Home » Archives by category » Article (Page 129)

बैदेशिक रोजगारसँ फाइदा/बेफाइदा

बैदेशिक रोजगारसँ फाइदा/बेफाइदा

– आलेख – बिन्देश्वर ठाकुर, दोहा, कतार (मूल: जनकपुर, मिथिला, नेपाल)! मैथिली जिन्दाबाद!! एखनुक समय २१म शताब्दी अछि । बहुते किछु बदैल गेल छैक आ बहुते किछु एखनो बदैलिए रहल छैक । मानव सभ्यताक बिकास सँ एखनधरि तक निरन्तर उन्नती – प्रगतीके तरफ बढि रहल मानव समुदाय आब पूर्णत: भौतीकवादी जुगमे प्रवेश कS लेने अछि […]

दुनिया छै बेकार

दुनिया छै बेकार

गजल रौ मिता, रौ सङ्गी, हेरौ यार स्वार्थ बिना दुनिया छै बेकार॥   झुठेके बिया बुनि, झुठेके करै खेती दुनिया त छी झुठ-फुसके ब्यापार॥   क्षणभरि मे बाजी मारिलै, पतो नै होय जेना चलाक नढिया निकलै धारे-धार॥   ऐ कोठीके चाउर, करै ओइ कोठीमे रामवरण-प्रचण्डके लीला अपार॥   आहिरो बा देखही कोइ बिना खेनै मरै […]

एक बात कही

एक बात कही

– प्रवीण नारायण चौधरी एगो बात कही!! कत्ते केँ थोबड़ा देखू जे टैग करय छी घड़ी-घड़ी देखल सबटा रंग झूठे जपैत रहै छी हरि-हरि!! काज बेर लुकान लेब आर घड़ी कते फोटो टांगी कहलो पर अन्ठेने भला बखानी कि-कि करी-भरी!! छोड़ू लटका-झटका आ तेल चुएनाय चुलबुली पेट खड़ नै रहत तँ सींग चमक कि जरी-मरी!! […]

सैँ-बौह केर झगड़ा

सैँ-बौह केर झगड़ा

व्यंग्य प्रसंग बात कोन बड़ पैघ छलैक सेहो नहि, बस एतबी टा कहनाय कि ‘कतेक नीक होइत जे हमरो बियाह कोनो कोसीक्षेत्रीय मैथिली कन्याक संग होइत….’ – एतेक सुनिते कनियैन समूचा घर केँ माथ पर उठा लेली… अन्ट-शन्ट बाजैत गेली… ‘के करितय अहाँ संग बियाह… ओ तऽ हमर बाबुक मति फिरि गेल छलनि… नहि जाइन […]

सुन्दर गाम: बनगाँव

सुन्दर गाम: बनगाँव

सौजन्य: जय हो बन्गाम, बनगाँव, सहरसा। मई १८, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! “स्वर्ग केर प्राचीनतम गाम मे एक – बनगाँव केर संक्षिप्त विवरण” मिथिलाक सहरसा जिला मे कहरा प्रखंडक बनगाँव गाम प्राचीनकालीन गाम अछि, जतय लक्ष्मीश्वरनाथ महादेव खुद बाबा लक्ष्मीनाथ विराजय छथिन। एकर अगल-बगल में वाणेश्वर, माँ दुर्गा मन्दिर सेहो बहुत प्रसिद्ध अछि। बनगाँव मिथिलाक प्राचीनतम गाम […]

मैथिली-मिथिला अभियानी, विद्वान् तथा समाजसेवी डा. सत्यनारायण महतोक अभिनन्दन ग्रंथक लोकार्पण

मैथिली-मिथिला अभियानी, विद्वान् तथा समाजसेवी डा. सत्यनारायण महतोक अभिनन्दन ग्रंथक लोकार्पण

दलसिंहसराय सँ प्रो. उदय शंकर मिश्र जनौलनि अछि जे आइ सुप्रसिद्ध मैथिलीसेवी – मिथिला राज्य अभियानी डा. सत्य नारायण महतो केर जीवन पर आधारित अनेको घटना-परिघटना, सामाजिक, सांस्कृतिक व राजनैतिक योगदान आदिकेँ समग्र संग्रह रूप सहित श्री भोलानाथ मधुकर रचित अभिनन्दन ग्रंथ केर लोकार्पण समारोहपूर्वक कैल जा रहल अछि। एहि ग्रंथक नाम ‘सत्यनारायण’ राखल गेल अछि। […]

बाबाजी लक्ष्मीनाथ गोसाईं पर महाकाव्यक रचना: मैथिली कवि निरज केर महारचना

बाबाजी लक्ष्मीनाथ गोसाईं पर महाकाव्यक रचना: मैथिली कवि निरज केर महारचना

सुभाषचंद्र झा, सहरसा। मई १७, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! मिथिलाक सिद्ध संत शिरोमणि योगीराज परमहंस लक्ष्मीनाथ गोसाईं महाकाव्यक रचना मैथिली मे भेल, जनिकर रचैता प्रो. अरविन्द कुमार मिश्र ‘नीरज’ छथि। एहि महाकाव्य केँ 15 सर्ग मे छन्दोबद्ध कयल गेल अछि। जाहि मे गोसाईंजी उपाख्य, बाबाजी केर महिमाक गुणगान भेल अछि। श्री नीरज कहलनि जे महाकाव्यक रचना बाबाजीक […]

पतिक दीर्घायुक कामना संग पत्नी द्वारा वट-सावित्री व्रत: मिथिला मे बरसाइत पाबनि

पतिक दीर्घायुक कामना संग पत्नी द्वारा वट-सावित्री व्रत: मिथिला मे बरसाइत पाबनि

कृष्ण मोहन चौधरी । सिरहा, जेठ ३ गते। मैथिली जिन्दाबाद!! पतिक दीर्घायुक कामना करैत आइ रविदिन मिथिलान्चलक महिला बरसाइत (वट सावित्री व्रत) पाबनि पूजती। व्रतालु महिला भोरे सँ नदी वा पोखरि मे जा क’ स्नान कय बरक गाछतर परम्परागतरुपसँ पूजा-पाठ हेतु उपस्थित हेतीह। मिथिला क्षेत्र मे वा मिथिलानी महिला आनहु क्षेत्र मे बहुत श्रद्धाक संग […]

कहियो भोर नहि भेलैक, हिरियाक रातिक

कहियो भोर नहि भेलैक, हिरियाक रातिक

सांझ बड़ डराओन रंगीन होयत क्षितिज एकरा लेल, रंगीला नहि कहियो; ढलैत दिन, उतरति राति – भयावह बहुत डरबैछ, पैघ होयत छाया; खोपड़ि मे बैसल टकटकी लगौने मुनियां-सोनी-रधिया, भयातुर; बड़ खतरनाक, नशा मे धुत्त, हरिया, नढिया सभक कोरस, पड़ोसक लकड़बग्धा, गहराइत राति, डरबय बासि-पुरान, अंदेसा सभक दुहराव, बेर-बेर धड़धड़ करैत छाती! काज संऽ घुरैत हिरिया […]

वैदिक विवाह मे पति एवं पत्नी बीच सात प्रतिज्ञाक वर्णन

वैदिक विवाह मे पति एवं पत्नी बीच सात प्रतिज्ञाक वर्णन

वैदिक विवाह पद्धति मे सप्तपदी एक एहेन प्रक्रिया थीक जेकरा बिना विवाह पूर्ण नहि होइत छैक, कनियां केँ वामांगी तक नहि मानल जाइत छैक, कुमारिपन सेहो अन्त नहि होइत छैक। पहिले वर अपन कनियां सँ कहैत छथि: ॐ इष एकपदी भव सा मामनुव्रता भव विष्णुस्त्वानयतु पुत्रान् विन्दावहै बहूंस्ते संतु जरदष्टय: ॥1॥ ॐ ऊर्जे द्विपदी भव […]