोही दल पहुँचल छल, ताहि दल केँ दरभंगा महाराजाधिराज सर कामेश्वर सिंह प्रायोजित कयने छलाह। नेपाल केर राणा शासक आ ब्रिटिश भारत काल केर अध्येता रवि जंग […]

समीना के जन्मदिन पर प्रवीण शुभकामना

समीना के जन्मदिन पर प्रवीण शुभकामना

समीना के जन्मदिन पर प्रवीण शुभकामना उच्च शिक्षित आ समस्त विवेक सँ परिपूर्ण समीना बहिनक आइ जन्मदिन छी, एहि अवसर पर एक जेठ भाइ केर आशीर्वाद संग अनेकानेक शुभकामना। अपन जीवन मे जाहि ऊर्जा आ सकारात्मक सोच संग हर कार्य केँ करैत आयल अछि ताहि सँ आर नीक जेकाँ ओ आगुओ अपन सारा कर्तव्य पालन […]

दहेज मुक्त मिथिलाः वैवाहिक समस्याक समाधान लेल विश्वसनीय मंच

दहेज मुक्त मिथिलाः वैवाहिक समस्याक समाधान लेल विश्वसनीय मंच

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी समस्या आ समाधान पराम्बा जानकी केर कृपा अद्भुत अछि, कियैक त अपने लोकनि मे एक-दोसरक प्रति निष्ठा आ विश्वास मे कहियो कतहु कमी नहि देखल। दु-चारि-दस उचक्का केर बात छोड़ि दी त मोटामोटी एहि समूह पर आपसी विश्वास सर्वोत्कृष्ट अछि। से जरुरियो अछि। आखिर विवाह सँ जुड़ल विमर्श आर आदर्शतम […]

शास्त्र-पुराण संग हम मानवक अन्योन्याश्रय सम्बन्ध – दर्शन आ विचार

शास्त्र-पुराण संग हम मानवक अन्योन्याश्रय सम्बन्ध – दर्शन आ विचार

दर्शन-विचार – प्रवीण नारायण चौधरी कि कहैत अछि अपन शास्त्र-पुराण   उमेर केर आजुक पौदान धरि अबैत ई बात कतेको बेर मस्तिष्क मे आयल अछि जे शास्त्र-पुराण केर वचन आखिर हमरा सब वास्ते एतेक महत्वपूर्ण कियैक मानल जाइछ। आब ई प्रश्न गुरुजन सँ पूछब त ओहो लोकनि कहता जे ओ सिद्ध कयल सत्य (प्रमेय, अकाट्य […]

कि थिक मलमास आ एहि मासक कि सब होइछ विशेषता – आचार्य धर्मेन्द्रनाथ मिश्र संग मन्थन

कि थिक मलमास आ एहि मासक कि सब होइछ विशेषता – आचार्य धर्मेन्द्रनाथ मिश्र संग मन्थन

आध्यात्मिक चर्चा – आचार्य धर्मेन्द्र नाथ मिश्र कियैक होयत अछि पुरूषोत्तम मास मलमास के पुरूषोत्तममास, अधिमास आ अधिकमास केर नाम सँ जानल जायत अछि। समान्यतया अधिकमास ३२ महीना १६ दिन ४ घड़ी केर अन्तर सँ आबैत अछि। धर्मग्रंथ में प्रत्येक २८ मासक पश्चात आ ३७ मास सँ पहिने अधिकमास होबाक बात कहल गेल अछि। अधिकमास […]

कोन नीकः प्रेम विवाह कि पारम्परिक विवाह

कोन नीकः प्रेम विवाह कि पारम्परिक विवाह

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी कोन नीकः प्रेम विवाह कि पारम्परिक विवाह ई हमर नितान्त व्यक्तिगत विचार छी। हमर एहि विचार सँ किनको निर्णय केँ हम परिवर्तित करय लेल नहि चाहि रहल छी, बल्कि यदि विचार मे स्पष्टता, यथार्थता आ सतर्कताक कोनो भान हुअय तऽ अपन विचार मे जरूर बदलाव आनू तेँ ई लेख लिखि […]

बिहार विधानसभा चुनाव २०२० सन्दर्भित मैथिल मतदाता लेल विचारनीय विषय-वस्तु

बिहार विधानसभा चुनाव २०२० सन्दर्भित मैथिल मतदाता लेल विचारनीय विषय-वस्तु

विचार – राज किशोर झा #बिहार_विधानसभा_चुनाव_2020 बिहारमे प्रस्तावित चुनाव अगिला पांच वर्षक भविष्य तय करत। राज्य एखनो बेसिक जरूरतकेँ पूरा करबामे जुझैत देखा रहला। जाहि राज्यमे एतेक मेधावी, कर्तव्यनिष्ठ आ मेहनती युवा वर्गक संख्या होइक ओहि राज्य के तेजीसँ विकास करबाक संभावना बेसी हेबाक चाही छल। हम सब वैश्विक विकासक एक अहम धूरी बनि चुकलौंहा […]

एक जरूरी आ पठनीय लेखः प्रमाणपत्र

एक जरूरी आ पठनीय लेखः प्रमाणपत्र

प्रमाणपत्र – प्रवीण नारायण चौधरी   जी, एहि लेख मे ओहि ‘प्रमाणपत्र’ अथवा ‘चरित्र प्रमाणपत्र’ आदि केर चर्चा हम नहि करय जा रहल छी जे विद्यालय सँ जारी कयल जाइछ, जाहि मे उल्लेख रहैत छैक जे विद्यालय अवधि मे फल्लाँक चरित्र आ व्यवहार ‘नीक’ देखल गेल। अंग्रेजी मे सेहो एकर प्रस्तुति कतेको लोक केँ स्मरण […]

मैथिलसर्जक कृष्णकान्त झा विरचित बेहतरीन ‘रघुपत्यष्टकं’

मैथिलसर्जक कृष्णकान्त झा विरचित बेहतरीन ‘रघुपत्यष्टकं’

१९ सितम्बर २०२० । मैथिली जिन्दाबाद!! रघुपत्यष्टकं   – श्री कृष्णकान्त झा रचित एक बेहतरीन आ भावयुक्त रचना   राजीवनयन त्रिभुवनभूषण। भवदुःखहरण परमात्म विभो॥ सीतावल्लभ रघुकुलनन्दन। नलिनायतलोचन राम प्रभो ॥1॥   रघुकुलनायक करधृतसायक। मंगलदायक भव पाहि विभो॥ अनुरूप स्वरूप विरूपारूप । अजस्र सहस्त्रस्वरूप प्रभो ॥2॥   शिवमानसहंस रघुवंशवतंश निषूदनकंस सुवंश विभो॥ उत्तम सर्वोत्तम पुरूषोत्तम। नरोत्तम […]

मिथिला समाज मे दहेज प्रथा कहियो नहि छल, कन्यादान संग गृहस्थी उपयोगी सामानक दान स्वेच्छा सँ

मिथिला समाज मे दहेज प्रथा कहियो नहि छल, कन्यादान संग गृहस्थी उपयोगी सामानक दान स्वेच्छा सँ

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी दान आ दहेज मे फरक अहाँक याद होयत, एक बेर भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी बड़ा स्पष्ट तौर पर अन्तर्वार्ता मे पूछल एक सवाल ‘भ्रष्टाचार कहिया धरि खत्म होयत?’ केर जवाब मे कहलखिन जे ई तुरन्त खत्म नहि कयल जा सकैत अछि, कम करबाक वचन दैत छी आ खत्म होइ […]