Home » Entries posted by प्रवीण नारायण चौधरी

Stories written by pravinnchoudhary
कोरोना संक्रमण आ वैश्विक संकटः नागरिक पत्रकारिता एकमात्र विकल्प

कोरोना संक्रमण आ वैश्विक संकटः नागरिक पत्रकारिता एकमात्र विकल्प

आलेख – धर्मेन्द्र झा (नेपाली सँ मैथिली अनुवाद – ध्रुव कुमार झा, जनकपुर) अखन सम्पुर्ण मानव सभ्यता वैश्विक महामारी कोरोनाके ल’क’ आक्रान्त बनल छइ । मनुख्खके हरेक युग आ समयमे सूचना आवश्यक अछि तकर इतिहास साक्षी छैक । सुचना मनुख्खके सब आवश्यक्ता पूरा करैत छइ आ सब समस्याके समाधान करैत छैक से बिश्वाश कएल जाइत […]

भगवान् नहि करथि चांदनी जेकाँ दोसर कोनो बेटीक भाग्य हो, जिबितो दुःखी आ मरलाक बादो गति नहि

भगवान् नहि करथि चांदनी जेकाँ दोसर कोनो बेटीक भाग्य हो, जिबितो दुःखी आ मरलाक बादो गति नहि

भगवान् नहि करथि जे….   जे घटना आइ चांदनी झा नाम्ना एक बेटीक संग भेल सेहो कोनो आर बेटी संग घटय।   किछु लोक ‘दहेज मुक्त मिथिला’ पर आयल शिकायत व आरोप जे मिथिलाक एक बेटी चांदनी झा केर हत्या दहेज उत्पीड़न सँ ओकर पति द्वारा कयल गेलैक, ई समाचार गलत आ एकतर्फा लागि रहल […]

प्रधानमंत्री मोदीक ट्विट धरि पहुँचलाह प्रवेश मल्लिक

प्रधानमंत्री मोदीक ट्विट धरि पहुँचलाह प्रवेश मल्लिक

किसलय कृष्ण, सम्पादक, मैथिली जिन्दाबाद। मिथिलाक युवा स्वरकेँ निरन्तर भेटि रहल ख्याति #मैथिली_संगीतक_दीपमे_सार्थकताक_टेमी_उकसाबैत_युवा_प्रवेश_मल्लिक मैथिलीमे आइकाल्हि प्रतिदिन यूट्यूब आ फेसबुकक माध्यमे दर्जनो गीत रिलीज भ’ रहल अछि, जाहिमे अधिकांशक शब्द, सुर, लय, ताल मथदुक्खी उठबय वला रहैत अछि आ संगीतक त’ बाते नहि कयल जाय…. हाँ किछु गीत अपन शब्द सामर्थ्य संग सेहो उपस्थित रहैत अछि, […]

चांदनी झा केर हत्या या आत्महत्या – दहेज उत्पीड़नक बलि चढल एक आर बेटी (लाइव अपडेट)

चांदनी झा केर हत्या या आत्महत्या – दहेज उत्पीड़नक बलि चढल एक आर बेटी (लाइव अपडेट)

३० मार्च २०२०, मैथिली जिन्दाबाद!! समय 8:16 PM एखन तुरंत एक दुखद समाचार भेटल जे दहेजक कारण दिल्लीक बिपिन गार्डेन में एक चांदनी झा नाम्ना बेटीक हत्या ओकर पति द्वारा कय देल गेल…😢 चांदनी झा दहेज हत्याकांड अपडेट, समय 11:58 PM ई छियैक मेडिकल रिपोर्ट जे कोनो प्राइवेट अस्पताल सँ बनबेलक अछि, स्पष्ट छैक जे […]

लघुकथा – दामिनी केर जीवन

लघुकथा – दामिनी केर जीवन

– ई. राघव मिश्र हम राघव मिश्रा आइ लाकडाउन मे मातृभाषा मैथिली मे एगो प्रस्तुति राखि रहल छी। अहाँ सभक आशीर्वाद के आकांक्षी छी। दामिनी नामक एगो लड़की कंकड़बाग, पटना मे कोचिंग करैत छल। एकदिन किछु मनचला द्वारा ओकरा अपहृत कय लेल गेलैक। दामिनी के मुंह एतेक जोर स बान्हल गेल रहय कि ओ चिचिया […]

कोरोना केर संक्रमण पूरे विश्व मे – इटली सर्वाधिक प्रभावित कियैक

कोरोना केर संक्रमण पूरे विश्व मे – इटली सर्वाधिक प्रभावित कियैक

कोरोना सँ डरबाक नहि लड़बाक जरूरत   कोरोना वायरस – कोविड १९ केर आउटब्रेक संसारक बहुल्य देश केँ अपन चपेट मे लय लेने अछि। एखन सब सँ भयावय दृश्य इटली मे होयबाक बात यत्र-तत्र सुनि रहल छी। अमेरिका, स्पेन, आदि आरो किछेक राष्ट्र मे एकर भयंकर संक्रमण होयबाक समाचार भेटैत अछि। समाचारक स्रोत कतेक विश्वसनीय […]

कोरोना – एक संवेदना सँ भरल चिट्ठी

कोरोना – एक संवेदना सँ भरल चिट्ठी

कोरोना वायरस संक्रमण – मासुम लोक आ जानवर लेल आफदक समय मानवीय गुण मे करुणा केँ अनमोल कहल गेल अछि। एक पत्र जे हमर प्रिय सारि (sister-in-law) लिखलनि अछि कोरोनाक सन्दर्भ काल्हिक किछु लेख-विचार सुनि-बुझिकय…. ई अत्यन्त हृदयस्पर्शी लागल। कोरोना संक्रमण केर प्रभाव मानवक स्वास्थ्य पर जेना-जे असर कय रल छैक, ताहि सँ ऊपर एकर […]

कोरोना – हमर विचार काव्य

कोरोना – हमर विचार काव्य

कोरोना – हमर विचार – अम्बिका चौधरी, बीए (जर्नलिज्म), सीएमएस, जैन युनिवर्सिटी, बंगलुरु   बहुत प्रताड़ित कयलहुँ अहाँ सब हमरा अपन हड़बड़ाहट सँ आबि गेल हमर बारी, करय दिअ मोहित अहाँ सबकेँ अपन चहचहाहट सँ   जहिना पागल लेल नहि होइत अछि कोनो विचारधारा नहि कोनो घेरा May be they are sane! तहिना कोरोना बनि […]

कोरोना – प्रकृति द्वारा पूर्वस्थिति मे वापसीक निरन्तरता

कोरोना – प्रकृति द्वारा पूर्वस्थिति मे वापसीक निरन्तरता

कोरोना – Continuous Roll Back By Nature (कोरोनाः प्रकृतिक पूर्वस्थिति मे वापसीक निरंतरता) – देवांशी चौधरी, बी-टेक (प्रथम वर्ष), वीआईटी युनिवर्सिटी, वेल्लोर बहुत अजीब लागि रहल अछि हमरा ई सोचिकय जे काल्हि तक जे दुनिया भरिक लोक अलग-अलग विषय मे अपन-अपन अलग-अलग राय द’ क’ लड़ैत रहय pro-CAA anti-CAA, हिन्दू-मुस्लिम, रोनाल्डो-मेशी, आदि मुद्दा पर, आइ […]

खतरा त आबि गेल अछि मानव अस्तित्व पर, बचाव कोना करब?

खतरा त आबि गेल अछि मानव अस्तित्व पर, बचाव कोना करब?

मानवीय संसार पर खतराक संकेत   सर्वविदिते अछि जे हिन्दू धर्मशास्त्र विभिन्न मानवीय युग केर चर्चा करैत अछि, सतयुग, त्रेता, द्वापर आ कलियुग। युगक आदि आ अन्त केर कथा-गाथा प्रचलित अछि। विभिन्न शास्त्र आ पुराण मे युगों-युगोंक बात-विचार समाहित कयल गेल अछि। मानव संसार सदिखन प्राचीन घटना आधारित अथवा ऐतिहासिक-पुरातात्विक विषय पर अध्ययन करैत रहैत […]

Page 1 of 316123Next ›Last »