Home » Archives by category » Article (Page 139)

Yog Ki Thik: Geetaa

Yog Ki Thik: Geetaa

औझका प्रसाद (Today’s Bliss): (पुनरावृत्ति – जुन २०१२ उपरान्त) अनुरोध: एक बेर मे पढला पर कम बुझायत, दोसर बेर ताहि सँ बेसी, तेसर बेर आरो बेसी आ बेर-बेर पढब तऽ अमृतपान करब समान अनुपम अभीष्टक प्राप्ति होयत। तैँ, कनेक मन थिर कऽ के आजुक साधना – स्वाध्याय करब। बहुत अनुपम प्रसाद थी ई: (योग करब […]

Antar-Rashtriya Maithili Kavi Sammelan 2015: Chautarafaa Saraahanaa

Antar-Rashtriya Maithili Kavi Sammelan 2015: Chautarafaa Saraahanaa

अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली कवि सम्मेलनक चौतरफा सराहना   भारत, नेपाल, अरब तथा कतार सहित अनलाइन सहभागी विभिन्न देश सँ मैथिली साहित्यसेवी, कवि व विद्वानादिक संग संस्कृतिकर्मी अभियानि लोकनिक एक तरह सँ कुंभ मेला समान एकत्रित होयबाक लेल विराटनगर मे आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली कवि सम्मेलन-२०१५ केर चौतरफा चर्चा कैल जा रहल अछि। विराटनगर नेपाल मे लोकतंत्र स्थापित करनिहार आर […]

Ke Likhat Naatak – Pradeep Bihari

Ke Likhat Naatak – Pradeep Bihari

आलेख: के लिखत नाटक? – प्रदीप बिहारी मैथिलिए नहि भारतक आन-आन भाषा सभमे सेहो मौलिक नाटक लिखनिहार बड़ थोड़ अछि। एखनहुँ साहित्यक आन विधाक अपेक्षा नाटक लिखनिहारक संख्या कम अछि। नाटक लिखनिहारक संख्या कम होयब चिन्ताक विषय थिक। जँ संख्या आ अभिलेखक दृष्टिएँ देखल जाय तँ मैथिलीमे कम नाटक नहि लिखायल अछि, मुदा रंगमंचीय दृष्टिसँ बहुत […]

चिन्ता नहि, कर्म करू!

चिन्ता नहि, कर्म करू!

मैथिलीसेवी सँ मैथिली (सीताक) पुकार: – प्रवीण नारायण चौधरी चिन्ता नहि कर्म करू, हम आबि रहल छी डेग आगू बढि चलू, हम देखि रहल छी जुनि बुझू माँ हेरा गेली, हम संग ओतै छी सत्यमार्गी बनल रहू, हम बुझि सकै छी हर क्षण बदले देश, प्रकृति तहिना छै मुदा न बदले सत्य, एकटा सत्य इहा […]

सुनू भाइ हमर पुकार

सुनू भाइ हमर पुकार

सुनू भाइ हमर पुकार – प्रवीण नारायण चौधरी मातृभाषा संग शत्रुता – भेषहु केर प्रतिकार पहिरि धोती चमकि देखा – भेटत कि अधिकार!! पसरल अछि अशिक्षा – कूरीतिक अंबार जातिवादी सम दावानल – दूर केना अँधकार!! माँगय छी समदृष्टि सँ – समावेशीक सरकार दंभ भरल संख्याबल केर – बेसीक नेता भरमार!! विद्या-बुद्धि आ पौरुषबलकेँ – […]

Vishwa Dharohar Diwas: Mandan Dham, Mahishi

Vishwa Dharohar Diwas: Mandan Dham, Mahishi

सुभाषचंद्र झा, मंडनधाम, महिषी, सहरसा। मैथिली जिन्दाबाद – मार्च १८, २०१५. मंडन धाम (महिषी) मे विश्व धरोहर दिवस मनाआेल गेल। पुरातत्त्व विभाग व ग्रामीण सबहक सहयोग सँ महान् विभूति मंडन मिश्रक जन्मभूमि केँ सुरक्षित, संरछित आ जगजियार करबाक आवश्यकता रहबाक बात पर जोर देल गेल। एहि अवसर पर वक्ता सभ स्वतः प्रमाणम् परतः प्रमाणम् सिद्ध भूमि […]

गुगल मैथिलीक 3 साल

गुगल मैथिलीक 3 साल

“गुगल मैथिलीक 3 साल” टेक-मिथिला | झाचंदन | नव दिल्ली | 17 अप्रिल, 2015 05:25 PM IST क़ुनु देश, प्रांत वा क्षेत्रक पहिल पहिचान ओक्कर भाषा होएत अछि। विश्वक सबसौं पुरान भाषा मs सs एक मैथिली भाषा छैक जेक्कर पहिचान भारतीय संविधान मs 2003 आ नेपाली संविधान 2063 वि.सं. साल अर्थात् 2007मs भेटल| संविधानमे मान्य स्थान भेटलाक बाद मैथिली केर प्रयोग शनैः-शनैः आन स्थल जेनाकि […]

Saras Maithili Book: Dhari Prashna E Uthaiya

Saras Maithili Book: Dhari Prashna E Uthaiya

मैथिली पोथी सियाराम झा सरसक कविता: धरि प्रश्न ई उठैए ई नव प्रस्तुति झारखंड मिथिला मंच द्वारा प्रकाशित आदरणीय सरस केर गोल्डेन जुबिली मैथिली सेवावर्ष यानि ५० वर्ष पूरा भेलाक उपलक्ष्य मैथिली पाठकवर्ग लेल उपलब्ध भेल अछि। मूल्य अछि २०१ टाका। प्रकाशक केर नंबर अछि – ९३३४२२४८७०, ९४३१५००९८२ आ प्रकाशक संयोजन केनिहार मनोज मिश्र द्वारा […]

Maithili Jindabaad Kona

Maithili Jindabaad Kona

मैथिली हरदम जिंदाबाद अछि आ रहबो करत पंकज कुमार झा, मैथिली जिंदाबाद ई शब्द केँ अगर हम शास्वत आ सनातन कही तँ कोनो अतिश्योक्ति नहि होयत. सब सँ पहिने मिथिला आ मैथिली शब्द केर गप्प करी तँ ई शब्दे अपना आपमे चीरंजीविताक प्रतीक अछि. रामायण केर एक कथाक अनुसार ओए समय मे मिथिलाक राजा निमि […]

सम्भावना: मैथिली पोथी

सम्भावना: मैथिली पोथी

युवा साहित्यकार चंदनकुमार झा केर चारिम पोथी ‘सम्भावना’ जाहि मे मैथिली साहित्यकेँ विस्तार दैत हाइकु आ सेर्न्युकेर संग्रह कैल गेल अछि से आब पाठकवर्ग लेल उपलब्ध अछि। रचनाकारक शब्द मे:     “सम्भावना” ( मैथिली हाइकु-सेनर्यु संग्रह), हमर चारिम पोथी अगिला सप्ताहसँ विक्री’क हेतु उपलब्ध रहत । पोथीक दाम-१०० टाका अछि । इच्छुक पाठकवृन्द पोथी […]