Home » Entries posted by प्रवीण नारायण चौधरी

Stories written by pravinnchoudhary
मिथिला रत्न केर खोज लेल वृहत् सहकार्यक आवश्यकता

मिथिला रत्न केर खोज लेल वृहत् सहकार्यक आवश्यकता

विचार – प्रवीण नारायण चौधरी मिथिला रत्न किनका मानल जाय   सामान्यतया अपन मिथिला सभ्यता लेल मूल्यवान् योगदान देनिहार व्यक्तित्व केँ ‘मिथिला रत्न’ कहल जा सकैत अछि। मुदा विगत कतेको समय सँ ‘मिथिला रत्न’ उपाधि सँ सम्मान प्रदान करबाक कार्य पर कइएक प्रकारक सवाल ठाढ़ कयल जेबाक कारणे हमहुँ दुविधा मे पड़ि गेल छी जे […]

दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिलीक पढौनी पर भटकल आलोचना छन्हि प्रो. अपूर्वानन्द केर

दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिलीक पढौनी पर भटकल आलोचना छन्हि प्रो. अपूर्वानन्द केर

२२ अक्टूबर २०१९. मैथिली जिन्दाबाद!! दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिलीक पढौनी पर भटकल आलोचना छन्हि प्रो. अपूर्वानन्द केर   अपूर्वानन्द (दिल्ली विश्वविद्यालयक हिन्दी विभाग मे कार्यरत एसोशियेट प्रोफेसर) केर लेख “डीयू में मैथिली? राजनीति में इस्तेमाल की चीज रह गई है भाषा’ शीर्षक केर लेख पढल। कय बेर पढिकय हुनकर सब बात बुझबाक चेष्टा कयल। श्री […]

दहेज मुक्त विवाह करनिहार दूल्हा लोकनि सँ अपील – खुल्ला पत्र

दहेज मुक्त विवाह करनिहार दूल्हा लोकनि सँ अपील – खुल्ला पत्र

प्रिय दहेज मुक्त विवाह करनिहार युवा लोकनि,   ई खुलल पत्र हम आवश्यकता मे अहाँ सभक नाम लिखि रहल छी। आवश्यकता केहेन सेहो कहि दैत छी। दहेज मुक्त विवाह करनिहार दूल्हा आ हुनकर परिवार पर कन्यापक्षक लोक केँ कइएक प्रकारक शंका-उपशंका होइत छन्हि आर ईहो एकटा कारण छैक जे कतेको गार्जियन बिना दहेज गनौने कन्यापक्ष […]

वैश्विक सिनेपटल पर मैथिलीक दस्तकः गामक घर

वैश्विक सिनेपटल पर मैथिलीक दस्तकः गामक घर

किसलय कृष्ण, समाचार सम्पादक । २२ अक्टूबर २०१९, मैथिली जिन्दाबाद । नहुँए नहुँए अग्रमुखी भ’ रहल अछि मैथिली सिनेमा । राष्ट्रीय राजधानी दिल्लीमे मैथिलीक चिर प्रतीक्षित आ व्यावसायिक फिल्म लव यू दुल्हिन दू टा पीवीआरमे अप्पन सफलतम धम्मक द’ कय आगूक तैयारीमे अछि । कहियो पटनाक मल्टीप्लेक्स सिनेपोलिससँ ललका पाग जे यात्रा आरम्भ कयने छल […]

दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिलीक पढाइ लेल आपसी समन्वय बैसार

दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिलीक पढाइ लेल आपसी समन्वय बैसार

दिल्ली, २२ अक्टूबर २०१९ । मैथिली जिन्दाबाद!! दुइ चरण उपरान्त तेसर चरण केर कार्य लेल संस्थागत समन्वय दिल्ली विश्वविद्यालय मे मैथिली पढौनी लेल मैथिली साहित्य सम्मेलन द्वारा निरन्तर प्रयास करबाक क्रम मे विगत २० अक्टूबर केँ हिन्दी भवनमे ‘दिल्ली विश्वविद्यालयमे मैथिलीक पढ़ाइ’ अभियान पर बैसारक आयोजन कएल गेल छल। मैसासक अध्यक्ष संजीव सिन्हा जनतब देलनि […]

दहेज मुक्त मिथिला फेसबुक समूह पर मिथिलानी लोकनिक उच्च मूल्यक सारगर्भित विमर्श

दहेज मुक्त मिथिला फेसबुक समूह पर मिथिलानी लोकनिक उच्च मूल्यक सारगर्भित विमर्श

आइ अपने सभक सोझाँ एकटा नव जनतब राखय चाहब। दहेज मुक्त मिथिला फेसबुक पर पहिने खुलल समूह रहैक जे संयोग सँ एखन बन्द समूह छैक, सिर्फ सदस्य टा एहि समूह पर भऽ रहल गतिविधि सब देखि-पढि सकैत अछि। आइ-काल्हि एतय एडमिन वंदना चौधरी सहित कतेको मूल्यवान् सदस्य सब बहुत उच्च मूल्यक चर्चा करैत छथि आर […]

डा. बैद्यनाथ चौधरी बैजूक जन्मदिन पर प्रवीण शुभकामना

डा. बैद्यनाथ चौधरी बैजूक जन्मदिन पर प्रवीण शुभकामना

दिवस विशेष सन्देश – प्रवीण नारायण चौधरी डा. बैद्यनाथ चौधरी ‘बैजू’ केर जन्मदिन पर प्रवीण शुभकामना   मिथिलाक प्रणेता आ नेता डा. बैद्यनाथ चौधरी ‘बैजू’ केर आइ जन्मदिन होयबाक सूचना फेसबुक नोटिफिकेशन सँ प्राप्त भेल अछि। जनक-जानकीक मिथिला, विद्यापतिक मिथिला, सलहेश-दीनाभद्रीक मिथिला, कर्पूरी-लोहियाक मिथिला, डा. लखन बाबू आ जानकीनन्दन सिंह केर मिथिला, बाबूसाहेब चौधरी आ […]

नेपाली गायन सँ मैथिली गायन मे नव तारा नितिन गजुरेलक जोरदार प्रस्तुति

नेपाली गायन सँ मैथिली गायन मे नव तारा नितिन गजुरेलक जोरदार प्रस्तुति

विद्यानन्द बेदर्दी, २१ अक्टूबर २०१९ । मैथिली जिन्दाबाद!! मैथिली सङ्गीत आकासमे नव ताराक उदय ई पहिल गीतसँ “चान सन रूप ई देखि देखि, मिलैय अइ जिनगीमे आराम अप्पन दिलके डायरीमे लहूक कलमसँ, लिखि देलौँ अहीँकेर नाम सङ्ग छोड़ब नइ कहैछी कसमसँ, मिलि सजेबै हम सपनाके गाम ” सिरहा, मिर्चैया आर हाल विराटनगर, मोरङ्ग रहनिहार (जिनक […]

गौतम बाबूक शक्ति पूजा

गौतम बाबूक शक्ति पूजा

कथा – किरण प्रभा गौतम बाबू क शक्ति पूजा न मन्त्रं नो यन्त्रं तदपि च न जाने स्तुतिमहो, न चाह्वानं ध्यानं तदपि च न जाने स्तुतिकथा:॥ अहि प्रकारे गौतम बाबू पहिल दिन अपन शक्ति पूजा क विराम देलैन। पूजा समाप्तिक संगे कानियां केँ आवाज लगेलैथ, “कतय छी यै! मरि गेलौं की जिबैत छी! हमर पूजा […]

गोपाल मोहन मिश्रक आधा दर्जन रचना

गोपाल मोहन मिश्रक आधा दर्जन रचना

साहित्यः किछु कविता – गोपाल मोहन मिश्र १. जिंदगी एक रहस्य जिबैत जिबैत जिंदगी नै पता कखनि जुआ भै गेल। समझलहुं जेकरा आगि, एक फूंक में धुआँ भै गेल। सभ किछु लगा दांव पर सभ किछु गेलहुं हम हारि। मन रहल पाषाण सन, ठाढ़ बीच बाज़ारि। गलत कौन सन बाज़ी, ग़लत कौन सन छल दांव। […]

Page 1 of 306123Next ›Last »